Tag Archives: women in islam

Why not four spouses for Muslim women too, asks Kerala HC judge

Kerala high court judge Justice B Kamal Pasha stirred a hornet’s nest on Sunday by asking why Muslim women could not have four husbands while the men enjoyed the same privilege under the Muslim personal law.

Addressing a seminar organised by an NGO run by women lawyers in Kozhikode, Pasha said Muslim personal laws are heavily loaded against women. He blamed religious heads for establishing the hegemony of men and wanted them to introspect during religious discourses on sensitive issues.

Under the Muslim personal law, a man can marry four times. Although many Muslim countries have banned polygamy, it is still prevalent in India.

“Religious heads should do self-introspection whether they are eligible to pronounce one-sided verdicts. People should also think about the eligibility of persons who are pronouncing such verdicts,” he said, adding that women were deprived even of the rights enshrined in the Quran.

Pasha also said that it was unfair to oppose a uniform civil code. “Even the highest court is a bit reluctant to interfere in this. Women should come forward to end this injustice,” he said.

“Personal law is loaded with discrimination. Besides denying equality, it also denies women’s right to property and other issues,” he said. The judge added that the Protection of Women from Domestic Violence Act, 2005, will be fruitful if the right of a woman to her husband’s property is properly defined.

This article originally appeared on Hindustan Times.

http://www.hindustantimes.com/india/why-not-four-spouses-for-muslim-women-too-kerala-hc-judge/story-AGUfESXK3vo51XUMgUFLNJ.html

इस्लाम में नारी

इस्लामिक साहित्य में स्त्रीयों के प्रति मानसिकता को प्रदर्शित करते कुछ उदाहरण :

अत्याचार करने और कष्ट देने की सूची में औरत सदैव ऊपर रही है . ( इसका अनुमान आधुनिक युग में भी लगाया जा सकता है ) क्योंकि हजरत अली के कथनानुसार औरत की खस्लत (प्रवृत्ति , स्वाभाव) में अत्याचार करना, कष्ट देना और लड़ाई और झगड़े को पैदा करना ही होता है . नहजुल बलागा  में है :-

………. वास्तव में जानवरों के जीवन का उद्देश्य पेट भरना है फाड़ खाने वाले जंगली जानवरों के जीवन का उद्देश्य दूसरों पर हमला करके चीरना फाड़ना है और औरतों का उद्देश दुनिया की जिन्दगी का बनाव सिंगार और लड़ाई झगड़े पैदा करना होता है . मोमिन वह हैं जो घमण्ड से दूर रहते हैं . मोमिन वह हैं जो महरबान हैं मोमिन वह हैं जो खुदा से डरते हैं .

जहाँ हजरत अली ने औरत को लड़ाई झगडा फ़ैलाने और  पैदा करने वाला बताया है वहीं रसूल ए  खुदा ने इर्शाद फरमाया :
‘ औरतें शैतानों की रस्सियाँ हैं “

अर्थात औरतें कल अक्ल (मंद बुद्धि नाकिसुल अक्ल ) होने के कारण शैतान के कब्जे (चंगुल ) में शीघ्र आ जाती हैं और शैतान उस मंद बुद्धि औरत के हाथों दुनिया में लड़ाई झगडा (दंगा फसाद ) फैलाने  (अर्थात खुदा के बन्दों पर अत्याचार करने ) का काम लेता है और हजरत अली के विचारानुसार मर्द वह होता है जो औरत के लड़ाई झगड़े फ़ैलाने के बावजूद भी खुदा से डरता रहता है और औरत जैसी कमजोर जाति पर मजबूत होने की वजह से अत्याचार  नहीं करता और न ही कष्ट देता है .

बहरहाल हज़रत अली ने औरत को जहाँ लड़ाई झगडा फैलाने वाला बताया है वहीं पुरी तरह से (सरापा) आफत (मुसीबत ) ही बताया है

“औरत सरापा (पूरी तरह से ) आफत (मुसीबत ) हैं और इससे ज्यादा आफत यह है की उसके बिना कोई चारा नहीं (अर्थान गुजारा नहीं )

अर्थात औरत के साथ होने आया न होने …….. दोनों हालातों में मर्द के लिए मुसीबत ही मुसीबत है . शायद इसी लिए मर्द इस पुरी तरह से मुसीबत औरत को अपने गले से लगा लेता है . ताकि मुसीबत के साथ साथ शरीर से चिमटने और लिपटने पर स्वाद और आनन्द भी मिलता रहे . हजरत अली ने इर्शाद फरमाया :

“औरत एक बिच्छु है लिपट जाते तो (उसके जहर में ) स्वाद है “

लेकिन जी तरह बिच्छु अपनी आदत के अनुसार  डंक मारे बिना नहीं रह सकता . उसी तरह औरत भी लड़ाई झगडा फैलाये बिना नहीं रह सकती अर्थात (कुछ को छोड़कर  अधिकतर ) औरत की खस्लत में अत्याचार करना , ढोंग मचाना कष्ट देना और शत्रुता फैलाना इत्तियादी कूट कूट कर भरा होता है . ऐसी ही औरतों के लिएय रसूल ए खुदा ने इर्शाद फ़रमाया
“ जो औरतें अपने पति को दुनिया में तकलीफ पहुँचती हैं हरें उससे कहती हैं तुझ पर खुदा की मार अपने पति को कष्ट न पहुंचा यह मर्द तेरे लिए नहीं ही तू इसले लायक नहीं , वह शीग्र ही तुझ से जुदा होकर हमारी तरफ आ जायेगा .
अर्थात अपने पति को कष्ट देने वाली औरत स्वर्ग नहीं पहुँच सकती

इस्लाम और सेक्स डॉ. मोहम्मद तकी अली आबिदी (स्वर्ण पदक )

क्या कहें ! बस यही कह सकते हैं कि भगवान्  ऐसे लोगों को सद्बुद्धि दें .

Whether women lack common sense?

received_4907198015911 

Woman in Indian civilization

Womanhood has been reverenced in the ancient Indian culture as a manifestation of divine qualities. Womanhood is a symbol of eternal virtues of humanity expressed in compassion, selfless love and caring for others. The Indian philosophers of yore (the rishis) considered that the seeds of divinity grow and blossom in a truly cultured society where women are given due respect and equal opportunities of rise and dignity. The scriptures and later works on Indian culture and philosophy stand witness to the fact that women indeed receive high recognition and respect in the Vedic age. The contribution of women rishis in making the ancient Indian culture a divine culture were not less than those of their male counterparts. In the later ages too, women had always been integral part of cultural, social and intellectual evolution of the human society. India has been country where we have been following up the principle of  “यत्र नार्यस्तु पूज्यन्ते रमन्ते तत्र देवता: ।
यत्रैतास्तु न पूज्यन्ते सर्वास्तत्राफला: क्रिया: ।( Yatra Naryastu Pujyante Ramante Tatra Devata Yatraitaastu Na Pujyante Sarvaastatrafalaah Kriyaah ।।)

i.e. “Where Women Are Honored , Divinity Blossoms There; And Where They Are Dishonored , All Action Remains Unfruitful.”

Women in Arabian Civilization

However there has been one civilization in far Arabian desert which doesn’t fall in line with this concept of the humanity towards the women and are of opinion that women are dumb and was treating them as a tool for their pleasure.

