हमारी सेनायें शत्रु परविजयी हों

ओउम
हमारी सेनायें शत्रु परविजयी हों

डा अशोक आर्य ,मण्डी डबवाली
आज विश्व का प्रत्येक देश अपनी सेनाओं की विजय की कामना करता है | विश्व विजेता होने का गौरवपूर्ण स्थान प्राप्त करना प्रत्येक की लालसा है | किन्तु यह सब कैसे संभव है ? इस स्वप्न को साकार करने के लिए प्रत्ये सैनिक का शूरवीर होना आवश्यक है | आज का युग तो है ही विशेषग्य का | जिस के पास युद्ध कला की विशेष योग्यता होगी, वह ही विजयी हो सकता है | विश्व तो क्या एक छोटेसे क्षेत्र को विजयी बनाने के लिए भी योग्यता की आवश्यकता है | अथर्ववेद राजनीति का वेड है | हम किस प्रकार की निति अपनावें, किस प्रकार का अभ्यास करें कि हमें अन्यों पर विजय मिल सके | इस का अथर्ववेद में विस्तार से विचार किया गया है | विश्व विजय का स्वप्न देखने वाले के लिए अथार्व्वेद का स्वाध्याय अवश्य करना चाहिए | आज कि राजनीति ही विजय व पराजय का मार्ग बतलाती है | इस मार्ग को जानने के लिए इसे अवश्य पढ़ें | योद्धा विजय प्राप्त करें, यह कामना अथार्व्वेद के मन्त्र १९.१३.२ मैं इस प्रकार कि गयी है : –
आशु : शिशानो वृषभो न भीमो ,
घनाघन: क्शोभानाश्चर्श्निनाम |
स्न्क्रन्दनो$निमिष एकवीर :,
शतं सेना अजयत साक्मिन्द्र: || अथर्ववेद १९.१३.२||
शब्दार्थ : –
आशु:) तीव्रगति (शिशान: )तीक्षण शस्त्रधारी, तेज बुद्धि ( वृषभ : न) सांड कि भाँती (घनाघन:) भयंकर शत्रुओं का नाशक (चर्श्निनाम)शत्रुओं को (क्षोभन:) भयभीत करने वाला (स्नक्र्न्दन:) शत्रुओं को युद्ध के निमित ललकारने वाला (अनिमिष:)अत्यंत
सावधान दृष्टि (एकवीर:) अद्वितीय वीर (इंद्र) इंद्र ने (शतं सेना) शत्रु कि असीमित या सैंकड़ों सेनाओं को (साकम) एक बार में ही (अजायत) जीतता है |
भावार्थ : –
तेज गति से तीक्षण अस्त्रों को धारण कर शत्रु का विनाश व् शत्रु पर भयानक बनाकर युद्ध में ललकारने वाले अत्यंत सावधान अद्वितीय वीर इंद्र ने शत्रुओं कि सैंकड़ों सेनाओं को एक साथ ही जीत लिया |
इस मन्त्र में एक महान योद्धा का बड़े ही सुन्दर ढंग से चित्रण किया गया है | योद्धा को किस प्रकार से कार्य करना चाहिए , किस प्रकार के साधनों का युद्धक्षेत्र में प्रयोग करे तथा किस प्रकार से सफलता का वरण करे , इस सब की चर्चा इस मन्त्र का विषय है | इस निमित देवसेना के नायक इंद्र के शौर्य व वीरता का उल्लेख करते हुए कहा है कि इंद्र ने शत्रुओं कि सैंकड़ों सेनाओं पर एक साथ विजय प्राप्त की |
इंद्र ने शत्रुओं की सैंकड़ों सेनाओं को एक साथ जीत लिया | इंद्र की इस सफलता का रहस्य क्या है, जिसे हम भी अपना कर विश्व विजय के स्वप्न को साकार कर सकें ? मन्त्र विजय के इस प्रश्न का उत्तर इस प्रकार देता है की इंद्र आत्मबल, निर्भीकता तथा साधन सम्पन्नता थी | यह तिन ऐसे तत्व है, जो ल्किसी भी सफलता के लिए आवश्यक होते हैं | बिना आत्मबल के विजय तो क्या किसी के ऊपर आक्रमण करने की सोचा भी नहीं जा सकता | एक व्यक्ति के पास आत्मबल तो है किन्तु न तो वह निर्भय है तथा न ही उसके पास साधन ही हैं की वह किसी पर आक्रमण कर सके , एसा व्यक्ति भी युद्ध मैं विजय श्री को नहीं पा सकता | अत: किसी भी प्रकार के युद्ध में सफलता के लिए इन तीनों तत्वों का स्वामी होना आवश्यक है | यह तिन तत्व ही विजय का मुख्या आधार हैं | इन के अतिरिक्त योद्धा मैं कुछ अन्य गुणों का होना भी आवश्यक है | यह गुण है : – : –
(१) तीव्रगति हो : –
युद्ध क्षेत्र में सदा तीव्रता से ही विजय प्राप्त की जा सकती है | जिसकी स्वयं की गति तीव्र है, जिस के घोड़े उत्तम कोटि के तेज गति वाले है, जिसके वाहन तेज चलते हैं , जिसके पास उच्चकोटि की प्रद्योगिकी से युक्त विमान आदि हैं की शत्रु को संभालने से पूर्व ही उसे दबोच ले, एसा योद्धा ही युद्ध क्षेत्र में सफलता पा सकता है |
(२) उत्तम शस्त्रों से संपन्न हो : –

योद्धा के पास केवल गति तीव्र होने से कुछ नहीं होने वाला | तीव्र गति से यदि आप ने शत्रु में घुस कर उसे चुनोती दे दी किन्तु आप शस्त्र विहीन हैं या उत्तम शस्त्रों से रहित है , शत्रु के मुकाबले अच्छे शस्त्र नहीं हैं तो विजयी नहीं होंगे अपितु शत्रु दल में घिर जाने से मारे जाओगे | आज वही विजेता होता है , जिसके पास न केवल तीव्र गति वाले साधन हों साथ ही उसके पास अत्याधुनिक व शत्रु से कहीं उत्तम शस्त्र हों |
(३) युद्ध विद्या मैं निपुण हो : –
गति तीव्र है , शस्त्र भी उत्तम हैं किन्तु युद्ध कला में निपुण नहीं हैं तो भी विजय संभव नहीं क्योंकि जो उत्तम शस्त्र हम लेकर तीव्र गति से शत्रु सेना में घुसेंगे, शस्त्र चलाने की कला में प्रवीण न होने के कारण हम शत्रु सेना पर प्रहार करने से पहले ही पकड़ लिए जावेंगे या मार दिए जावेंगे | अत: शत्रु पर विजय प्राप्त करने की अभिलाषा तब ही पूर्ण होगी जब हम उत्तम शस्त्र प्रयोग करने की विधा को भी अच्छे से जानते होंगे |
(४) निर्भीक हो : –
सैनिक में निर्भीकता का गुण होना भी अति आवश्यक है | वह चाहे कितना ही तीव्रगामी हो , कितने ही उत्तम शास्त्रों से सुसज्जित हो तथा कितना ही उत्तम ढंग से शस्त्रों का परिचालन कर सकता हो, किन्तु तब तक वह विजयी नहीं हो सकता , जब तक वह निर्भय होकर रणभूमि में नहीं खड़ा होता | यदि यह सब उत्तम सामग्री व इस के प्रयोग में प्रवीण होकर युद्ध क्षेत्र में पहुंच तो गया किन्तु युद्धभूमि में भयभीत सा हो कांपते
कांपते शत्रु से मुंह छुपाने का प्रयास कर रहा हो तो वह शत्रु का सामना नहीं कर पाता तथा या तो युद्ध भूमि से भाग खड़ा होता है या पकड़ा जाता है | एसा व्यक्ति कभी योद्धा होने के लायक नहीं तथा निश्चित ही पराजित होता है | अत: विजय के अभिलाषी योद्धा के लिय तीव्रगामी,उत्तम शास्त्रों से सुसज्जित तथा युद्ध कला में प्रवीण होने के साथ ही साथ निर्भीक होना भी आवश्यक है | एक निर्भीक योद्धा युद्ध कला में कुछ कम प्रवीण होते हुए भी अपनी सेनाओं को विजय दिलवा सकता है | अत: विजयी होने के लिए योद्धा के पास निर्भीकता का होना अति आवश्यक है |
(५) असाधारण शक्ति रखता हो : –

