सोम रक्षण स परमात्मा का साक्षात्कार

ओ३म
सोम रक्षण स परमात्मा का साक्षात्कार
डा. अशोक आर्य
– सोम की रक्षा से हमारी बुद्धि सूक्षम बनती है , जो गहणतम ज्ञान को भी सरलता से ग्रहण कर सकती है । सोम की रक्षा से ही हमारे हृदय पवित्र होते हैं तथा सोम की रक्षा से ही परमपिता परमात्मा के दर्शन होते हैं तथा उसके प्रकाश का, उसके ज्ञान का साक्षात्कार होता है । इस बात का उपदेश यह मन्त्र इस प्रकार कर रहा है : –
इन्द्रा याहि चित्रभानो सुता इमे त्वायव: ।
अपवीभिस्तना पूतास: ॥ ऋग्वेद १.३.४ ॥
इस मन्त्र में तीन बातों पर प्रकाश डाला गया है : –
१.
विगत मन्त्र में जिस प्राणसाधना को प्रभु को पाने का मार्ग बताया गया था , उस चर्चा को ही आगे बटाते हुए इस मन्त्र में प्रथम उपदेश किया गया है कि प्रभु ! आपके उपदेश के अनुसार आप को प्राप्त करने की जो प्रथम सीटी प्राण साधना बतायी गयी है ,मैंने प्राणों की सिद्धि प्राप्त कर ली है , मैंने प्राणों की साधना कर ली है । इस साधना के कारण मेरे अन्दर स्वच्छता आ गई है क्यों कि मेरे अन्दर की सब प्रकार की कामुक वृतियां नष्ट हो गई हैं । मैंने सब प्रकार की वासनाओं पर विजय प्राप्त कर ली है । इन वासनाओं के निकल जाने से मेरे अन्दर रिक्त स्थान बन गया है , जिसे भरना चाहता हूं । अत: हे पभु आप आईये ! मेरा हृदय आप के निवास के योग्य बन चुका है । इसमें निवास कीजिये ।
२.
मन्त्र में दूसरा उपदेश करते हुए कहा गया है कि हे ज्ञान को देने वाले तथा ज्ञान को दीप्त करने वाले, ज्ञान को प्रकाशित करने वाले पिता ! मेरे अन्दर जो सोमकण पै्दा हुए हैं , उत्पन्न हुए हैं , वह आप को पाने की कामना वाले हों , आप को पाने की इच्छा रखने वाले हों । इनकी सहायता से हम आपकॊ प्राप्त कर सके । यह सोमकण ही हमारे अन्दर जो आपको पाने की अग्नि जल रही है , आपके दर्शनों की जो उत्कट अभिलाषा है उसे दीप्त करने के लिए , उसे तीव्र अग्नि का रूप देने के लिए ईंधन का कार्य करें तथा उस अग्नि को ओर तीव्रता देने का कारण बनें ।
हमारे अन्दर के सोमकण ही हमारी सूक्षम बुद्धियों के साथ मिलकर हमारे अन्दर के मालिन्य को धो डाले । इस प्रकार हमारे मालिन्य का नाश कर हमारी बुद्धि को सदा पवित्र करने वाले बनें क्योंकि सोम की रक्षा से न केवल हमारी बुद्धि सूक्षम ही होती है अपितु यह हमारे ह्रदय को भी पवित्र करने वाले होते हैं । हम जानते हैं कि सोम की रक्षा से हमारी बुराईयों का नाश हो जाता है तथा जब हम बुराई रहित हो जाते हैं तो हम पवित्र हो जाते हैं । यह सब कार्य सोम की रक्षा करने से ही होता है । जब ह्रदय पवित्र हो जाते हैं तो एसे ह्रदय के अभिलाषी प्रभु स्वयं ही आ कर ह्रदय में विराजमान हो जाते हैं । अत: सोम की रक्षा से ही वह पिता हमारे ह्रदयों में प्रवेश करते हैं । तब ही तो काव्यमयी भाषा में कहा गया है कि यह सोम हमारे लिए प्रभु की कामना वाले हों ।
३.
मन्त्र मे तीसरे तथ्य पर प्रकाश डालते हुए उपदेश किया गया है कि जब हम अपने ह्रदय को पवित्र करके सूक्षम बुद्धि को पा लेते हैं तो हम इस अवस्था में आ जाते हैं कि प्रभु के प्रकाश को देख सकें । भाव यह है कि जब हमने सोम की रक्षा अपने अन्दर करके अन्दर के सब क्लुषों को धो दिया तथा ज्ञान की अग्नि से अन्दर को पवित्र कर लिया तो वह पिता हमारे ह्रदय में प्रवेश कर जाते हैं । इस अवस्था में हम अपने अन्दर प्रकाश ही प्रकाश अनुभव करते हैं । चित्रभानु होने के कारण उस प्रभु की अद्भुत दीप्ति होती है । प्रभु के इस प्रकाश का , इस तेज का , इस ज्योति का अनुभव ही किया जा सकता है , इसे शब्दों में व्यक्त नहीं किया जा सकता ।