Women as Dweller of Hell

Sahih Muslim Hadith says that it is narrated on the authority of Abdullah B Umar that the Messenger of Allah said “O woman folk you should give charity and ask much Forgiveness for I say you in the bulk amongst the dweller of Hell. A wise lady among them said “Why is it, Messenger of Allah that our folk is in bulk in Hell. Upon this Messenger of Allah said “you curse too much and are un-grateful to you spouses.

This is totally baseless logic that women are not grateful to their spouses and they should pay charity as they are in bulk amongst the dweller of hell. Reason given behind being in bulk in hell is also out of the box that women curse too much that’s why they are part of hell. Opinion about the women doesn’t stop at this point, Sahish Muslim further recites that:

Women lack common sense

it is narrated on the authority of Abdullah B Umar that the Messenger of Allah said “ I have seen none lacking in common sense and failing in religion but ( at the same time) robbing the wisdom of the wise besides you. Upon this the woman remarked: what is wrong with our common sense and with religion?

Islamic Scholar Hamid Siddiqi adds that Woman know the art of playing with the sentiments of man and she succeeds in forcing her will upon him.

In our opinion both things are contradictory; in one place Mohammad sahab has said that woman lacks common sense however at the other place they are saying the woman have capability to rob their companions. If the part of population, which Muhammad sahab says that are superior to the women, is porn to be robbed by later in that case how the woman can be inferior from the section they are able to rob?

Evidence of women considered as half of man

The Holy Prophet said” your lack of common sense can be well judged that the evidence of two women is equal to one man. That is the lack of common sense. You spend some nights and days in which you do not pray and in the month of Radan ( during the days) you do not fast, that is failing in religion.

(Sahih Muslim by Imam Muslim rendered into English by Abdul Hamid Siddiqi : Part -1 page no 80)

Islamic scholar Hamid Siddiqi explains that The Holy Prophet has supported his contention with reason. Women are generally shy capricious and whimsical and are easily carried off by their emotions and thus their study of the situation is hardly objective. That is the reason why the Shari’ah has accepted the evidence of the two women equal to one man and it is only in this sphere that they are declared to be inferior in wisdom as compared with men.

This can be called a dark age in which women were considered common sense less in the Arabian part. However the position was totally different in Aryavart ( Bharatvarsh). The women occupied a very important position, in the ancient Bharat. Women were held in higher respect in India than in other ancient countries, and the Epics and old literature of India assign a higher position to them than the epics and literature of other religions. Hindu women enjoyed rights of property from the Vedic Age, took a share in social and religious rites.

it may be confidently asserted that in no nation of antiquity were women held in so much esteem as amongst the Hindus.” In Ancient India, however, The chivalrous treatment of women by Hindus is well known to all who know anything of Hindu society. Knowledge, intelligence, rhythm and harmony are all essential ingredients for any creative activity.

It is not unimportant, that Earth (prithivi) is considered female, and the goddess who bears the mountains and who brings forth food that feed all. Education for girls was regarded as quite important. While Bramhavadani girls were taught Vedic wisdom, girls of the Ksatriya girls were taught the use of the bow and arrow. Patanjali mentions the spear bearers (saktikis). Megasthanese speaks of Chandragupta’s bodyguard of Amazonian women. Kautilya mentions women archers (striganaih dhanvibhih). Similarly, Kautilya in his Artha sastra, which is also taken to be a document of Mauryan history, refers to women soldiers armed with bows and arrows.

Status of women in India can be judged by the law of Manu:

“Where women are honored there the gods are pleased; but where they are not honored no sacred rite yields rewards,” declares Manu Smriti (III.56) a text on social conduct.

“Women must be honored and adorned by their fathers, brothers, husbands and brothers-in-law, who desire their own welfare.” (Manu Smriti III, 55)

“Where the female relations live in grief, the family soon wholly perishes; but that family where they are not unhappy ever prospers.” (Manu Smriti III, 57)

“The houses, on which female relations, not being duly honored, pronounce a curse, perish completely as if destroyed by magic.” (Manu Smriti III, 58)

“Hence men, who seek their own welfare, should always honor women on holidays and festivals with gifts of ornaments, clothes, and dainty food.” (Manu Smriti III, 59)

No other Scripture of the world have ever given to the woman such equality with the man as the Scripture of the Hindus.

When Shankaracharya, the great commentator of the Vedanta, was discussing philosophy with another philosopher, a Hindu lady- Bharti, well versed in all the Scriptures, was requested to act as a judge.

It is the special injunction of the Vedas that no married man shall perform any religious rite, ceremony, or sacrifice without being joined in by his wife; the wife is considered a partaker and partner in the spiritual life of her husband; she is called, in Sanskrit, Sahadharmini, “spiritual helpmate.”

In the whole religious history of the world a second Sita will not be found. Her life was unique

In the Ramayana we read the account of Sulabha, the great woman Yogini, who came to the court of King Janaka and showed wonderful powers and wisdom, which she had acquired through the practice of Yoga. This shows that women were allowed to practice Yoga.

As in religion, Hindu woman of ancient times enjoyed equal rights and privileges with men, so in secular matters she had equal share and equal power with them. From the Vedic age women in India have had the same right as men and they could go to the courts of justice, plead their own cases, and ask for the protection of the law.

Motherhood is considered the greatest glory of Hindu women

 The Taittiriya Upanishad teaches, “Matridevo bhava” – “Let your mother be the god to you.”

Hindu tradition recognizes mother and motherhood as even superior to heaven. The epic Mahabharata says, “While a father is superior to ten learned priests well-versed in the Vedas, a mother is superior to ten such fathers, or the entire world.”

 

Religion of Peace that orders to kill Non Muslims

In 2001 president Bush quoted at Islamic Center of Washington, D.C. that “Islam is Peace”.  General people who doesn’t have that much knowledge of Islam feels in similar manner. Various Muslim scholars also quote the same and say that Islam literally means “peace or submission” .Muslims who are keen to emphasize their rejection of violence have used the term “a religion of peace” as a description of Islam they says that “The Prophet  did not found a terrorist religion, but a religion of peace.” .but when we look at the history and the current affairs of various Muslim organizations like ISIS, BOKO Haram and Indian Muzahiddin etc, situation is totally different. On looking the activities of these organization and the similar emperors and organization in past it seems that it’s a different world which is shown to general public.

There is an uncanny irony here that many have noticed. The position of these Muslim organizations like ISIS in the face of all provocations seems to be: “Islam is a religion of peace, and if you say that it isn’t, we will kill you. “

Of course, the truth is often more nuanced, but this is about as nuanced as it ever gets: Islam is a religion of peace, and if you say that it isn’t, we peaceful Muslims cannot be held responsible for what our less peaceful brothers and sisters do. When they burn your embassies or kidnap and slaughter your journalists, know that we will hold you primarily responsible and will spend the bulk of our energies criticizing you for “racism” and “Islamophobia.”

The problem, however, is that the credo of these Muslim organizations like Taliban ISIS actually happens to be “Allah is our objective. The Prophet is our leader. The Qur’an is our law. Jihad is our way. Dying in the way of Allah is our highest hope.”

It is strange that ISIS wants to establish Islamic state. They says that they are on path of Allah. Looking into their views. Its stranger that Allah, the Islamic God, wants to make people Muslims through a cruel scheme of terror. Being the Creator, he could have achieved this goal by creating everybody a Muslim.