युद्ध तो खेल ही शक्ति का है | विजय उसको ही मिलती है जो असाधारण शक्ति का स्वामी हो | असाधारण शक्ति के लिए तीव्र गति से आक्रमण करने की क्षमता, उत्तम शस्त्रों का स्वामी व उनका परिचालन करने की जानकारी, निर्भीकता व aatmvisva से युक्त असाधारण शक्ति का स्वामी होने से शत्रु की सेनायें उस वीर का मुकाबला नहीं कर सकें गी | शत्रु सेनायें या तो भयभीत हो कर भाग जावेंगी, या मारी जावेंगी या फिर आत्म समर्पण कर देंगी | यह आत्मविश्वास की कमी का ही परिणाम था की १९७१ के भारत पाक युद्ध में हमारे से अच्छे शस्त्र व अच्छे सहयोगी होते हुए भी पाकिस्तान की एक लाख से अधिक सेना ने हमारी सेनाओं के सामने आत्म समर्पण कर दिया था | इससे स्पष्ट है की युद्ध क्षेत्र में योद्धा के पास असाधारण शक्ति का भी होना आवश्यक है |
(६) एकाग्रचित हो : –
ऊपर वर्णित सब गुणों के अतिरिक्त एक उत्तम योद्धा, जो विजय की कामना रखता है , युद्ध काल में उसका एकाग्रचित होना भी आवश्यक है | जो युद्ध भूमिं में शत्रु पर गोला फैंकते समय अपने परिजनों की समस्याओं में उलझा है अथवा किसी सुंदर द्रश्य का सपना ले रहा है या किसी अन्य विपति को स्मरण कर रहा है तो उसका ध्यान शत्रु की स्थिति पर न होने से उसका वार तो खाली जावे गा ही अपितु शत्रु का कोई गोला उसकी जान ही ले लेगा | जिस प्रकार अर्जुन को केवल चिड़िया की आँख ही दिखाई देती थी , ठीक उस प्रकार योधा को युद्ध भूमि में शत्रु का मर्म स्थल ही दिखाई देना चाहिए , तभी वह उसे समाप्त कर विजेता बन सकेगा | अत: विजय के अभिलाषी योद्धा के पास एकाग्रचितता का गुण होना भी आवश्यक है |
(७) अपने कार्य को सर्वतोभावेन की भावना से करने वाला हो : –
योद्धा केवल व्यक्तिगत सुख या अहं की पूर्ति के लिए युद्ध न करे | ऐसे योद्धा के साथ कभी भी जनता नहीं होती | जनता के विरोध के कारण उसे विजय की प्राप्ति संभव नहीं हो पाती | यदि वह सर्व जन के सुख को सम्मुख रख रणभूमि में खड़ा है तो जन सहयोग सदा उसके साथ होगा | जनसहयोग साथ होने से उसकी शक्ति बढ़ जावेगी तथा विजय दौड़ते हुए उसके पास आवेगी | इस भावना का युद्ध भूमि मे महत्वपूर्ण स्थान है |
इस सब चर्चा को समझने के लिए इंद्र का अभिप्राय: भी समझना आवश्यक है इंद्र कहते हैं विशेषज्ञ को | जो अपने विषय में पूरी प्रकार से पारंगत हो दुसरे शब्दों में जो अपने विषय का .एच.डी अथवा डी लिट हो , सर्वोच्च ज्ञान पा लिया हो, वह ही अपने विषय का इंद्र होता है | जो योद्धा युद्ध सम्बन्द्धि सब विद्याओं में प्रवीण होता है , उसे रणभूमि का इंद्र कहा जा सकता है | एसा योद्धा एक साथ अनेक सेनाओं का सामना करने और उन्हें पराजित करने की क्षमता रखता है | जब हमारे सैनिक युद्ध कला में इंद्र बन जावेंगे तो निश्चित ही हम सदा विजयी होंगे | मन्त्र में इस लिए ही कहा गया है की इंद्र ने एक साथ अनेक सेनाओं को पराजित कर दिया |
मनुष्य का जीवन भी एक रणभूमि है, जिसमें प्रत्येक मनुष्य अपने जीवन के लक्ष्य को पाने के लिए अनेक युद्धों में उलझा रहता है | वह बड़ी सफलता के साथ रणभूमि में विजेता होकर संसार सागर को पार करना चाहता है , किन्तु माया , मोह, छल , कपट, अहंकार आदि उसे कुछ भी कर पाने में बाधक होते हैं | जो इन बाधाओं की और देखे बिना केवल अपने लक्ष्य पर ही अपनी दृष्टि गडाए रहता है , वह अपने विषय का इंद्र बन सफल होता है, शेष सब पराजित होते हैं | अत: इस संसार सागर के संग्राम मैं हम अपने विषय का इंद्र बन इसे विजय करने का प्रयास करें तो निश्चय ही सफलता मिलेगी |

डा. अशोक आर्य

कुरान समीक्षा : झूठी कसमें खाने का आदेश

झूठी कसमें खाने का आदेश

झूठी कसमों पर खुदा सजा नहीं देगा इस घोषणा से खुदा मुसलमानों को दुनियाँ में अविश्वास योग्य घोषित करके इस्लाम की क्या बेहतरी की है? क्या कुरान ने उनको झूठी कसमें खाने का प्रोत्साहन नहीं दिया है?

देखिये कुरान में कहा गया है कि-

ला युआखिजकुमुल्लाह विल्लगवि………।।

(कुरान मजीद पारा २ सूरा बकर रूकू २८ आयत २२५)

तुम्हारी फिजूल की कसमों पर खुदा तुमको नहीं पकड़ेगा। लेकिन उनको पकड़ेगा जो तुम्हारे दिली इरादे हैं।

समीक्षा

जब झूठी कसमें खाना जुर्म नहीं और मुसलमान दूसरों को झूठी कसमें खाकर यदि धोखा देने लगें तो उनका कौन विश्वास करेगा?

यदि कोई शरीफ आदमी उन पर विश्वास कर बैठेगा तो निश्चय धोखा खाकर नुकसान उठाने वालों में होगा।

अरबी खुदा की क्या यह शिक्षा दुनियां में बेईमानी फैलाने में सहायक न होगी?

अमेरिका – एक विहंगम दृष्टि

अमेरिका – एक विहंगम दृष्टि

– डॉ. धर्मवीर

लगभग एक करोड़ भारतीय अमेरिका में रहते हैं। लाखों भारतीय प्रतिवर्ष अमेरिका की यात्रा करते हैं। अमेरिका के समबन्ध में हमारे देशवासियों की जानकारी बहुत है, फिर भी गत 11 मार्च को अमेरिका आने पर यात्रा में कुछ बातों ने मेरा ध्यान खींचा। वैसे बातें तो बहुत छोटी हैं, परन्तु किसी व्यक्ति के लिये जिज्ञासा को शान्त करने या उत्सुकता उत्पन्न करने के योग्य हो सकती हैं, ऐसी कुछ बातें यहाँ प्रस्तुत हैं-

सबसे पहले इस देश में आने पर जिस बात ने चौंकाया, वह थी हमारे यहाँ किसी बिजली के बटन को प्रकाश के लिये नीचे करना होता है। यहाँ बिजली, पंखा, दरवाजा सभी को खोलने, बन्द करने के लिये बटन को नीचे से ऊपर करना पड़ता है। ऐसा क्यों है? इसको कोई नहीं बता सका, परन्तु ऐसा होता है। एक ही बटन से बिजली का प्रकाश कम-अधिक भी किया जा सकता है। यहाँ बल्ब ही देखने में आते हैं, दण्ड (ट्यूबलाईट) नहीं।

भारत में बायीं ओर चलने की परमपरा है। गाड़ी में चालक का स्थान भी दायीं ओर होता है। भारत में इंग्लैण्ड के कारण ऐसी परमपरा आई है। वहाँ पर सड़क के बायीं और चलने का नियम है, परन्तु अमेरिका में सड़क के दायीं और चलते हैं। यहाँ की बस, कार, ट्रक आदि में चालक का स्थान बायीं ओर होता है, परन्तु डाक बाँटने वाली गाड़ी में चालक दायीं ओर बैठता है, क्योंकि गाड़ी में बैठे-बैठे वह घर के सामने सड़क के किनारे पर लगे डिबे में पत्र आदि डालता जाता है।

छोटी सड़क बड़ी सड़क से मिलती है, तो वहाँ पर स्टॉप लिखा होता है। यहाँ पर आगे कोई वाहन न होने पर भी रुकना होता है, चाहे वह स्थान जंगल ही क्यों न हो।