डा. अशोक आर्य

कुरान समीक्षा : जमीन आसमान का एक पिण्ड था

जमीन आसमान का एक पिण्ड था

पोला आकाश और ठोस जमीन का पिण्ड कैसे बन सका था साबित करें?

देखिये कुरान में कहा गया है कि-

अ-व-लम् य-रल्लजी-न क-फरू………..।।

(कुरान मजीद पारा १७ सूरा अम्बिया रूकू ३ आयत ३०)

क्या जो लोग इन्कार करने वाले हैं उन्होने नहीं देखा कि आसमान और जमीन और आसमान को अलग-अलग किया और पानी से तमाम जानदार चीजें बनाई तो क्या इस पर भी वे लोग ईमान नहीं लाते।

समीक्षा

क्या पोले आकाश और ठोस जमीन का पिण्ड भी बन सकता है? यह पढ़े लिखे लोग स्वयं सोच सकते हैं।

कुरानी खुदा ने उन दोनों को तोड़ कर जुदा-जुदा भी कर दिया, कैसी बुद्धि विरूद्ध बात है? भाइयों! आखिर इलहाम ही तो है, कोई न कोई तो विलक्षण बात उसमें होनी ही चाहिए।

नाथूराम का मृत्युपत्र

प्रिय बन्धो चि. दत्तात्रय वि. गोडसे!