It is amazing to maintain appearance, Islam does not include Jihad in its Five Basic Canons, that is the confession (Kalma), Namaz, Roza, Zukat and Hajj. The reason for this exclusion is to create ambiguity to baffle the followers so that freedom is given to carry out acts of barbarity as holy deeds without inquiring into the nature of religion

Jihad is the surest way of securing paradise. Look at the following Qur’anic Evidence to lure Muslims for Jihad.

 

Look at the hatred verses in Quran against the non-Muslims:

is3is3is3is3Sura Repentance 9:5

 “But when the sacred months expire slay those who associate others with Allah in His Divinity wherever you find them, and besiege them and lie in wait for them. But if they repent and establish the prayer and pay Zakah leave them alone. Surely Allah is all – forgiving ever merciful. And if any of those who associate others with Allah in His Divinity seeks asylum, grant him asylum that he may hear the Word of Allah and then escort him to safety for they are a people who do not know.”

AllamaShabbir Ahmad Usmani describes that it is told that though no covenant stood between the Muslims and the covenant breakers and the Muslims were justified to take any prompt actions against them befitting their crime, yet the reverence of the Holy Months demanded some toleration either because first action might have been forbidden in the holy months up to that time or because of some expedient reason that why confusion should be created among the people for a minor things since warring during these months was conventionally infamous among them. However they were given respite till the end of these month to manage their affairs as they liked.

He further explains that After that for the purification of Arabian Peninsula (an area of land that is almost surrounded by water but is joined to a larger piece of land:
the Iberian peninsula (= Spain and Portugal)) there would be no way out save war. And what is done in war – Killing, arresting, besieging, confining, lying in wait for ambush shall be done necessarily.

Look at the further explanations how clear they are in way of forcing the people to convert to Islam. :

 

According to Imam Ahmad, Imam Shafaee, Imam Malik repent it is obligation of an Islamic State to slay the offender of Salat if he does not repent and begin to pray. Imam Abu Haneefa(Be God’s mercy on him) says that he should be beaten harshly and sentenced to confinement till he dies or repents.

 

How poor that GOD is who is dependent on these terrorists to spread his views.

If he would have been that much of powerful why he didn’t created all the people as Muslims.

Why he is so helpless aginst the Shiatan who is creating obstacle in making the whole world an Islamic State.

women in Vedas and in Islam

rani

देखिये वेद में कहा गया है की-

सम्राज्ञेधि श्वसुरेषु सम्राज्ञयुत देवृषु |

ननान्दुः सम्राज्ञेधि सम्राज्ञयुत श्वश्रवाः ||४४||

                     (अथर्ववेद ४-१-४४)

   अर्थात- हे देवि ! अपने श्वसुर आदि के बीच तथा देवरों के बीच व ननन्द के साथ ससुराल में महारानी बन कर रह |

    वैदिक धर्म के अन्दर नारी की स्थिति पतिगृह में महरानी की है | वह सभी की आदरणीय होती है | सारे घर व परिवार का संचालन उसी के हाथ में रहता है घर की सारी सम्पति, धन, आभूषण सभी उसके अधिकार में रहते है |

   पति तथा परिवार के सभी लोग प्रत्येक महत्वपूर्ण काम में उसकी सलाह लेते हैं तथा उसकी इच्छानुसार ही सारे कार्य सम्पन्न होते हैं |

   इस्लाम मत के अनुसार नारी को पैर की जूती के समान बुरी निगाह से नहीं देखा जाता है, अपितु पति के कुल में  वह पति एवं पुत्र की दृष्टि में सर्वप्रमुख स्थान रखती है |

    हिन्दू धर्म में एक पुरुष के लिए एक ही नारी से विवाह करने का विधान है न की इस्लाम की तरह चार-चार औरतों से निकाह करने व रखेलें रख कर उनके जीवन को कलेशमय बनाने का आदेश है | एक बार शादी होने के बाद हिन्दू पति को प्रत्येक अवस्था में अपनी पत्नी को जिन्दगी भर धर्मपत्नी के रूप में निबाहने की आज्ञा है और सारे हिन्दू इसका पालन करते हैं | हिन्दू समाज में नारी बुर्के में कैद नहीं रखी जाती है | वह बहुत हद तक स्वतंत्र है और हर काम में पति की सहचरी है | नारी का जो पवित्र आदरणीय स्थान हिन्दू धर्म में है वह संसार के किसी भी मजहब में नहीं है | माँ,पुत्री,बहिन एवं पत्नी के रूप में वह सदैव पूज्या एवं आदरणीया है |

    इसीलिए अन्य मजहबों की समझदार सेकड़ों स्त्रियाँ हिन्दू धर्म में आना पसंद करती है जहाँ तलाक जायज नहीं है |

शरियः (इस्लामी कानून) में औरतों की दुर्दशा

१.       मुस्लिम महिलाओं की स्थिति मुस्लिम समाज में बन्धुआ मजदूरों जैसी है, क्योंकि उनको वहाँ कोई स्वतंत्रता अथवा समता प्राप्त नहीं है | वे अपने पति की दासी (गुलाम) हैं और मुस्लिम पति की अन्य अनेक अधिकारों के साथ अपनी पत्नी की मारने पीटने, सौतिया डाह देने एवं अकारण विवाह विच्छेद (तलाक) के स्वेच्छाचारी अधिकार प्राप्त हैं | मुस्लिम पत्नी की किसी दशा में विवाह विच्छेद तक का अधिकार नहीं है |

                                                              (आइ० एल० आर० ३३ मद्रास २२)

२.       उपरोक्त अधिकार मुस्लिम पत्नियों को पवित्र कुरान में कही नहीं दिए गए हैं |

                                            (ए० आई० आर० १९७१ केरल २६१ एवं १९७३ केरल १७६)

परन्तु फिर भी उनका उपभोग किया जा रहा है, और उपरोक्त भय एवं डर के कारण मुस्लिम पत्नियाँ कुछ नहीं कह पाती है | अभी कुछ दिन पहले मुस्लिम महिलाओं द्वारा अपने परिवार के साथ भी सिनेमा देखने पर उनकी मारपीट की गई और कहीं-कहीं उनके अंग भंग टेक के समाचार मिले हैं | अर्थात उन्हें अपने समाज में भी बराबरी के अधिकार प्राप्त नहीं हैं | यह अत्याचार “शरियत के नाम पर उसकी दुहाई देते हुए ही किये जाते हैं |

३.       मुस्लिम पतियों के नाम इन अप्रतिबंधित अधिकारों में से मुस्लिम राष्ट्र पाकिस्तान एवं बंगलादेश ने पतियों के विवाह विच्छेद के अधिकार पर अंकुश लगा दिया है |

१.       मुसलामानों पर शरियत कानून उनके अपने धर्म के प्रति अधिक सजग रहने के कारण लागू नहीं होता है, बल्कि शासन द्वारा बनाए गए सन १९३७ ई० के शरियत लागू करने के कानून से लागू है, और इसी आधार पर ब्रिटिश काल में अंग्रेज सरकार ने शरियत कानून में संशोधन कर मुस्लिम विवाह विच्छेद अधिनियम सन १९३९ ई० से लागू कर मुस्लिम पतियों द्वारा अपनी पत्नियों पर किये जा रहे अमानुषिक अत्याचार रोकने की दशा में पग उठाया था |