सड़क को गन्दा करने पर पाँच सौ से हजार डॉलर तक अर्थ दण्ड हो सकता है।

अमेरिका बहुत बड़ा देश है, यह भौगोलिक दृष्टि से भारत से तीन गुना बड़ा है और जनसंखया में तीन गुना छोटा, अतः सब कुछ बहुत खुला-खुला लगता है।

देश का भूभाग बहुत बड़ा होने के कारण यहाँ समय को तीन भागों में बाँटा गया है। तीनों क्षेत्र में अलग-अलग समय होता है। गर्मी-सर्दी में हमारे यहाँ सुविधा के लिये समय बदलते हैं, जैसे ग्रीष्म काल में कार्य का प्रारमभ साढ़े छः बजे होता है तो शीत काल में सात बजे होगा, परन्तु अमेरिका में घड़ी बदली जाती है। काम तो उतने ही बजे होता है, परन्तु मार्च मास में घड़ी एक घण्टा आगे को जाती है तो नवमबर मास में एक घण्टा पीछे को जाती है। देश की सारी घड़ियाँ ऐसे ही चलती हैं।

नगर केन्द्र भाग को डाउन टाउन कहा जाता है। यहाँ ऊँचे भवन, बाजार आदि होते हैं। डाउन टाउन क्यों कहते हैं, कोई नहीं बता पाया।

यहाँ केन्द्रीय सरकार के पास केवल तीन काम हैं- डाक व्यवस्था, सेना और मुद्रा। उसको यहाँ के लोग थ्री एम कहते हैं- मनी, मिलीट्री, मेल। शेष सब कुछ निजी व्यवस्था में हैं।

नियम-कानून की पालना कठोरता से की जाती है। जब यह कहा जाता है कि यह कानून है, फिर कोई प्रश्न नहीं किया जा सकता, फिर तो पालन करना ही होगा।

निर्धारित गति सीमा से अधिक गाड़ी चलाने पर पुलिस पकड़ती है, तो उसे टिकिट देना कहते हैं। तीन बार टिकिट मिलने पर चालक का लाइसेन्स निरस्त कर दिया जाता है। गलत गाड़ी चलाते हुए पकड़े जाने पर बीमे की राशि अधिक भरनी पड़ती है।

आप कहीं से भी पैदल सड़क पार नहीं कर सकते, सड़क पार करने के लिये सड़क के किनारे खमभे पर बटन लगा रहता है, उसे दबाने पर संकेत मिलता है, तभी सड़क पार कर सकते हैं।

सड़कें बहुत चौड़ी और अच्छी बनी हुई हैं। सड़कों पर पुलों की भरमार है। कहीं-कहीं तो एक ही सड़क पर आठ मार्ग आने के और आठ मार्ग जाने के होते हैं, दो-चार-छः तो प्रायः हैं। लमबे मार्गों पर एक कार एक सौ बीस किलोमीटर की गति से प्रायः चलती है। कार में प्रायः एक व्यक्ति यात्रा करता है। घर में हर सदस्य की कार अलग है। सरकार द्वारा एक से अधिक व्यक्ति यदि एक कार में यात्रा करते हैं, तो सड़क पर चलने के लिये अलग से मार्ग दिया गया है।

इस देश में सार्वजनिक वाहन की व्यवस्था बहुत कम स्थानों पर है। यहाँ पर सभी लोग अपनी-अपनी कार से चलते हैं। कहा जाता है कि यहाँ की कार कमपनियाँ सार्वजनिक वाहन व्यवस्था को बनने ही नहीं देतीं, जिससे कार पर चलना सबकी विवशता है। यहाँ समपन्नता बहुत है, बहुत लोग निजी वायुयान रखते हैं, उसी से यात्रा करते हैं।

इसी प्रकार यहाँ की शस्त्र निर्माण कमपनियाँ भी हथियारों पर रोक नहीं लगाने देती। यहाँ शस्त्रास्त्र व्यवसाय बहुत बड़ा है और इनका सरकार पर बहुत प्रभाव है। शस्त्र के लिये अनुमति-पत्र की आवश्यकता नहीं है।

यह देश वैधानिक रूप से एक ईसाई देश है। जब भी कोई नगर या कॉलोनी बनाई जाती है, तो उसमें तीन-चार बड़े-बड़े प्रमुख स्थान चर्च के लिये छोड़े जाते हैं।

नगर, ग्राम सभी स्थानों पर अग्नि-शमन की सपूर्ण व्यवस्था है। अग्निशमन के समय जहाँ से जल लिया जायेगा, वह स्थान लाल रंग से चिह्नित किया गया होता है, वहाँ पर कोई वाहन नहीं खड़ा किया जा सकता, उस स्थान को सदा खाली रखना होता है। यहाँ लोगों में नियम पालन के अयास में सज्जनता से अधिक दण्ड-भय का है, जिससे सब बचना चाहते हैं।

छोटे-से-छोटे स्थान पर अन्य सुविधाओं के साथ-साथ पुस्तकालय होता है। यह प्रतिदिन प्रातः 9 बजे से रात्रि 9 बजे तक खुला रहता है। पुस्तक को कभी भी जमा किया जा सकता है। यह काम कमप्यूटर से होता है। पुस्तक निर्धारित मशीन में डाल दीजिये, आपके नाम पर जमा हो जायेगी। अलमारी में पुस्तक देखने के लिये ऊँचाई के लिये सीढ़ी तथा बैठकर देखने के लिये छोटी चौपाई सब स्थानों पर सुलभ है। बच्चों के लिये पृथक् कक्ष होता है। कमप्यूटर पर काम करने की सुविधा है। पुस्तकालय का उपयोग करने के लिये केवल उस क्षेत्र का नागरिक होना आवश्यक है। कोई शुल्क नहीं लगता। लोग हर समय पुस्तकालय का उपयोग करते देखे जा सकते हैं।

अमेरिका में साबुन से कपड़े धोने की प्रथा नहीं है, अतः इस देश में स्नान के लिये साबुन मिल जाता है, परन्तु कपड़े धोने का साबुन नहीं मिलता।

कपड़े मशीन में धोये जाते हैं और कपड़े सुखाने का कार्य भी मशीन से किया जाता है। घर के बाहर कपड़े सुखाना असभयता समझी जाती है।

यहाँ सार्वजनिक स्थानों पर पीने के पानी के नल लगे होते हैं, परन्तु उनमें पानी ऊपर की ओर निकलता है। नल की धार में मुँह लगाकर लोग पानी पीते हैं। यहाँ पात्र या अंजलि का प्रयोग कोई नहीं करता।

यहाँ शौचालयों में पानी की व्यवस्था नहीं होती। इस देश में भोजनालय से शौचालय तक सफाई का काम कागज से ही किया जाता है। यहाँ रूमाल का प्रयोग करने की प्रथा नहीं है।

दूरभाष या बैट्री चार्ज करने के लिये उपकरण में पिन के स्थान पर पत्ती होती है। अमेरिका में उतरते ही मेरे सामने सबसे पहले यही समस्या आई। मेरे पास पिन वाला चार्जर था, यहाँ पत्ती वाला काम आता है।

यहाँ के निवासियों को बहुत समय होने पर भी भोजन बनाना नहीं आता। इनका भोजन बर्गर, पिज्जा, नूडल, सिरियल्स आदि कुछ भी मिलाकर, कुछ भी बनाने जैसा है। किसी भी भोजन में मैदा और मांस ही मुखय होता है। इनके भोजन में दाल, शाक जैसी कोई कल्पना नहीं है, इसीलिये इनके यहाँ सूप और सलाद की कल्पना की गई है। हमारे यहाँ दाल, शाक, चटनी जैसी चीजों के रहते सलाद सूप की कल्पना नकल से अधिक कुछ नहीं है। यहाँ के लोग दाल-शाक के अभाव में भोजन के साथ कॉफी या कोक का प्रयोग करते हैं।

यहाँ रहने वाले भारतीय प्रायः अपना भोजन रविवार को बना लेते हैं और एक सप्ताह तक गर्म करके खाते हैं।

एक ओर यहाँ शुद्धता का बहुत ध्यान रखा जाता है, परन्तु इनके भोजन में विटामिन, प्रोटीन, मिनरल के नाम पर खाने के पदार्थों में भयंकर मिलावट रहती है। यहाँ आकर कोई यह नहीं कह सकता कि वह शाकाहारी बचा है। यहाँ दूध में विटामिन आदि के नाम पर कुछ भी पशु उत्पाद मिलाते रहते हैं। दही जमाने के लिये बछड़े की आँतों से निकलने वाले रेनिन का उपयोग किया जाता है। दही को गाढ़ा जमाने के लिये जिलेटिन उसमें मिलाया जाता है। डबल रोटी में अण्डा मिलाना सामान्य बात है, नान और रोटी के आटे में अण्डा मिला देते हैं। पनीर बनाने के लिये रेनिन का ही प्रयोग किया जाता है।

