वेदप्रचार की लगन ऐसी हो

वेदप्रचार की लगन ऐसी हो आचार्य भद्रसेनजी अजमेरवाले एक निष्ठावान् आर्य विद्वान् थे। ‘प्रभुभक्त दयानन्द’ जैसी उज़म कृति उनकी ऋषिभक्ति व आस्तिज़्य भाव का एक सुन्दर उदाहरण है। अजमेर के कई पौराणिक परिवार अपने यहाँ संस्कारों के अवसर पर आपको बुलाया करते थे। एक धनी पौराणिक परिवार में वे प्रायः आमन्त्रित किये जाते थे। उन्हें उस घर में चार आने दक्षिणा मिला करती थी। कुछ वर्षों के पश्चात् दक्षिणा चार से बढ़ाकर आठ आने कर दी गई। एक बार उस घर में कोई संस्कार करवाकर आचार्य प्रवर लौटे तो पुत्रों श्री वेदरत्न, देवरत्न आदि ने पूछा-ज़्या दक्षिणा मिली? आचार्यजी ने कहा-आठ आना। बच्चों ने कहा-आप ऐसे घरों में जाते ही ज़्यों हैं? उन्हें ज़्या कमी है? वैदिक धर्म का दीवाना … Continue reading वेदप्रचार की लगन ऐसी हो

HADEES : THE IMAM

THE IMAM Muslim prayer is mostly group prayer.  It should be led by an imAm.  Muhammad enjoins that �when there are three persons, one of them should lead them� (1417). Muhammad exhorts his followers to follow their imAm.  �When he prostrates, you should also prostrate; when-he rises up, you should also rise up,� he tells them (817).  He also forbids them to bow and prostrate themselves ahead of the imAm: �Does the man who lifts his head before the imAm not fear that Allah may change his face into that of an ass?� (860).  Also, those who are being led in prayer are required to keep pace with the imAm and are forbidden to recite so loudly as to compete … Continue reading HADEES : THE IMAM

हदीस : अपने गुप्त अंगों को मत छुओ

अपने गुप्त अंगों को मत छुओ मुहम्मद कहते हैं-”एक पुरुष को दूसरे पुरुष के गुप्त अंग नहीं देखने चाहिए“ न ही ”एक चादर के अंदर“ एक से अधिक लोगों को एक साथ सोना चाहिए (660)। इस सिलसिले में वे यह भी बतलाते हैं कि यहूदी लोग नंगे नहाते थे और एक दूसरे के गुप्त अंग देखते रहते थे। लेकिन मूसा अकेले ही नहाते थे। अपने नेता का अनुगमन न करने के लिए शर्मिन्दा होने की बजाय यहूदी लोग मूसा पर व्यंग कसने लगे। उन्होंने कहा कि अंडकोष वृद्धि के कारण मूसा अपने गुप्त अंगों को दिखाने से कतराते हैं। किन्तु अल्लाह ने मूसा की निर्दोषिता प्रमाणित की। एक बार, नहाते समय मूसा ने अपने कपड़े चट्टान पर रख दिए। पर … Continue reading हदीस : अपने गुप्त अंगों को मत छुओ

देखें तो पण्डित लेखराम को ज़्या हुआ?

देखें तो पण्डित लेखराम को ज़्या हुआ? पण्डितजी के बलिदान से कुछ समय पहले की घटना है। पण्डितजी वज़ीराबाद (पश्चिमी पंजाब) के आर्यसमाज के उत्सव पर गये। महात्मा मुंशीराम भी वहाँ गये। उन्हीं दिनों मिर्ज़ाई मत के मौलवी नूरुद्दीन ने भी वहाँ आर्यसमाज के विरुद्ध बहुत भड़ास निकाली। यह मिर्ज़ाई लोगों की निश्चित नीति रही है। अब पाकिस्तान में अपने बोये हुए बीज के फल को चख रहे हैं। यही मौलवी साहिब मिर्ज़ाई मत के प्रथम खलीफ़ा बने थे। पण्डित लेखरामजी ने ईश्वर के एकत्व व ईशोपासना पर एक ऐसा प्रभावशाली व्याज़्यान दिया कि मुसलमान भी वाह-वाह कह उठे और इस व्याज़्यान को सुनकर उन्हें मिर्ज़ाइयों से घृणा हो गई। पण्डितजी भोजन करके समाज-मन्दिर लौट रहे थे कि बाजार में … Continue reading देखें तो पण्डित लेखराम को ज़्या हुआ?

HADEES : POSTURE DURING PRAYER

POSTURE DURING PRAYER Muslim prayer is not carried on in one tranquil posture, sitting or standing; it is accompanied by many bodily movements.  These have been codified on the basis of the practice and precepts of Muhammad.  There are many ahAdIs on the subject.  One narrator saw Muhammad �raising his hands opposite the shoulders at the time of beginning the prayer and before bowing down and after coming back to the erect position after bowing, but he did not raise them between two prostrations� (758).  Another saw his �hands lifted opposite to ears.� He also saw that the Prophet �then wrapped his hands in his cloth and placed his right hand over his left hand.  And when he was about … Continue reading HADEES : POSTURE DURING PRAYER

वे दिल जले

वे दिल जले बीसवीं शताज़्दी के पहले दशक की बात है। अद्वितीय शास्त्रार्थमहारथी पण्डित श्री गणपतिजी शर्मा की पत्नी का निधन हो गया। तब वे आर्य प्रतिनिधि सभा पंजाब के उपदेशक थे। आपकी पत्नी के निधन को अभी एक ही सप्ताह बीता था कि आप कुरुक्षेत्र के मेला सूर्याग्रहण पर वैदिक धर्म के प्रचारार्थ पहुँच गये। सभी को यह देखकर बड़ा अचज़्भा हुआ कि यह विद्वान् भी कितना मनोबल व धर्मबल रखता है। इसकी कैसी अनूठी लगन है। उस मेले पर ईसाई मिशन व अन्य भी कई मिशनों के प्रचारशिविर लगे थे, परन्तु तत्कालीन पत्रों में मेले का जो वृज़ान्त छपा उसमें आर्यसमाज के प्रचार-शिविर की बड़ी प्रशंसा थी। प्रयाग के अंग्रेजी पत्र पायनीयर में एक विदेशी ने लिखा था … Continue reading वे दिल जले

आर्य मंतव्य (कृण्वन्तो विश्वम आर्यम)