         इस कानून को पारित होने के पूर्व तक मुस्लिम पत्नी को अपने पति द्वारा अपनी पत्नी धर्म का पालन न करने देने, व्यभिचार तक को बाध्य करने का प्रयत्न करने पर भी उनके भरण पोषण का प्रबंध करने, अथवा स्वयं पति के नपुंसक, पागल, कोढ़ी, उपदंश आदि भयंकर रोगों से पीड़ित होने पर अथवा व्यभिचारी होने पर भी, अथवा अपनी पत्नी से भी मारपीट करने एवं अन्य निर्दयी व्यवहार करने पर भी अपने ऐसे पति से भी विवाह विच्छेद प्राप्त करने की अधिकारिणी नहीं थी |

२.       विवाह एक सामाजिक संस्था है और उसमें समय एवं परिस्थिति के कारण परिवर्तन एवं संशोधन आवश्यक होता है, और इस सम्बन्ध में राज नियम भी बनाये जा सकते है, और यदि धर्म भी आड़े आवे तो शासन उसमें संशोधन कर सकता है |

                     (संविधान अनुच्छेद २६)

  हिन्दुओं में विवाह धार्मिक संस्कार होते हुए भी समय की मांग के अनुसार उसमें संशोधन किये गए है |

३.       अपना पवित्र संविधान १५ (३) के अंतर्गत महिलाओं की सुरक्षा आदि के लिए विशेष राज नियम बनाने का अधिकार देता हैं | मुस्लिम महिलाओं की स्थिति दयनीय है उनकी सुरक्षा एवं उन्नति के लिए बंधुआ मजदुर उन्मूलन अधिनियम सन १९७६ ई० के अनुरूप कानून बनाया जाना आवश्यक है |

          देवदासी प्रथा उन्मूलन के सम्बन्ध में भी कानून बनाये जाने की मांग उठा रही है | अपने राष्ट्र के भूतपूर्व मुख्य न्यायाधीश एवं वर्तमान में उपराष्ट्रपति माननीय मोहम्मद हिदायततुल्ला महोदय एवं अन्य अनेक उच्च न्यायालय प्रमुख विधिवेता एवं विचारकों नेब भी मुस्लिम महिलाओं की स्थिति सुधारने के लिए कानून बनाये जाने की आवश्यकता बताई हैं |

अतः निवेदन है की मुस्लिम महिलाओं की उन्नति एवं उन्हें बराबर के अधिकार दिलाये जाने के लिए विशेष कानून का निर्माण किया जाना अतिआवश्यक है

साभार-समाचार पात्र से प्रकाशित उद्घृत

  इस प्रकार हमने इस लघु-पुस्तिका के माध्यम से नारी की स्थिति का दिग्दर्शन कराया है 

आप लोग स्वयं विचारें और गंभीरता से सोचें, क्योंकि यह एक सामाजिक ही नहीं अपितु राष्ट्रीय प्रश्न है, हमारा किसी के प्रति कोई भेदभाव या ईर्ष्या-द्वेष नहीं है, बल्कि हम चाहते है की- “सर्वे भवन्तु सुखिनः सर्वे सन्तु निरामया” अर्थात संसार के सभी प्राणी सुखी व प्रसन्न रहते हुए ही जीवनयापन करें |

Niyog in Bible and in Quran : Aacharya Shir Ram Sharma

x4

 

इसी प्रकार की व्यवस्था तौरेत में लिखी हुई मिलती है जिसका निम्न प्रमाण दृष्टव्य है, देखिये वहां लिखा है की-

    “जब कई भाई संग (एक साथ) रहते हों और उनमें से एक निपुत्र मर जाए तो उसकी स्त्री का विवाह परगोत्री से न किया जाए, बल्कि उसके पति का भाई उसके पास जाकर उसे अपनी पत्नी कबूले और उससे पति के भाई का धर्म पालन करे” ||५||

    “और जो पहिला बेटा उस स्त्री से उत्पन्न हो वह मरे हुवे भाई के नाम का ठहरे जिससे की उसका नाम इस्त्राएल में से न मिट जाए” ||६||

    “यदि उस स्त्री के पति के भाई को उसे ब्याहना न भाए तो वह स्त्री नगर के मुख्य फाटक पर वृद्ध लोगों से जाकर कहे की मेरे पति के भाई ने अपने भाई का इस्त्राएल में बनाए रखने से नकार दिया है और मुझसे पति के भाई का धर्म पालन करना नहीं चाहता” ||७||

    “तब उस नगर के वृद्ध लोग उस पुरुष को बुलवा कर उसको समझायें, और यदि वह अपनी बात पर अड़ा रहे और कहे की मुझको इसे ब्याहना नहीं भाता” ||८||

    तो उसके भाई की पत्नी उन वृद्ध लोगों के सामने उसके पास जाकर अपने पाँव से जूती उतार कर उसे मारे और उसके मुँह पर थूक दे, और कहे-

…………………………“जो पुरुष अपने भाई के वंश को चलाना न चाहे उससे इसी प्रकार व्यवहार किया जाएगा” ||९||

   तब इस्त्राएल (इजरायल) में उस पुरुष का यह नाम पडेगा—

……………………………………………………………………………………………………”जुती उतारे हुए पुरुष का घराना” |

                                                                 (देखिये तौरेत व्यवस्था विवरण २५)

दुसरा प्रमाण बाइबिल (पुराना धर्म नियम) का भी देखें

बोअज ने कहा ………. फिर मह्लोंन की स्त्री रुतमोआबिन को भी में अपनी पत्नी करने के लिए इस मंशा से मोल लेता हूँ की मरे हुए का नाम उसके निज भाग पर स्थिर करूँ |

     कहीं ऐसा न हो की मरे हुए का नाम उसके भाइयों में से और उसके स्थान के फाटक से मिट जाए | तुम लोग आज साक्षी ठहरे हो |

                                                                                       (लूत-४)

 भाइयों ! उपरोक्त प्रमाण-

     “संतानोच्छुक विधवा के साथ सम्बन्ध करके संतान पैदा न करने पर औरत जुते मारती है और मुँह पर थूकती है” |

  वंश संचालनार्थ नियोग की तौरेत में यह व्यवस्था उचित ही थी जो यहूदी समाज में प्रचालित थी, हाँ ! तरीके में भेद अवश्य रहा है |

   वीर्य तत्व का हिन्दुओं की दृष्टि में अत्यंत महत्व है, उसे नष्ट करना, अय्याशी के चक्कर में मुसलमानों की तरह बर्बाद करना हिन्दू लोग पाप समझते हैं त्तथा सभी हिन्दू लोग- “उसे धारण करना जीवन और उसे बर्बाद करना मृत्यु समझते हैं” | बल बुधि का विकास दीर्घ स्वस्थ प्रसन्नतापूर्ण जीवन की प्राप्ति वीर्य धारण करने से ही संभव होती है |

    वीर्य धातु का उयोग केवल संतान उत्पादनार्थ ही हमारे धर्म में निहित है | इसलिए यह विधान किया गया है की उसका उपयोग व् प्रयोग केवल प्रजा वृद्धि में ही किया जावे |

    यदि कोई गलत आहार व्यवहार से अपने ब्रह्माचर्य को स्थिर रखने में समर्थ पावे तो वह गृहस्थाश्रम में जाकर उसका सदुपयोग करे | अथवा समाज के सम्मुख अपनी विवशता प्रकट करे और स्वीकृति से किसी ऐसे क्षेत्र में उसका उपयोग करे जिसे संतान की इच्छा है |