चॉकलेट, टॉफी, बिस्कुट में सब मांस के पदार्थ मिश्रित रहते हैं, अतः कोई भी मिठाई शाकाहार नहीं है।

यहाँ एक अच्छी बात है। भारत में रसोई के कचरे को लेकर बड़ी समस्या होती है। गीले कचरे को बाहर फेंका जाता है, परन्तु अमेरिका में गीला कचरा नल के नीचे डालकर बहा दिया जाता है, जिसे उसमें लगी मशीन चूरा करके पानी के साथ बहा देती है।

इस देश में शिक्षा निःशुल्क है। दसवीं तक शिक्षा के साथ भोजन की आवश्यकता हो तो सरकार उसकी भी व्यवस्था करती है। पूरे देश में शिक्षा व्यवस्था एक जैसी है, पूरे देश की भाषा एक ही है, इसलिये माध्यम में किसी प्रकार का संकट नहीं हैं। जो परिवार जिस क्षेत्र में रहता है, उसे अपने बच्चों को उसी क्षेत्र के विद्यालय में पढ़ाना अनिवार्य होता है। निजी विद्यालय बहुत कम और बहुत महँगे होते हैं।

छोटे बच्चों को कार की आगे की सीट पर बैठाना दण्डनीय होता है, उनके लिये पीछे की सीट पर अलग व्यवस्था करनी पड़ती है।

बारह वर्ष तक के बालक को अकेले घर पर छोड़ना दण्डनीय अपराध है।

दूरभाष पर बात करते हुए समबन्धित व्यक्ति न मिलने पर शबद सन्देश देने की परमपरा है।

घर से निकलते समय व्यक्ति समय के साथ वातावरण कैसा रहेगा, यह भी देखता है।

यहाँ वर्षा, आँधी, हवा, धूप, गर्मी, शीत का अनुमान बहुत पहले लग जाता है। पर्यावरण विज्ञान कार्यालय की घोषणा सटीक होती है, लोग उसके अनुसार अपने कार्यक्रम बनाते हैं।

भारत में पुराने छत के पंखों में दो पत्तियाँ होती थीं, फिर प्रायः तीन पत्ती होती हैं। अब कहीं-कहीं चार पत्तियाँ भी देखी जा सकती है, परन्तु अमेरिका में पंखों में पाँच पत्तियाँ होती हैं।

केलिफोर्निया में पीने का पानी छः सौ मील की दूरी से पहाड़ों से आता है, जबकि प्रदेश समुद्र के किनारे है।

अमेरिका में आयकर बहुत अधिक है। प्रदेश और केन्द्र का आयकर मिलकर चालीस से पैंतालीस प्रतिशत है। सभी सेवा कार्य करने वाले लोग इससे पीड़ित रहते हैं।

अमेरिका में चिकित्सकों की प्रतिष्ठा बहुत है, उनकी आय भी अधिक है। चिकित्सक बीमा कमपनियों से बँधे रहते हैं। स्वतन्त्र चिकित्सक बीमा के बिना देखता है तो बहुत पैसे लगते हैं। एक दाँत उखड़वाने में भारत जाकर आने और दाँत की चिकित्सा कराने जितना पैसा लगता है। सामान्य व्यक्ति के लिये आवास, भोजन, वाहन, भाषा की समस्या का संकट रहता है।

इस देश में सहायता के लिये एक अंक 711 है, इससे भारतीय लोग बहुत भयभीत रहते हैं। किसी भी प्रकार की सहायता के लिये पुलिस को बुलाया जा सकता है। विद्यालय में बच्चों को सिखाया जाता है- जब कोई तुमसे दुर्व्यवहार करे तो तुम इस अंक पर सूचना दे सकते हो। बच्चों को डांटना, पीटना इस देश में अपराध है। ऐसा अनेक बार होता है। भारतीय माता-पिता बच्चों को डाँटते या मारते हैं, तो बच्चे पुलिस में शिकायत कर देते हैं। पुलिस पकड़कर ले जाती है, पीटने वाले को जेल में बन्द कर देती है।

शिकागो में श्री भूपेन्द्र शाह ने बताया कि यहाँ एक माता-पिता अपने पुत्र-पुत्रवधू के पास रहने के लिये भारत छोड़कर अमेरिका आ गये। सास ने किसी बात पर नाराज होकर पुत्रवधू को बहुत डांट दिया। बहू ने इस अंक पर शिकायत कर दी, पुलिस सास-श्वसुर को पकड़कर थाने ले गई। फिर अलग होटल में रखा और फिर भारत भेज दिया।

16 वर्ष की आयु के बाद बच्चे स्वतन्त्र होते हैं। आप उन्हें घर जबरदस्ती नहीं रख सकते, वे घर छोड़कर कहीं भी जा सकते हैं।

इस देश में विद्यालय की शिक्षा निःशुल्क है, परन्तु कॉलेज विश्वविद्यालय की उच्च शिक्षा बहुत महँगी है। जो प्रतिभाशाली बच्चे हैं, उन्हें छात्रवृत्ति मिल जाती है, जो समपन्न है या पुरुषार्थी हैं, स्वयं कमाकर पढ़ते हैं। शेष लोग अपनी आजीविका में लग जाते हैं। यहाँ के संस्थानों में ईसाई लोगों को प्राथमिकता दी जाती है।

इस देश की विशेषता है कि आपके पास धन है तो आपके पास सब कुछ है। आप जो सुविधा चाहो, प्राप्त कर सकते हो। यहाँ पर संवेदना, भावात्मकता का कोई स्थान नहीं। जिन बातों से मन में संवेदना जागती है, उनका यहाँ नितान्त अभाव है। डॉ. सुखदेव सोनी के शबदों में यहाँ के लोगों के पास माता-पिता, गुरु, अतिथि को छोड़कर सब कुछ है। माता-पिता उत्पन्न कर देते है, परन्तु उनका कब और कितनी बार तलाक होगा, पता नहीं। ऐसे में बच्चों की संवेदना किससे जुड़ेगी? कक्षा में शिष्य अध्यापक के सामने टेबल पर पैर फैलाकर बैठता है तो अध्यापक उसे कुछ भी नहीं कह सकता, फिर आदर का भाव कहाँ से उत्पन्न होगा? अतिथि तो यहाँ कोई होता ही नहीं। सबके सब यहाँ अनुमति से आते-जाते हैं।

यहाँ निवास करने वाले भारतीयों का स्वभाव भिन्न है। किसी गोरे व्यक्ति से दृष्टि मिलती है, तो वह हँसकर ‘कैसे हो’ पूछता है, ‘धन्यवाद’ कहता है, परन्तु अधिकांश भारतीयों के चेहरे पर देखकर अप्रसन्नता का भाव प्रकट होता है, आँख मिलने पर चेहरा घुमा लेते हैं।

भारतीय लोग घर में भी अंग्रेजी का व्यवहार करने में गौरव समझते हैं। बच्चों से अंग्रेजी ही बोलते हैं। परिणामस्वरूप बच्चों को मातृभाषा या हिन्दी से परिचय नहीं हो पाता। कुछ परिवार घर में मातृभाषा का प्रयोग करते हैं।

इस देश में दूरी आज भी मील में नापी जाती है, तोल नाप के लिये पौण्ड, गेलन का ही प्रयोग होता है,गर्मी का माप फारनहाइट में ही होता है।

बस में परिचालक नहीं होता। एक पास राज्य या नगर में चलता है। एक यात्रा का नगर में एक ही टिकिट होता है।

सड़क पर कोई पैदल चलता हुआ दिखाई नहीं देता। सड़क पर कारें या बड़े लमबे-लमबे बन्द ट्रक चलते दीखते हैं।

सभी यान, सार्वजनिक स्थानों पर नियम से अशक्तों की पृथक् से व्यवस्था करनी होती है। इसमें किसी प्रकार की कमी दण्डनीय होती है।

कारों में पेट्रोल अपने-आप भरना होता है। कोई सहायक या दुकानदार नहीं होता। लेन-देन का सारा काम क्रेडिट कार्ड से होता है। नकद का व्यवहार बहुत कम होता है।