मेरे बीमा के रूपये आ जायेंगे तो उस रूपये का विनियोग अपने परिवार के लिए करना। रूपये 2000 आपके पत्नी के नाम पर, रूपये 3000 चि. गोपाल की धर्मपत्नी के नाम पर और रूपये 2000 आपके नाम पर। इस तरह से बीमा के कागजों पर मैंने रूपये मेरी मृत्यु के बाद मिलने के लिए लिखा है।मेरी उत्तरक्रिया करने का अधिकार अगर आपको मिलेगा तो आप अपनी इच्छा से किसी तरह से भी उस कार्य को सम्पन्न करना। लेकिन मेरी एक ही विशेष इच्छा यही लिखता हूँ।
अपने भारतवर्ष की सीमा रेखा सिंधु नदी है जिसके किनारों पर वेदों की रचना प्राचीन द्रष्टाओं ने की है।वह सिंधुनदी जिस शुभ दिन में फिर भारतवर्ष के ध्वज की छाया में स्वच्छंदता से बहती रहेगी उन दिनों में मेरी अस्थि या रक्षा का कुछ छोटा सा हिस्सा उस सिंधु नदी में बहा दिया जाएँ। मेरी यह इच्छा सत्यसृष्टि में आने के लिए शायद ओर भी एक दो पीढियों (Generations) का समय लग जाय तो भी चिन्ता नहीं। उस दिन तक वह अवशेष वैसे ही रखो। और आपके जीवन में वह शुभ दिन न आया तो आपके वारिसों को ये मेरी अन्तिम इच्छा बतलाते जाना। अगर मेरा न्यायालीन वक्तव्य को सरकार कभी बन्धमुक्त करेगी तो उसके प्रकाशन का अधिकार भी मैं आपको दे रहा हूँ।
मैंने 101 रूपये आपको आज दिये है जो आप सौराष्ट्र सोमनाथ मन्दिर पुनरोद्धार हो रहा है उसके कलश के कार्य के लिए भेज देना।
वास्तव में मेरे जीवन का अन्त उसी समय हो गया था जब मैंने गांधी पर गोली चलायी थी। उसके पश्चात मानो मैं समाधि में हूँ और अनासक्त जीवन बिता रहा हूँ। मैं मानता हूँ कि गांधी जी ने देश के लिए बहुत कष्ट उठाएँ, जिसके लिए मैं उनकी सेवा के प्रति और उनके प्रति नतमस्तक हूँ , किन्तु देश के इस सेवक को भी जनता को धोखा देकर मातृभूमि का विभाजन करने का अधिकार नहीं था।
मैं किसी प्रकार की दया नहीं चाहता और ना ही चाहता हूँ कि मेरी ओर से कोई दया की याचना करें। अपने देश के प्रति भक्ति-भाव रखना अगर पाप है तो मैं स्वीकार करता हूँ कि वह पाप मैंने किया है। अगर वह पुण्य है तो उससे जनित पुण्य पर मेरा नम्र अधिकार है। मुझे विश्वास है की मनुष्यों के द्वारा स्थापित न्यायालय से ऊपर कोई न्यायालय हो तो उसमें मेरे कार्य को अपराध नहीं समझा जायेगा। मैंने देश और जाति की भलाई के लिए यह कार्य किया है। मैंने उस व्यक्ति पर गोली चलाई जिसकी नीतियों के कारण हिन्दुओं पर घोर संकट आये और हिन्दू नष्ट हुए। मेरा विश्वास अडिग है कि मेरा कार्य ‘नीति की दृष्टि’ से पूर्णतया उचित है। मुझे इस बात में लेशमात्र भी सन्देह नहीं की भविष्य में किसी समय सच्चे इतिहासकार इतिहास लिखेंगे तो वे मेरे कार्य को उचित ठहराएंगे।
कुरूक्षेत्र और पानीपत की पावन भूमि से चलकर आने वाली हवा में अन्तिम श्वास लेता हूँ। पंजाब गुरू गोविंद की कर्मभूमि है। भगत सिंह, राजगुरू और सुखदेव यहाँ बलिदान हुए। लाला हरदयाल तथा भाई परमानंद इन त्यागमूर्तियों को इसी प्रांत ने जन्म दिया।
उसी पंजाब की पवित्र भूमि पर मैं अपना शरीर रखता हूँ। मुझे इस बात का संतोष है। खण्डित भारत का अखण्ड भारत होगा उसी दिन खण्डित पंजाब का भी पहले जैसा पूर्ण पंजाब होगा। यह शीघ्र हो यही अंतिम इच्छा !

आपका शुभेच्छु
नाथूराम वि. गोडसे
14-11-49

——————————————————————–
नाथूराम गोडसे द्वारा हस्तलिखित मृत्युपत्र की प्रति

image

-सौ▪ गाँधी वध क्यों?

हुतात्मा नाथूराम गोड़से का ‘दिव्य संदेश’

वास्तव में मेरे जीवन का उसी समय अंत हो गया था, जब मैंने गाँधी पर गोली चलाई थी। उसके पश्चात् मैं मानो समाधि में हूँ और अनासक्त जीवन बिता रहा हूँ।
मैं मानता हूँ कि गाँधी जी ने देश के लिए बहुत कष्ट उठाए, जिसके कारण मैं उनकी सेवा के प्रति एवं उनके प्रति नतमस्तक हूँ, किन्तु देश के इस सेवक को भी जनता को धोखा देकर मातृभूमि के विभाजन का अधिकार नहीं था।
  मैं किसी प्रकार की दया नहीं चाहता हूँ। मैं यह भी नहीं चाहता हूँ कि मेरी ओर से कोई दया की याचना करे।
अपने देश के प्रति भक्ति-भाव रखना यदि पाप है तो मैं स्वीकार करता हूँ कि वह पाप मैंने किया है। यदि वह पुण्य है तो उससे जनित पुण्य-पद पर मेरा नम्र अधिकार है।
मेरा विश्वास अडिग है कि मेरा कार्य नीति की दृष्टि से पूर्णतया उचित है। मुझे इस बात में लेशमात्र भी सन्देह नहीं कि भविष्य में किसी समय सच्चे इतिहासकार लिखेंगे तो वे मेरे कार्य को उचित ठहराएँगे।

-हुतात्मा नाथूराम गोड़से

कुरान समीक्षा : कुरान आसान कर दिया है

कुरान आसान कर दिया है

असल कुरान खुदा के पास किस कठिन भाषा में लिखा हुआ रखा है, यह बताया जावे ?