   यदि उसका पति नपुंसक हो व स्त्री विधवा हो और उसे वंश संचलनार्थ संतान की इच्छा हो | “इसे ही नियोग की आपातकालिक व्यवस्था कहा जाता है” |

 तौरेत में नियोग की एक व्यवस्था और भी देखिये-

यहूदा ने ओनान से कहा की—

    “अपनी (विधवा) भौजाई के पास जा और उसके साथ देवर का धर्म पूरा करके अपने भाई के लिए संतान उत्पन्न कर” ||९||

   ओनान तो जानता था की संतान तो मेरी न ठहरेगी, सो ऐसा हुआ की जब वह अपनी भौजाई के पास गया तब उसने भूमि पर वीर्य गिरा कर नाश किया जिससे ऐसा न हो की उसके भाई के नाम से वंश चले ||१०||

……………………..यह काम जो उसने किया उससे यहोवा खुदा अप्रसन्न हसा और उसने उसको भी मार डाला ||११||

                                                                              (तौरेत उत्पति ३८)

   कुरान की मान्य खुदाई पुस्तक तौरेत की यह धटना उसके मान्य खुदा यहोवा की ओर से साक्षात नियोग प्रथा ही थी जो वंश चलाने के लिए उस समय समाज में स्वीकृत व चालु थी |

 चार-चार औरतों से शादियाँ व अनेक रखेलें रखने से विर्यनाश का इस्लाम में दरवाजा खुला हुआ है, मरने पर जन्नत में ५०० हूरें, चार हजार क्वारी औरतें व आठ हजार विवाहिता औरतें हर मिंया को मिलेंगी उनसे खुदा उनकी शादी कराएगा, गिल्में (लौंडे) भी खुदा प्रदान करेगा यह सब बताता है की-

   “इस्लाम में पुरुष जीवन का मुख्य उद्देश्य ही विषयभोग करना व वीर्यत्व का विनाश मनोरंजन के लिए करना है” |

  और खुदा इससे सहमत है की शराबें पीकर विषयेच्छायें जन्नत में १२,५०० औरतें मिलने वाली बात को मिर्जा हैरत देहलवी ने अपनी किताब मुकद्द्माये तफसीरुलकुरान में पृष्ठ ८३ पर लिखी हैं |

  क्योंकि कुरान में लिखा है की-

………………………………………………….आदमी के सो जाने पर उसकी रूह को खुदा अपने पास बुला लेता है ||४२||

                                                        (कुरान पारा २४ सुरह जुमर रुकू ५ आयत ४२)

मिर्जा हैरत देहलवी भी खुदा के पास जाकर जन्नत का सारा तमाशा खुद ही देख कर आये थे | कोई भी मौलवी उनकी चश्मदीद बात को गलत साबित कैसे कर सकता है ?

   आगे देखिये कुरान क्या कहता है ?-

……….“और जो अपने परवरदिगार के सामने खड़े होने से डरा और इन्द्रियों (नफस-विषयभोग) की इच्छाओं को रोकता रहा” ||४०||

……………………………………………………………………………………………………तो उसका ठिकाना बहिश्त है ||४१||

                                                        (कुरान पारा ३० सुरह जुमर आयत ४० व ४१)

इसमें विषय भोग से बचने वालों को “बहिश्त” मिलने का उपदेश दिया गया है किन्तु स्वयं ही हजरत मौहम्मद साहब ने ही इसका पालन कभी नहीं किया जैसा की कुरान से स्पष्ट है, देखिये वहां लिखा है की-

   “ऐ पैगम्बर ! हमने तेरी वह बीबियाँ तुझ पर हलाल की जिनकी मेहर तू दे चुका है और लौंडिया जिन्हें अल्लाह तेरी तरफ लाया और तेरे चचा की बेटियाँ और तेरी बुआ की बेटियाँ और तेरे मामा की बेटियाँ और तेरी मौसियों की बेटियाँ जो तेरे साथ देश त्याग कर आई है” |
   …………………………………………………..और वह मुसलमान औरतें जिन्होनें अपने को पैगंबर को दे दिया बशर्ते की पैगंबर भी उनके साथ निकाह करना चाहे | यह हुक्म ख़ास तेरे ही लिए है सब मुसलामानों के लिए नहीं ||५०||

    ऐ पैगम्बर ! इस वक्त के बाद से ….. दूसरी औरतें तुमको दुरुस्त नहीं और न यह की उनको बदल कर दूसरी बीबी कर लो | अगर्चे उनकी खूबसूरती तुमको अच्छी ही क्यों न लगे | मगर बांदियां (और भी आ सकती हैं) और अल्लाह हर चीज को देखने वाला है ||५२||

                                                      (कुरान पारा २२ सुरह अह्जाब रुकू ६ आयत ५२)

(बंदियों से जिना (सम्भोग) करना कुरान में जायज है | रामनगर, बनारस के एक मौलवी अबूमुहम्मद ने हजरत साहब की बीबियों की संख्या बारह लिखी है (यह उनकी निकाही औरतें थी) जो इस प्रकार है देखिये—

१:- खदीजा……….पुत्री खवैलद,

२:- सौदह………….पुत्री जमअः,

३:- आयशा………पुत्री अबूबकर,

४:- ह्फजा…………..पुत्री उमर,

५:- जैनब………..पुत्री खजीमा,

६:- उम्मेसलमा…….पुत्री अबूउमय्या,

७:- जैनब…………………..पुत्री जह्श,

८:- जुवेरिया……………….पुत्री हारिस,

९:- रेहाना………………….पुत्री मजीद,

१०:- उम्मे हबीबा….पुत्री अबूसुफ़यान,

११:- सफीया…………………पुत्री लम,

१२:- मैमून:………..पुत्री……………?

   निकाही इन एक दर्जन बीबियों के अतिरिक्त बिना निकाही औरतें व दासियों के रूप में उनके पास कितनी स्त्रियाँ और रहती थी ? उनकी संख्या व नामावली हमको नहीं मिल सकी है | किन्तु उनकी संख्या भी यथेष्ट ही रही होगी क्योंकि खुदा ने वे उनको भेंट की थी |

    ब्रह्माचर्य व संयम का उपदेश दूसरों को देने वालों के लिए उस पर स्वयं आचरण करना अधिक आवश्यक होता है तभी अनुगामी लोगों पर उसका असर पड़ता है, देखिये—

   “खुद चालीस साल की उम्र में हजरत मुहम्मद साहब ने केवल सात साल की बच्ची आयशा से अपनी शादी की थी- इस मिसाल को पेश करके उन्होंने अपना कौन सा गौरव बढ़ाया था” ?

    पाठक स्वयं सोचें | दूसरों के लिए कुरान में एक-एक, दो-दो, तीन-तीन, चार-चार औरतों से शादी की मर्यादा बांधना व स्वयं एक दर्जन शादियाँ करना “दीगर नसीहत व खुदरा फजीहत” वाली बात है | आप ज़रा गौर फरमाएं—

   “आज जिस मामाजात-मौसीजात व बूआजात तथा चचाजात लड़की को बहिन कहना व दुसरे दिन उसे ही जोरू बना लेना क्या यही धार्मिक मर्यादा इस्लाम में औरत की इज्जत है” ??