यहाँ सरकार पर पूँजीपतियों और बड़ी कमपनियों का कबजा है तो दवा बनाने वाले, डॉक्टर, बीमा कपनियाँ और वकील मिलकर जनता को लूटते हैं। एक डॉक्टर ने अपने व्यवसाय के बारे में टिप्पणी करते हुए कहा था- डॉक्टर क्या करता है,एक मनुष्य की सारे जीवन की कमाई का नबे प्रतिशत उसकी आयु के अन्तिम पाँच सालों में लूट लेता है।

बड़ा देश होने के कारण यहाँ की जलवायु सभी प्रदेशों में भिन्न-भिन्न है। आज धूप में चलने पर लॉस एन्जलस में दिल्ली की तरह गर्मी लगती है, वहीं सनीवेल में गर्मी-सर्दी दोनों नहीं है। यहाँ धूप प्रातः पाँच बजे से सायं सात बजे तक रहती है।

शिकागो में प्रातः उठा तब हिमपात हो रहा था। मध्याह्न में धूप निकल रही थी। सायंकाल के समय तेज हवायें चल रही थीं।

ह्यूस्टन पर समुद्र का प्रभाव बहुत रहता है। आज समुद्री तूफान में डूब रहा है, एक दिन उत्तर की हवायें चलती हैं, शीत बढ़ जाता है। दक्षिण की हवा चलती है, उष्णता बढ़ जाती है।

सड़क पर कोई किसी से आगे भागने का प्रयास नहीं करता। बड़े राज मार्ग पर तेज चलने के लिये अपनी पंक्ति बदलनी होती है।

सड़क पर कहीं भी  अकस्मात् रुक नहीं सकते। रुकने के लिये स्थान बने होते हैं।

सड़क को कहीं से पार नहीं कर सकते। सड़क पार करने के लिये निशान बने हैं, गाड़ी वहीं से पार हो सकती है। गाड़ी के उपमार्ग से मुखय मार्ग पर आने का स्थान निश्चित है, उसी प्रकार बाहर निकलने के लिये भी स्थान निश्चित है।

इस देश में सड़क पर यात्रा करते हुए बड़े खेतों में गायों के झुण्ड चरते हुए देख कर प्रसन्न मत होइये। गाय अमेरिका का सबसे दुर्भाग्यशाली पशु है। इसका समबन्ध इसका मांस खाने से है। यहाँ वालों का मुखय भोजन गाय का मांस (बीफ) है। इसके बाद सूअर, घोड़े आदि आते हैं। यहाँ का भाग्यशाली जानवर कुत्ता है, इसकी बहुत सेवा होती है।

दूध मशीन से निकालते हैं, अतः बछड़ा पैदा होने पर मारकर गाय को चारे में मिलाकर खिला देते हैं। दूध में खून आने पर उसका मिल्क चॉकलेट बन जाता है।

इस देश में दैनिक घरेलू काम से लेकर सामाजिक समारोह तक के सारे काम सभी लोग मिल-बाँट कर ही कर लेते हैं। मजदूर से कार्य कराना, महँगा होने से समभव नहीं है।

– ऋषि उद्यान, पुष्कर मार्ग, अजमेर

 

निश्चिंत रहें सृष्टि अभी समाप्त नहीं होने वाली

निश्चिंत रहें सृष्टि अभी समाप्त नहीं होने वाली
अभी इस सृष्टि की आयु लगभग दो अरब वर्ष से भी अधिक बाकी है
हम देख रहे हैं कि कुछ ही दिनों बाद किसी ज्योतिषी कि भविष्यवाणी को घड कर समाचार पत्र और दूरदर्शन शोरकरने लगते हैं कि अगले महीने दुनिया समाप्त होने वाली है | इस अनर्गल पलाप से भयभीत होने कीआवश्यकता nahin अनेक लोग भयभीत हो जाते हैं | इस प्रकार का ही एक समाचार 26/08/2016 के समाचार पत्र में भी देखने को मिला है किन्तु किसी को डरने की अवश्यकाता नहीं इस प्रकार के समाचार झूठ का पुलिंदा होने के अतिरिक्त कुछ भी नहीं होते परमपिता परमात्मा ने प्रत्येक कल्प कि प्रत्येक मन्वंतर कि और प्रत्येक युगकि आयु निश्चत कर रखी है और वेद में इसका उल्लेख करते हुए बताया भी है | इस आधार परहम जानते हैं कि एकसृष्टि कि आयु लगभग चार अरब वर्ष होती है | हमारी यह जो सृष्टि है इसेबनेअभी १,९६,०८,५३, ११८ वर्ष हुए हैं अर्थात अभी दो अरब वर्ष पुरेहोने में भी लगभग चार करोड़ वर्ष शेष हैं यहदो अर्बवर्षपूर्ण होने के पश्चात भी दो अर्ब वर्ष शेष रह जाते हैं अत: निश्चिन्त रहें दो अरब चार करोड़ वर्ष के लगभग इस सृष्टि कि आयु शेष है इस से पूर्व कोई शक्ति भी इसे समाप्त नहीं कर सकती

हदीस: औरत का दोजक्ख में होना क्यूंकि वह अपने शौहर का नाफ़रमानी करती है |

औरत का  दोजक्ख में होना क्यूंकि वह अपने शौहर का नाफ़रमानी करती है |

इस्लाम में यह बोला जाता है की औरत और पुरुष को एक समान अधिकार है | वह  उपभोग की वस्तु नहीं है | खैर यह हमें दिलासा के लिए बोला जाता है की औरत को एक समान अधिकार है | आज हम कुछ पहलु इस्लाम से जाहिर करते हैं जिससे यह मालुम हो जाएगा की औरत को इस्लाम में एक समान अधिकार नहीं बल्कि एक उपभोग की वस्तु है | कुरआन में भी यह बोला गया है की औरत को खेती समझो | चलिए ज्यादा बाते न बनाते हुए औरत की बारे में सहीह बुखारी हदीस से हम प्रमाण रख रहे हैं |

Saheeh bukhaari hadees  volume 1 book 2 : belief  hadees  number 28

Narrated Ibn Abbas :  The Prophet said : “ I was shown the hell-fire and that the majority of its dwellers were woman who were ungrateful.” It was asked. “do they  disbelieve in allah ? “ (or are they  ungrateful to allah ? ) he replied , “ They are ungrateful to their husbands and are ungrateful for the favors  and good (charitable deeds)  done to them . if you have always been good (benevolent)   to one of them and then she sees something  in you (not of her liking), she will say, ‘ I have never received any good from you.”

मुख़्तसर सहीह बुखारी हदीस जिल्द  1 बुक  2 इमान का बयान   हदीस संख्या  27

इब्ने अब्बास रजि. से रिवायत है, उन्होंने कहा , नबी सल्लल्लाहू अलैहि वसल्लम ने फ़रमाया : मैंने दोजक्ख  में ज्यादातर औरतो को देखा (क्यूंकि) वह कुफ्र करती है | लोगो ने कहा : क्या वह अल्लाह का कुफ्र करती है ? आपने फरमाया : “ नहीं बल्कि वह अपने शौहर की नाफ़रमानी करती है  और एहसान फरामोश है , वह यूँ की अगर तू सारी उम्र औरत से अच्छा सलूक करे फिर वह (मामूली सी ना पसंद ) बात  तुझमे देखे तो कहने लगती है की  मुझे तुझ से कभी आराम नहीं मिला | “

 

ऊपर हमने हदीस से इंग्लिश और हिंदी में प्रमाण दिया है |

समीक्षा :  यह बात समझ में  नहीं आई की यदि कोई शौहर गलत काम करे  तो भी  उस औरत को उसकी  शौहर की बात को मानना पड़े  यदि वह  ना माने  तो  वह दोजख  जायेगी | यह कैसा इस्लाम में औरत  को समानता दी गयी है यह बात समझ से परे है | शौहर गलत ही क्यों ना हो उसका विरोध ना करो | शौहर का सब  बात को सही समझो | सभी बात को स्वीकार करो | क्या औरत खिलौना है ? क्या औरत के पास कोई अक्ल  नहीं है ? सब अक्ल पुरुष के पास है ?  यदि शौहर अपनी बीवी की बात ना माने तो वह कहाँ जाएगा ? वह शौहर दोजख क्यों नहीं जाएगा ? यह कैसा समानता औरत पुरुष में ?