देखिये कुरान में कहा गया है कि-

फइन्नमा यस्सर्नाहु बिलिसानि – क…….।।

(कुरान मजीद पारा २४ सूरा हामीम अस-सज्दा रूकू ५ आयत ४३)

तो हमने इस (कुरान) को तुम्हारी जुबान में इस गरज से आसान कर दिया है कि तुम उससे परहेजगारों को खुशखबरी सुनाओ, झगड़ालुओं को सजा से डराओ।

समीक्षा

असली कुरान किस कठिन भाषा और कहाँ पर रखा हुआ है? यह भेद खोला जाना चाहिए तथा खुदा ने दुनिया को धोखा देने के लिए यह नकली माल क्यों सप्लाई किया? उस पर चार सौ बीसी का मुकदमा ठोकना चाहिये।

हुतात्मा नाथूराम जी की अस्थियाँ

नाथूराम गोड़से और नारायण आपटे के अन्तिम संस्कार के बाद उनकी राख उनके परिवार वालों को नहीं सौंपी गई थी। जेल अधिकारियों ने अस्थियों और राख से भरा मटका रेल्वे पुल के उपर से घग्गर नदी में फ़ेंक दिया था। दोपहर बाद में उन्हीं जेल कर्मचारियों में से किसी ने बाजार में जाकर यह बात एक दुकानदार को बताई, उस दुकानदार ने तत्काल यह खबर एक स्थानीय हिन्दू महासभा कार्यकर्ता इन्द्रसेन शर्मा तक पहुँचाई। इन्द्रसेन उस वक्त “द ट्रिब्यून” के कर्मचारी भी थे। शर्मा ने तत्काल दो महासभाईयों को साथ लिया और दुकानदार द्वारा बताई जगह पर पहुँचे। उन दिनों नदी में उस जगह सिर्फ़ छ्ह इंच गहरा ही पानी था, उन्होंने वह मटका वहाँ से सुरक्षित निकालकर स्थानीय कॉलेज के एक प्रोफ़ेसर ओमप्रकाश कोहल को सौंप दिया, जिन्होंने आगे उसे डॉ एलवी परांजपे को नाशिक ले जाकर सुपुर्द किया। उसके पश्चात वह अस्थि-कलश 1965 में नाथूराम गोड़से के छोटे भाई गोपाल गोड़से तक पहुँचा दिया गया, जब वे जेल से रिहा हुए। फ़िलहाल यह कलश पूना में उनके निवास पर उनकी अन्तिम इच्छा के मुताबिक सुरक्षित रखा हुआ है।

नाथूराम गोड़से का न्यायालय में दिए गए ब्यान का सारांश

“मुझे सपष्ट दिखाई देता था कि यदि मैं गाँधी जी का वध करूँगा तो मुझे जड़ मूल से नष्ट कर दिया जाएगा। लोग मुझसे घृणा करेंगे और मेरा आत्मसम्मान जो मुझे प्राणों से अधिक प्रिय है वो नष्ट हो जाएगा। किन्तु साथ में मैं ये भी जानता था कि गांधी जी सदा-सदा के लिए विदा हो जाएँगे और देश नपुंसक तत्व अहिंसा को त्यागकर शक्तिशाली बनेगा। मैं अवश्य मरूँगा लेकिन देश अत्याचारों से मुक्त होगा। सब मुझे देशद्रोही और मूर्ख कहेंगे पर देश ऐसे मार्ग पर चलेगा जो उचित होगा। ये सब सोचकर 30 जनवरी 1948 के दिन मैंने गांधी का वध किया।
मेरे पास कहने के लिए और कुछ नहीं है। अगर देशभक्ति पाप है तो मैं मानता हूँ कि मैंने ये पाप किया है।”

नाथूराम गोडसे : न्यायालय में दिए गए ब्यान का सारांश , दिल्ली 8 नवंबर 1948 अभियुक्त क्रमांक

सौजन्य :- पुस्तक “गांधी वध क्यों”