   इस्लाम में जो आज भाई है वही कल शौहर बन जाता है | देखिये जो आज गोद लिए हुवे बेटे की बहु है वही दुसरे दिन अपनी बीबी बना ली जाती है जैसा की-

    “जैद की बीबी जैनब के लिए खुदा की इजाजत लेकर हजरत मौहम्मद साहब ने अपनी बीबी बना कर एक जुर्रत से ज्यादा हिम्मत वाला दृष्टान्त प्रस्तुत किया था” |

   इस तरह तो जो बाप की रखेल के रूप में आज माँ है कल वही आपके बेटे की बीबी भी बन सकेगी |

क्या इसी अरबी बेहूदी सभ्यता को इस्लाम संसार में फैलाकर, नैतिकता और सभ्य संसार की सभी आदर्श वैज्ञानिक मर्यादाओं का विनाश करने पर तुला हुआ नहीं है ? क्या अरबी खुदा इतना भी नहीं जानता था की निकट के विवाह संबंधों से आगे की नस्ल बिगड़ कर अनेक रोगों की शिकार बन जाती है |

   और तो और दुनिया में कुते पालने वाले भी यह जानते हैं की अच्छी नस्ल बनाने के लिए दूर की नस्ल से मिलान कराके अच्छे कुते पैदा कराते हैं | परन्तु अरबी कुरान लेखक खुदा को इतनी सी साधारण बात भी समझ नहीं आती थी , ताज्जुब है ?

   क्या इससे यह साबित नहीं होता की मुस्लिम समाज में बहिन-बेटी माँ आदि के सभी रिश्ते कोरे दिखावटी मात्र हैं, असली रिश्ता तो हर औरत से लुत्फ़ का ही इस्लाम में माना जाता है |

    देखिये इमाम अबू हनीफा तो यही मानते थे की-

  “मौहर्रम्मात आब्दिय:” अर्थात सभी माँ, बहिन व बेटी से जिना (सम्भोग) करना पाप नहीं है |

 

यह आदर्श तो केवल हिन्दू समाज में ही कायम है, की जिसको माँ-बहिन या बेटी एक बार अपनी जुबान से कह दिया तो उससे जीवन भर उसी रूप में हिन्दू समाज रिश्ता निबाहता है और हर स्त्री अपनी इज्जत के लिए वहाँ आश्वस्त रहती है |

   जिससे जिसका एक बार विवाह हो गया वह दोनों जीवन भर हर स्थिति में पति-पत्नी के रूप में उसे पालन करते हैं | इस्लाम की तरह ऐसा नहीं है की-

    इस्लाम की तरह उसे जब भी चाहे तलाक दे दे अथवा औरत मर्द को या मर्द औरत को पुरानी जूती की तरह जैसा की इस्लाम में नारी बदलने की कुरान में समर्थित रिवाज है |

   नारी की प्रतिष्ठा इस्लाम में केवल “विषयभोग” के लिए पशु धन के रूप में क्रीत दासी के समान है |

  जबकि हिन्दू धर्म में वह माता-पुत्री पत्नी व देवी के रूप में उपासनीय व आदरणीय स्थान पाती है | पता नहीं मुस्लिम नारी अपनी वर्तमान स्थिति को कैसे व कब तक बर्दाश्त करती रहेगी ?

  हमको कुरान की इस विचित्र व्यवस्था पर भी आपति है, देखिये जिसमें कहा गया है की-

 फिर जिन औरतों से तुमने लुत्फ़ अर्थात मजा उठाया हो तो उनसे जो (धन या फीस) ठहरी थी उनके हवाले करो, ठहराए पीछे आपस में राजी होकर जो और ठहरा लो तो तुम पर इसमें कुछ गुनाह नहीं | अल्लाह जानकार और हिकमत वाला है |

                                 (सुरह निसा आयत २४)

यह व्यवस्था समाज के लिए बहुत आपतिजनक है | “औरतों के सतीत्व की कीमत कुछ पैसे ?” कुरान मानता है जो वेश्याओं की फीस की तरह उनसे पहिले ठहरा लियी जाने चाहिए और उसके बाद उनसे अय्याशी की जानी चाहिए

    यदि निकाह कर लियी हो और उनसे फीस (मेहर) ठहरा की गयी हो तो मर्द जब भी चाहे अपना शौक पूरा करने पर वह फीस या मेहर उनको वापिस देकर तलाक दे सकता है, उन्हें घर से निकाल सकता है, उनसे छुटी पाकर नई बीबी कर सकता है |

   इस प्रकार नारी की स्थिति मर्द का शौक पूरा करना उस दशा में बन जाती है जबकि वह उसे पकड़ लावे-लुट लावे या वह किसी प्रकार भी उसके कब्जे में आ जावे |

   यदि स्त्री एक बार मर्द की ख्वाहिश (इच्छा) पूरी करने की फीस ठहराने के बाद आगे भी उसके कब्जे में फंसी रहे तो मर्द उससे आगे की फीस भी तय कर ले यही तो इस आयत के शब्दों का अर्थ है और यह सब अरबी खुदा की आज्ञा के अनुसार होता है |

   शादी के वक्त जो रकम मर्द द्वारा पत्नी को तलाक देने की एवज अर्थात दशा में देनी तय होती है उसे ही “मेहर” कहते हैं | औरत की इज्जत (अस्मत) का मूल्य बस केवल यह “मेहर” ही तो होती है | मर्द चाहे जितनी औरतों से निकाह करता जावे, बस ! उससे तय की हुई मेहर (पारिश्रमिक) उसे देकर तलाक देता हुआ रोज नित औरतों से निकाह करने का उसको पूरा अधिकार है | उस पर जिम्मेवारी केवल मेहर देने मात्र तक की ही रहती है | और इससे ज्यादा वह कुछ भी उससे नहीं ले सकती है |

  इस्लाम में नारी की दशा का यह सही चित्रण पेश किया गया है जो मुस्लिम नारियों व समझदार मुसलामानों की सेवा में विचारणीय है की पैसे के बल पर तथा पशु बल से, मर्द औरत के सतीत्व व उसके शरीर की कितनी दुर्दशा कर सकता है ? और यह सब इस्लाम मजहब में जायज है |

अधिक पत्नियां रखने पर जहाँ पुरुष का जीवन कलेशमय हो जाता है, घर का वातावरण भी अत्यन्त कलहपूर्ण अर्थात जी का जंजाल बन जाता है, संतान भी बाप की देखा देखि विषयभोग प्रिय व दुराचारी बन जाती है, वहां सौतियां डाह (ईर्ष्या द्वेष) से नारियों का जीवन भी दोजखी अर्थात नरकमय और दुःखी व दुराचारपूर्ण बन जाता है |

   चाहे मर्द कितना ही सम्पन्न व औषधि सेवन करके पत्नियों को सम्भोग से संतुष्ट रखने का यत्न करने वाला ही क्यों न हो ? इस विषय में हजरत मौहम्मद साहब के परिवार की स्थिति भी बहुत खराब थी, जैसा की कुरान से ही स्पष्ट है | देखिये कुरान में खुदा कहता है की-

   “ऐ पैगम्बर की बीबियों ! तुम में से जो कोई जाहिरा बदकारी करेगी उसके लिए दोहरी सजा दी जायेगी और अल्लाह के नजदीक यह मामूली बात है” |

                                                           (कुरान पारा २२, सुरह अहजाब आयत ३०)