 

यदि लेख में किसी तरह की त्रुटी हुयी हो तो आपके सुझाब सादर आमंत्रित हैं  |

धन्यवाद  |

 

हमारे और अधिक लेख पढ़ने के लिए लॉग इन  करें |

www.aryamantavya.in

हमारे अन्य वेबसाइट

www.onlineved.com

www.satyarthprakash.in

सांई बाबा मत

सांई बाबा मत

– सत्येन्द्र सिंह आर्य

वर्ष 1875 ईसवी में आर्य समाज की स्थापना के समय भारत में लगभग एक सहस्र मत-मतान्तर विद्यमान थे। उनमें से कुछ की समीक्षा महर्षि दयानन्द सरस्वती जी महाराज ने अपने अमर ग्रन्थ सत्यार्थप्रकाश में की है। आर्य समाज जैसे सुधारवादी आन्दोलन के आरभ होने के बाद भी नये-नये मतों का उद्भव होता रहा है। सांई बाबा मत भी उन्हीं में से एक है। 20 वीं शतादी के आरभ में इस मत का उदय महाराष्ट्र के अहमदनगर जिले में हुआ।

मध्य-युग (भक्ति काल) में सांई शबद ‘स्वामी’ के अर्थ में, ‘ईश्वर’ के लिए, किसी को आदरपूर्वक सबोधित करने के लिए प्रयोग में होता रहा है। जैसे किसी कवि ने लिखा-

सांई इतना दीजिए जा में कुटम समाय।

मैं भी भूखा न रहूँ, पथिक न भूखा जाय।।

परन्तु इस शबद से किसी मत-पंथ का बोध नहीं होता था। उन्नीसवीं शताबदी के अन्त और बीसवीं शताबदी के आरमभ में शिरडी (महाराष्ट्र) की एक मस्जिद के मुस्लिम फकीर की प्रसिद्धि सांई-बाबा के नाम से हो गयी और उसके नाम से एक नया पंथ चल पड़ा। सांई-बाबा के नाम से मन्दिर बन गये और वही मुस्लिम फकीर हिन्दुओं की अन्ध भक्ति के कारण अवतार, भगवान और न जाने क्या-क्या बन गया।

स्वार्थ की पराकाष्ठा के कारण व्यक्ति कम परिश्रम से कम समय में माला-माल होना चाहता है। मत-पंथों का धन्धा इस हेतु सर्वाधिक अनुकूल सिद्ध होता है। आन्ध्र प्रदेश के अनन्तपुर जिले में चित्रवती नदी के किनारे पुट्टुपर्ती ग्राम में वर्ष 1926 में जन्में ‘सत्यनारायण राजू’ नाम के बालक ने भी युवा होते-होते यही धन्धा अपनाया और ये ‘‘श्री सत्य सांई बाबा’’ नाम से विखयात हो गये। ‘सांई बाबा’ और ‘‘श्री सत्य सांई बाबा’’-ये दोनों नाम एक जैसे ही हैं। अगर ये सत्य नारायण राजू (पुट्टुपर्ती वाले सांई बाबा) अपने को किसी अन्य नाम से पुजवाते तो कुछ कठिनाई भी आती और प्रसिद्धि प्राप्त करने में कुछ समय भी लगता। वह पुराना ‘सांई बाबा’ चला-चलाया नाम था, इन्होंने कह दिया मैं ही आठ वर्ष पहले ‘सांई बाबा’ था, उसी का अवतार मैं हूँ।

(शिरडी वाले सांई बाबा की सन् 1918 में मृत्यु हो गयी थी।) अब ये अवतार बन गये और पुजने लगे। वेद-विद्या के प्रचार-प्रसार के अभाव में देश में भेड़-चाल है। लोग सत्य, सदाचार, न्याय की तुलना में चमत्कार की ओर को खिंचे चले जाते हैं। इन्होंने भी हाथ की सफाई दिखाई, अपने झबरे बालों में से भभूत, हाथ-घड़ी निकालने का चमत्कार दिखाया, कुछ गप्पें अपने बारे में प्रचारित करायीं और सिद्ध बन गये।

शिरडी वाले तो सिर्फ सांई-बाबा ही थे और उनका अवतार होने का सिक्का चल गया था। पहले वाले सांई बाबा के भक्तों ने उन्हें (नये बाबा को) मान्यता नहीं दी, तो इनके भक्तों ने क्या किया, कि सांई बाबा नाम तो उस तथा कथित अवतार का ले लिया तथा ‘‘सत्य’’ शबद जो ‘‘सत्यनारायण राजू’’ नाम बचपन का था, उससे ले लिया। ‘‘श्री ’’ अपनी ओर से समान की दृष्टि से लगाया और बन गए पूरे ‘‘श्री सत्य सांई बाबा’’। यह इसलिए भी किया कि पहले वाले सांई बाबा को असत्य सिद्ध करने की आवश्यकता ही न रही। भक्तों ने स्वयं ही कहना आरमभ कर दिया कि सत्य तो ये ही हैं। ऊपर से चमत्कारों का  प्रोपैगेण्डा आरभ कर दिया जैसे कि इनके चित्र से शहद का टपकना, राख का झड़ना, लाईलाज बीमारियों का ठीक होना। ठगी करने के लिए ये ढोंग आवश्यक हैं ही। पुट्टुपर्थी वाले बाबा (अभी साल दो साल पूर्व ही इनकी मृत्यु हुई है) माडर्न महात्मा अपने को प्रदर्शित करते थे और स्वयं को बाल ब्रह्मचारी बताते थे, परन्तु विवाहित थे और इनकी पत्नी हैदराबाद के एक अस्पताल में नर्स थी। यही अवतारी बाबा पहले औरगांबाद (मराठवाड़ा) में पागलों की भाँति आवारागर्दी करते फिरते थे। यह सब विवरण सार्वदेशिक पत्रिका के 16 सितबर सन् 1973 के अंक में प्रकाशित हुआ है। बड़ी राशि के लेन-देन के सिलसिले में इसी बाबा के विरुद्ध न्यायालय में मुकदमा भी चलाया गया था, जिसमें कुछ रकम तो बाबा को वापस करनी पड़ी थी, परन्तु अर्काट जिले के दो भाइयों श्री टी.एम. रामकृष्ण तथा मुथुकृष्ण के लगभग एक लाा रुपये डकारने में ये अवतारी पुरुष? सफल हो गये थे।

लगभग एक डेढ़ शताबदी के अन्दर काफी सीमा तक एक जैसे ही नाम वाले इन दो सांई बाबाओं के नाम पर सांई-बाबा मत चल निकला और ऐसा चला कि अपनी पन्थाई दुकानदारी पर प्रतिकूल प्रभाव पड़ता देखकर एक जगत् गुरु शंकराचार्य तक भी व्यथित हो गए।

सांई बाबा मत का कोई ऐसा प्रामाणिक ग्रन्थ दृष्टि में नहीं आया, जिसमें इस पंथ के ईश्वर, धर्म, सृष्टि-निर्माण, आत्मा-परमात्मा विषयक आध्यात्मिक विवेचन, स्वर्ग, नरक, मुक्ति जैसे विषयों की चर्चा, सुसन्तान के निर्माण, सुाी गृहस्थी बनने के बुद्धि-गय सुझाव दिये गये हों। जो पुस्तकें उपलध हैं, वे इस प्रकार की हैं, जैसे-‘‘अवतार गाथा,’’ ‘सांई बाबा का चमत्कारी व्यक्तित्व’, A Man of Miracles

‘‘श्री सांई सच्चरित्र’’ (श्री सांई बाबा की अद्भुत जीवनी और उनके अमूल्य उपदेश) आदि। पूर्व-उल्लिखित ‘‘श्री सांई सच्चरित्र’’ पुस्तक मूल रूप से मराठी में है और इसके लेखक हैं, कै. गोविन्दराव रघुनाथ दाभोलकर (हेमाडपन्त)। पुस्तक के  हिन्दी संस्करण के अनुवादक श्री शिवराम ठाकुर हैं। इस पुस्तक का जो संस्करण मुझे प्राप्त हो सका, वह सन् 2007 में प्रकाशित हुआ 18 वां संस्करण है, जिसकी 1 लाख प्रतियाँ मुद्रित हुई हैं, ऐसा उल्लेख है और उससे पहले संस्करण (17 वाँ) की प्रतियाँ ढाई लाख बतायी गयी हैं। यदि वास्तव में पुस्तक की इतनी बड़ी संखया में प्रतियाँ छपी हैं, तो यह विस्मयकारी है। पुस्तक में 51 अध्याय हैं।