देखिये आगे भी खुदाई आदेश क्या कहता है ?:-

     “अगर तुम दोनों (ह्फजा और आयशा) अल्लाह की तरफ तौबा करो, क्योंकि तुम दोनों के दिल टेढ़े हो गए हैं और जो तुम दोनों पैगम्बर पर चढ़ाई करोगी तो अल्लाह और जिब्रील और नेक ईमान वाले दोस्त हैं और उसके बाद फ़रिश्ते उसके मददगार हैं” ||४||

     “अगर पैगम्बर तुम सबको तलाक दे दे तो इसमें अजब (ताज्जुब) नहीं की उसका परवरदिर्गार तुम्हारे बदले उसको तुमसे भी अच्छी बीबियाँ दे-दे जो ……ब्याही हुई और क्वारी हों” ||५||

                                                            (कुरान पारा २८ सुरह तहरिम आयत ४,५)

यह प्रमाण कुरान के हैं जो सभी मुसलमानों को मान्य हैं | इससे प्रकट होता है की-

   “हजरत मुहम्मद की बीबियों में भारी असन्तोष रहता था वे बदकार भी हो गई थी, वे मौहम्मद से लड़ाई झगडा किया करती थी | कोई औरत बदकार तभी होती है जब मर्द उसे संतुष्ट न रख सके |

    गृह कलह यहीं तक नहीं थी वरन एक बार खैबर में मुहम्मद की यहूदी बीबी जैनब ने उनको जहर भी भुने हुए गोश्त में मिला कर दे दिया था जिसे यद्यपि उन्होंने मुँह में चबा कर तभी थूक दिया था तथा उनका एक साथी बशर बिनबरा ने एक निवाला खाया तो वह मर गया था” |

                    (हफवातुल मुसलमीन पृष्ठ २१५)

आगे बुखारी शरीफ में लिखा है की-

  “बीबी आयशा ने कहा की हजरत मुहम्मद ने अपनी मृत्यु-शय्या पर लेते हुए कहा की-हे आयशा ! में हर समय उस खाने से दुःख पाता हूँ जो मैंने खैबर में बीबी जैनब के हाथों खाया था और इस समय उस जहर के असर से मेरी जान टूटती हुई सी मालुम होती है” |

               (मिश्कातुल अनवार बाब ३ सफा ५८)

  भाइयों ! अधिक विवाह करने के शौकीनों की यही दुर्दशा होती है, बीबियाँ आपस में लडती हैं व उस खाविन्द पर हमले करती हैं, वे अपने खाविन्द को जहर देकर मारने में भी नहीं चुकती हैं तथा कुछ औरतें तो बदकार होकर गैरों के साथ भाग कर शौहर का नाम भी डुबो देती हैं |

   अंत समय में मनुष्य अपनी भूलों पर पछताता व रोता है किन्तु तब क्या होता है ? जब समय हाथ से निकल चुका होता है |

   इस्लाम में केवल बहु विवाह की प्रथा ही जायज नहीं रही है वरन व्यभिचारियों को व्यभिचार के लिए बाँदियाँ (सेविकायें) चाहे जितनी रखने व उनसे जिना (सम्भोग) करने की भी खुली छुट रही है जैसा की कुरान में आदेश है, देखिये-

……………………………………………………………“मगर अपनी बीबियों और बांदियों के बारे में इल्जाम नहीं है” ||६||

                                                            (कुरान पारा १२ सुरह मोमिनून आयत ६)

   इस प्रकार कुरान व उसकी समर्थक विभिन्न मान्य इस्लामी पुस्तकों से प्रमाणित है की-

     “इस्लाम में नारी की स्थिति पुरुष की काम पिपासा की पूर्ति करना मात्र ही है” |

   वह विवाहित-अविवाहित वा दासी के रूप में जितनी चाहे स्त्रियाँ रखने में स्वतंत्र है पर शर्त केवल यह कुरान में लगाईं गई है की-

    “वह निकाह की गई औरतों से हर बात में एक जैसा व्यवहार रखकर उन सबको संतुष्ट रख सके” |

   इस्लाम की नारी सम्बन्धी व्यवस्था के विपरीत हिन्दू धर्म में स्त्रियों की स्थिति अत्यंत आदरणीय है | महर्षि मनु ने अपनी मनुस्मृति (धार्मिक न्याय शास्त्र) में लिखा है की-

“यत्र नार्यस्तु पूज्यन्ते रमन्ते तत्र देवता: |

यत्रेतास्तु न पूज्यन्ते सर्वास्तत्राsला क्रिया:” ||५६||

                          (मनुस्मृति ३:५६)

जिस घर में नारी जाति की पूजा, आदर और सत्कार होता है वहां देवता निवास करते हैं, और वहां धर्मात्मा पुरुष व आनन्द का वास रहता है, और जहाँ उनका अपमान होता है वहां सभी निष्फल हो जाते हैं और वहां केवल क्लेश का निवास होता है |

Muta in Islam (इस्लाम में “मुता” की विचित्र प्रथा)

x3

 इस्लाम में “मुता” नाम से एक प्रथा चालू है | किसी भी स्त्री को थोड़े समय के लिए कुछ घंटों या दिनों के लिए बीबी बना लेना और उससे विषयभोग करना तथा फिर सम्बन्ध विच्छेद करके त्याग देना “मुता” कहलाता है |

    यह इस्लाम का मजहबी रिवाज है | अय्याशी के लिए मुता करने पर औरत उस मर्द से अपनी मेहर (विवाह की ठहरौनी की रकम) या (फीस) मांगने की भी हकदार नहीं होती है |

   यदि मुता के दिनों वा घंटों में विषयभोग करने से उस स्त्री को गर्भ रह जावे तो उसकी उस मर्द पर कोई जिम्मेवारी नहीं होती है | कोई भी औरत कितने ही मर्दों से मुता करा सकती है या एक मर्द कितनी ही औरतों से मुता कर सकता है, उसकी कोई हद (सीमा) इस्लाम में निश्चित नहीं है | इससे स्पष्ट है की-

………………………………..“इस्लाम में नारी का महत्व केवल पुरुष की पाशविक वासनाओं की पूर्ति करना मात्र है” |

   आश्चर्य है की जिस इस्लाम मजहब में मुता जैसी गन्दी प्रथा चालु है | उस पर भी वह संयम-सदाचार तथा नारी के सम्मान की इस्लाम में दुहाई देने का दुःसाहस करता है ?

   इस्लामी साहित्य में कुछ विचित्र सी बातें लिखी हुई मिलती हैं जिन्हें देखकर यह प्रकट होता है की-

………………………………………………………………………….”संयम नाम की चीज इस्लाम में कभी भी नहीं रही है”|

एक स्थान पर लिखा है की-

…….“रसूलअल्लाह (हजरत मुहम्मद साहब) अपनी सभी औरतों से मैथुन कर चुकने के बाद स्नान किया करते थे” |

 

                                                         (इब्ने मआजा फिबाब छापा निजामी, दिल्ली)

    हजरत आयशा ने कहा-

   “जब दो खतने मिल जावें तो स्नान फर्ज हो जाता है | मैंने और हजरत ने ऐसा करने के बाद ही स्नान किया है” |                                                            (इब्ने मआजा फीबाब गुस्ले सफा ४५)

   हजरत आयशा ने कहा की-

“रसूलअल्लाह रोजा रख कर मेरा मुँह चुमते और मेरे साथ मैथुन करते थे परन्तु वह अपनी गुप्तेन्द्रिय पर तुमसे ज्यादा काबू रखते थे” |

                                                                                 (बुखारी शरीफ)