पुस्तक में सांई बाबा के जीवन की चमत्कारों से परिपूर्ण झाँकिया आदि से अन्त तक भरी पड़ी हैं। मत-पंथ कोई भी हो बिना चमत्कारों के टिक नहीं सकता। ईसाइयत, इस्लाम, जैन, बौद्ध, चारवाक, ब्रह्माकुमारी, राधास्वामी आदि सभी मत अपने-अपने संस्थापकों के जीवन में काल्पनिक चमत्कारों की गाथाएँ जोड़कर ही खड़े रह सके हैं। महाराज मनु प्रोक्त धर्म के 10 लक्षणों से उनका कुछ लेना-देना नहीं होता। सांई बाबा मताी उसी प्रकार चमत्कारों एवं आडबरों का गोरख धन्धा है। सांई को भगवान, भगवान का अवतार, अद्भुत चामत्कारिक शक्तियों से समपन्न अलौकिक दिव्यआत्मा सिद्ध करने के लिए आकाश-पाताल एक किये गये हैं। ‘श्री सांई सच्चरित्र’ पुस्तक के आरा में प्रथम अध्याय में वन्दना करने का उपक्रम करते हुए लेखक सांई का पूरा अवतारीकरण करने का प्रयत्न करता है। उन्हीं के शबदों में-

‘‘पुरातन पद्धति के अनुसार प्रथम श्री गणेश को साष्टांग नमन करते हैं, जो कार्य को निर्विघ्न समाप्त कर उसको यशस्वी बनाते हैं और कहते हैं, कि श्री सांई ही गणपति है।’’

….‘‘श्री सांई भगवती सरस्वती से भिन्न नहीं है, जो कि स्वयं ही अपना जीवन संगीत बयान कर रहे हैं। ब्रह्मा, विष्णु और महेश, जो क्रमशः उत्पत्ति, स्थिति और संहारकर्त्ता हैं और कहते हैं कि सांई और वे अभिन्न हैं। वे स्वयं ही गुरु बनकर भवसागर से पार उतार देंगे।’’

सांई बाबा को अन्तर्यामी (सर्वज्ञ) सिद्ध करने के लिए लेखक ने एक घटना का उल्लेख किया है। लेखक शिरडी पहुँचे और वहाँ साठेवाड़ा नाम के स्थान पर अपने एक शुभचिन्तक श्री काक साहेब दीक्षित (जो सांई बाबा के बड़े भक्त और नजदीकी थे) के साथ इस आशय की बात कर रहे थे कि गुरु धारण करने की आवश्यकता नहीं है। इस पर काका साहेब ने उन्हें कहा ‘‘भाई साहब, यह निरी विद्वत्ता छोड़ दो। यह अहंकार तुहारी कुछ भी सहायता न कर सकेगा।’’ इस  प्रकार दोनों पक्षों के खण्डन-मण्डन में एक घण्टा व्यतीत हो  गया और बात अनिर्णीत ही रही। लेखक महोदय आगे कहते हैं-‘‘जब अन्य लोगों के साथ मैं मस्जिद गया तब बाबा ने काका साहेब को समबोधित कर प्रश्न किया कि साठेवाड़ा में क्या चल रहा था? किस विषय में विवाद था? फिर मेरी ओर दृष्टिपात कर बोले कि इन ‘हेमाडपन्त’ ने क्या कहा। ये शबद सुनकर मुझे अधिक अचमभा हुआ। साठेवाड़ा और मस्जिद में पर्याप्त अन्तर था। सर्वज्ञ या अन्तर्यामी हुए बिना बाबा को विवाद का ज्ञान कैसे हो सकता था?’’

बाबा की इस सर्वज्ञता? या अन्तर्यामीपन की पोल एक पौराणिक सद्गृहस्थ-सन्त भक्त रामशरण दास (पिलखुआ) ने इस प्रकार खोली है-

‘‘सांई साहब मुसलमान हैं। वह भी अपने को अतवार तथा और भी न जाने क्या-क्या बतलाया करते थे। बहुत से मनुष्य इनके चंगुल में फँस गये थे, परन्तु कुछ दिन हुए एक लुहारिन ने इनके अवतारपने की सब पोल खोल दी। सांई जी को जब सब लोग बड़ी श्रद्धा के साथ घेरे हुए थे, तो उस समय एक लुहार भी बड़ी श्रद्धा के साथ आपको अपने मकान पर लिवा लाया। लुहार की स्त्री लुहारिन भी वहीं पर उनके पास बैठ गई। कुछ देर में सांई साहब ने एकाएक बहुत क्रोध में आकर बुरा-बुरा मुँह बनाकर अपना डंडा उठाकर धड़ाम से एक किवाड़ में दे मारा और कहा कि ‘जा साले!’ सबने हाथ जोड़कर पूछा कि सांई साहब क्या बात है? सांई साहब ने अपने को त्रिकाल दर्शी कहते हुए कहा कि अरब में इस समय एक कुत्ता काबे को नापाक कर रहा था। मुझे वह दिख रहा था। मैंने उसे यहीं पर बैठे हुए दे मारा है। यह सुनकर सब लोग हाथ जोड़कर और भी ज्यादा श्रद्धा करने लगे।’’

‘‘लुहारिन होशियार थी, उसने कहा कि सांई साहब मैं आपके लिए चावल बनाकर लाती हूँ, आप बैठे रहना। वह अन्दर गई और चावल बनाये, जब चावल बन चुके, तो उसने एकबर्तन में पहले बूरा (चीनी) रखा और फिर बूरा के ऊपर चावल इस तरह से रखे कि जिससे वह बूरा बिल्कुल ही न दिखे। फिर उस बर्तन को लाकर उसने सांई साहब के सामने रख दिया। लुहारिन चावल रखकर एकदम अन्दर मकान में चली गई। सांई साहब ने समझा कि वह मेरे लिए बूरा लेने गयी है। जब बहुत हो गयी तो उन्होंने उसे बुलाया और कहा कि बूरा क्यों नहीं लाई? उसने कहा कि बूरा तो घर में है ही नहीं। साँई साहब ने क्रोध में भरकर कहा कि हम बिना बूरा के चावल नहीं खाते। इतना कहते ही लुहारिन उठी और सांई साहब की दाढ़ी पकड़कर दे मारा और उनका सब सामान उठाकर बाहर फेंक दिया। पूछने पर उसने कहा कि भला इसे हजारों कोस का कुत्ता तो दिखता है, पर बिल्कुल सामने रखा चावलों से ढका बूरा नहीं दिखता। सब यह देखकर चकित हो गये और सबने उसके ढोंग को समझ लिया।’’

सद्गृहस्थ-सन्त, भक्त रामशरणदास-पृष्ठ 385-86

साधु, फकीर, सन्त, संन्यासी तो जमीन पर पैर रखकर सामान्य जन कीााँति चलते फिरते हैं, परन्तु उनके भक्त और अनुयायीगण उनको समुद्र की सतह पर चला देते हैं, आकाश में पक्षियों की भाँति उड़ता हुआ दिखा देते हैं। सांई बाबा के साथाी लेखक ने ऐसा ही किया। ‘‘श्री सांई सच्चरित्र’’ पुस्तक के पृष्ठ 16 पर श्री सांई ने निम्नलिखित अति सुन्दर उपदेश दिया-

‘‘तुम चाहो कहीं भी रहो, जो इच्छा हो, सो करो, परन्तु यह सदैव स्मरण रखो कि जो कुछ तुम करते हो, वह सब मुझे ज्ञात है। मैं ही समस्त प्राणियों का प्रभु हूँ और घट-घट में व्याप्त हूँ।’’

‘‘मेरे ही उदर में सब जड़ व चेतन प्राणी समाये हुए हैं। मैं ही समस्त ब्रह्माण्ड का नियंत्रणकर्त्ता व संचालक हूँ। मैं ही उत्पत्ति स्थिति और संहारकर्त्ता हूँ। मेरी भक्ति करने वालों को कोई हानि नहीं पहुँचा सकता।’’

‘‘बाबा की विशुद्ध कीर्ति का वर्णन निष्ठापूर्वक श्रवण करने से भक्तों के पाप नष्ट होंगे। अतः यह मोक्ष प्राप्ति का भी सरल साधन है। सत्य युग में  शम तथा दम, त्रेता में त्याग, द्वापर में पूजन और कलियुग में भगवत कीर्तन ही मोक्ष का साधन है।’’

शेष भाग अगले अंक में….

व्रती व्यक्ति सदा निरोग व प्रसन्न रहता है

ओउम
व्रती व्यक्ति सदा निरोग व प्रसन्न रहता है
डा. अशोक आर्य
अग्नि को तेज का प्रतीक माना गया है | विश्व का प्रत्येक व्यक्ति तेज पाने की आकाक्षा रखता है | इस आकांक्षा की पूर्ति के लिए वह सतत प्रयास भी करता है | यदि उस का यह प्रयास सही दिशा में है तो मन वांछित फल उसे मिलता है और यदि वह भटका हुआ है, उसे सही दिशा का ज्ञान नहीं तो उस के लिए सफलता भी संदिग्ध ही है | कहा भी है कि चल गया तो तीर नहीं तो तुक्का | प्रत्येक सफलता के लिए मानव को कई प्रकार के व्रत करने होते है | व्रत की सफलता से व्यक्ति को प्रसन्नता मिलती हैं तथा प्रसन्न व्यक्ति ही निरोग होता है | अथर्ववेद के मन्त्र ७.७४.४ में इस तथ्य पर ही प्रकाश डाला गया है | मन्त्र का अवलोकन करें : –
मन्त्र पाठ : –
व्रतें तवं व्रतपते समक्तो
विश्वाहा सुमना दीदिहिह |
तं त्वा वयं जातवेदा
प्रजावंत उप सदेम सर्वे || अथर्व .७.७४.४||
: समिद्धन
भावार्थ : –
हे व्रतों के स्वामी , हे व्रतों के पालक अग्नि देव ! तुम व्रत से सुसंस्कृत होने से यहाँ सदा प्रसन्नचित्त हो कर प्रकाशित होना ! हे अग्नि ! हम सब अपनी संतानों के साथ प्रदीप्त हो तेरे समीप बैठें |
व्रतों से हमें अनेक लाभ होते हैं | इन लाभों का वर्णन ही इस मन्त्र का मुख्य विषय है | व्रतों से मिलाने वाले लाभ इस प्रकार हैं : –
१) शुद्धता
२) निरोगता
३) पवित्रता
४) प्रसन्नचित्तत़ा
इस मन्त्र के अनुसार अग्नि ही व्रतपति है | व्रत से शुद्ध, पवित्र तथा तेजस्वी भी अग्नि ही है | स्पष्ट है कि यहाँ व्रत के उदहारण अग्नि को रखा गया है | जिस प्रकार अग्नि में डाला गया प्रत्येक पदार्थ या सामग्री जल कर नष्ट हो जाते हैं किन्तु जलते जलते भी यह तत्व अग्नि को तेजस्विता प्रदान करते हैं | अग्नि का धर्म है जलना | यदि ज्वाला नहीं तो हम उसे अग्नि कैसे कह सकते हैं ? तो भी अग्नि को जलने के लिए कुछ पदार्थों की , कुछ तत्वों की आवश्यकता होती है | बिना किसी वास्तु के तो अग्नि भी जल नहीं सकती | ज्वलन्शिलता अग्नि का गुण तो है किन्तु यह गुण तब ही गतिशील होता है , जब किसी पदार्थ के संपर्क में आता है | किसी पदार्थ के संपर्क के बिना अग्नि जल ही नहीं सकती तथा जों भी पदार्थ इस अग्नि के संपर्क में आता है , उसे भी यह अग्नि जला कर राख कर देती है | अग्नि के जलने से उस के आस पास जितने भी दूषित तत्व होते हैं , उन sab को भी जला कर अग्नि नष्ट कर देती है | इस प्रकार अग्नि के जलने मात्र से वायु मंडल शुद्ध हो जाता है , वातावरण में शुद्धता आ जाती है , पर्यावरण स्वच्छ हो जाता है | निर्दोषता का सर्वत्र साम्राज्य स्थापित हो जाता है |
जहाँ तक व्रत अथवा उपवास का सम्बन्ध है यह भी हमारे शरीर में अग्नि के समान ही कार्य करता है | जिस प्रकार अग्नि अपने आस पास व पड़ोस के दुर्गुणों को जला कर नष्ट कर देती है , उस प्रकार ही व्रत अथवा उपवास भी शरीर के अंदर विद्यमान सब प्रकार के दूषित तत्वों को नष्ट कर देते हैं | दूषित तत्वों के नष्ट होने से शरीर में शुद्धता आती है | शरीर के निर्दोष होने से शरीर चुस्त व दुरुस्त हो जाता है | निर्दोष, चुस्त व शुद्ध शरीर ही निरोगता की कुंजी है | अत: शरीर जितना शुद्ध व निर्दोष रहेगा , उतना ही शरीर निरोगी होगा | शरीर की इस निरोगता को पाने के लिए ही हम व्रत करते हैं | इस से स्पष्ट होता है की व्रत स्वस्थ व शुद्ध शरीर स्थापित करने का साधन होने से निरोगता की कुंजी होते हैं | यह ही निरोगता का साधन हैं |
व्रत को ही मानवीय प्रसंन्नचितता का आधार माना गया है | यह मन्त्र का दूसरा लाभ है | जो सदा प्रसन्न रहता है मन्त्र ने उसे विश्वाहा सुमना: कहा है | इस का भाव भी प्रसन्नचितता ही है | प्रसन्न कौन होता है ? इसका उत्तर मन्त्र ने ऊपर इस प्रकार दिया है कि जो शुद्ध, पवित्र, तेजस्वी है, वह प्रसन्नचित्त होता है | अत: ऊपर के उपाय करने के पश्चात जीव स्वयमेव ही प्रसन्न चित्त हो जाता है | व्रतों द्वारा शरीर के शुद्धि करण से शरीर सब प्रकार से स्वच्छ हो जाता है | दूषित शरीर में जो रोग , शोक , आलस्य, निद्रा, तन्द्रा प्रमाद आदि दुर्गुण थे , वह सब इन व्रतों से धुल कर स्वच्छ हो गए | इन सब दुर्गुणों के , दोषों के नाश से मन प्रसन्नता से प्रफुलित हो उठता है , उस में एक विचित्र सी उमंग ठाठें मारने लगती है | इस उमंग को ही प्रसन्नता कहते हैं | अत: दोष निवारण से मन पूर्णतया प्रसन्न हो जाता है | अब मानवीय मन सदैव प्रसन्न रहता है | स्वास्थ्य के लिए वरदान प्रसन्नचितता के लिए योगीराज श्री कृषण जी ने गीता में भी बड़ी सुन्दर चर्चा की है | इस सम्बन्ध में गीता का श्लोक २-६५ दर्शनीय है | जो इस प्रकार है : –

प्रसादे सर्वदु:खानां , हानिरस्योपजायते |
प्रसन्नचेततो ह्याशु: ,बुद्धि: प्र्यवातिष्ठते || गीता २-६५ ||
प्रसन्नता दु:खों का विनाश करती है | अत: जो व्यक्ति प्रसन्नचित्त होता है उसके सब दु:खों का नाश स्वयमेव ही हो जाता है | जिस प्रकार जल से भरे गिलास में वायु नहीं रह सकती , उस प्रकार ही प्रसन्न बदन में दु:ख , शोक , क्लेश इत्यादि दुर्गुण नहीं रह सकते | जब शरीर दु:ख रहित है तो मन शांत हो जाता है | शांत मन के साथ बुद्धि कभी आक्रोशित नहीं हो सकती , इस कारण उसकी बुद्धि भी शांत हो जाती है | शांत बुद्धि मानवीय शरीर की सुव्यवस्था का साधन है | अत: व्रती व्यक्ति का शरीर भी सुव्यवस्थित रहता है | सुव्यवस्थित शरीर में किसी भी प्रकार का शल्य प्रवेश नहीं कर सकता | जब मन प्रसन्न है , बुद्धि शांत है तथा पूरा शरीर सुव्यवस्थित कार्य कर रहा है तो इस के सदुपयोग से परिवार ऊपर उठता है | परिवार के उन्नत होने से समाज , देश व विश्व की भी उन्नति होती है | सब प्रकार से कल्याण का साम्राज्य छा जाता है | जब एक व्रत से ही विश्व का कल्याण संभव है तो हमें व्रती बनने से परहेज करने की क्या आवश्यकता है ? विश्व कल्याण के लिए हम व्रती बनें अपना भी कल्याण करें , समाज का भी उत्थान करें तथा विश्व का भी कल्याण करें |

डा. अशोक आर्य
१०४ – शिप्रा अपार्टमैंट ,कौशाम्बी (गाजियाबाद)
चल्वार्ता ०९७१८५२८०६८, 01202773400