उपरोक्त बातें इस्लाम में विषय भोग की अत्याधिकता की धोतक हैं | पर आश्चर्य यह है की एक नारी के मुँह से यह बातें कही हुई इस्लामी साहित्य में लिखी हुई मिलती हैं |

   नारी स्वभावतः लज्जाशील होती है ऐसी संकोच की बातों को आयशा बेगम ने कहा होगा, यह विशवास के योग्य नहीं लगती | और यह सत्य है तो यह एक नारी के लिए भारतीय दृष्टि से निर्लज्जता की पराकाष्ठा ही कही जायेगी |

   कोई भी संसार की नारी चाहे वह किसी भी स्थिति की क्यों न हो परन्तु वह ऐसी बातें कह ही नहीं सकती है |

   हाँ ! इस्लाम की बात दूसरी है, आप आगे दो एक प्रमाण और भी देखिये-

      “आयशा रजीउल्लाह से रवायत है की नबी सलेअल्लाहु वलैहि- असल्लम (हजरत मौहम्मद साहब) के साथ आपकी किसी बीबी ने एतकाफ किया और वह बहालत इस्तहाजा (मासिक धर्म) से थी, खून देखती थी तो कभी खून की वजह से वह नीचे तश्तरी रख लेती थी” |

                                                          (बुखारी शरीफ भाग १ सफा ७७ हदीस २११)

आयशा रजीउल्लाहू से रवायत है-

    में और नबी सलेल्लाहू वलैहि असल्लम (मौहम्मद साहब) एक बर्तन में वजू करते थे, दोनों नापाक होते थे, और आप मुझे हुक्म देते थे पस ! में इजार पहिनती (महीने से) थी, और आप मुझसे मुवाशिरत करते थे और में हैजवाली (महीने से) होती थी और आप अपना सर मेरी तरफ कर देते थे, में बहालत एतकाफ और में उसको धोती थी, हालांकि में बहालत हैज (मासिक धर्म) से होती थी |

                                                            (बुखारी शरीफ न० २०८ भाग १ सफा ७६)

   यह प्रमाण इस्लाम में नारी की स्थिति का सही दिग्दर्शन कराते हैं | यह बातें मुस्लिम नारियों को अपनी स्थिति के बारे में विचार करने योग्य हैं |

इस्लाम में नारी को बहिन मानने वाला तथा रिश्ते में भाई ही जब उसे अपनी बीबी बना लेता है तो फिर नारी की वहां क्या प्रतिष्ठा है ? आज जो तुम्हारी बहिन है कल वही तुम्हारी बीबी बन जायेगी |

   जो आज तुम्हारा भाई है कल वह तुम्हारा दूल्हा भाई बन जावेगा, बहिन की लड़की बुआ की लड़की भाई की बेटी चचा की बेटी अपने ही घर में अपने ही घर के भाई की बीबी बना दी जाती है |

   इस्लाम में औरत को गुलाम से भी बदतर  समझा जाता हैं | वह घर में कैदी की तरह रहती है | बुरके में बंद रहते हुए खुली हवा को भी तरसती रहती है |

   मुस्लिम औरतों के इस काले घूँघट का नाम भी ऊटपटांग ही है |  भाइयों ! यह कपड़ा है तो “सर का” ! नाम रखा है “बुर का” !! इस विचित्र भाषा को बोलने में भी शर्म महसूस होती है | (बिहार बंगाल या पूर्वी उतर प्रदेश के निवासी इस भाषा का अर्थ अधिक अच्छी तरह जानते है)
        आजीवन साथी के रूप में वस्तुतः नर और नारी का पवित्र सम्बन्ध क्षेत्र व बीज का है | नारी क्षेत्र है तो नर बीजाधानकर्ता है |

   संतानोत्पति का कर्तव्य दोनों पर आयद (लागू) होता है | गृहस्थ जीवन से आनन्द में रहते हुए वंश परम्परा को जारी रखना, अपने भावी जीवन व वृधावस्था के लिए सुख का आधार संतान को जन्म देना, उसे अपना उतराधिकारी बनाना उसे सुशिक्षा द्वारा देश व समाज के लिए योग्य नाग्तिक बनाना यह सभी गृहस्थों के उतरदायित्व होते हैं |

  इसीलिए प्रत्येक माता-पिटा अपनी संतान की इच्छा रखते हैं | बालक को गोद में खिलाने, उसे प्यार करने, उसे सुखी कर स्वयं सुख अनुभव करने की इच्छा सभी की होती है |

    जिनके संतान नहीं होती है वह उसके अभाव को अत्याधिक अनुभव करते व जीवन भर परेशान रहते हैं | उनके निधन के पश्चात उनकी सम्पति की दुर्दशा होती है तथा वृधावस्था में वे सेवा सहायता के लिए दुःखी पाए जाते हैं यह सब लोक में प्रायः नित्य देखा जाता है |

   लोक में विचारकों व समाज के लिए उन्नतिकारक नियम बनाने वालों के द्वारा अपने अपने समाजों के लिए सभी प्रकार की हालतों पर विचार करके शुभकालिक व आपतिकालिक अवस्थाओं के लिए अपने अपने देश की परिस्थितियों के अनुसार व्यवस्थाएं बनाई गई हैं जो उनके धर्म ग्रंथों में संग्रहित हैं और उनके समाज उनके द्वारा बनाए गए नियमों के द्वारा संचालित होते रहे हैं |

 आपतिकालिक परिस्थितियों में वे स्थितियां भी है जिनमें पति में दोष होने के कारण संतान पैदा नहीं होती है | पति वृद्ध होने से संतानोत्पति में शक्तिहीन हो, पुरुष में इन्द्रिय सम्बन्धी ऐसे दोष हों की वह इस विषय में असमर्थ हो उसमें वीर्याणु ही न हों या पति की मृत्यु हो जावे और संतान न हो, पति अपनी पत्नी को छोड़ कर परदेस चला जावे और लौट कर ही न आवे |

  पत्नी ही बाँझ ही, उसके शारीर में रोग या प्राकर्तिक बनावट का दैवी दिश जन्मना हो ऐसी विषम परिस्थितियों में यदि पति दूसरी शादी करे ओ गृहकलह को आमंत्रित करना होगा |

   यदि किसी को गोद लेंगे तो उनका उस बालक में तथा बालक का उनमें उतना ममत्व नहीं होगा जितना अपने अंश के साथ होता है |

    ऐसी दशा में भारत के अन्दर नियोजित संतान की व्यवस्था मिलती है उसमें परिवार की सम्पति भी अन्य कुलों में नहीं जाती है, वंश परम्परा भी सुरक्षित रहती है और संतानहीन पुरुष वा संतानहीन स्त्री का जीवन भी संतान मिलने से सदा आनन्दित बना रहता है |

   विधवा पत्नी के दूसरी शादी दूसरी जगह कर लेने पर पूर्व पति की सम्पति दुसरे कुल में चले जाने का भय  बना रहता है तथा पुरुष के वृद्ध माता पिता उस अवस्था में सेवा आदि से भी वंचित हो जाते हैं व् कुल का विनाश हो जाता है |

   कुरान ने भी स्त्री को “खेती” (क्षेत्र) की संज्ञा दी है किन्तु उसमें अप्राकर्तिक (गुदा मैथुन) व्यभिचार का पूत लगा देने से उसे भ्रष्ट कर दिया है, देखिये जैसा की लिखा भी है की-

……………………………………………………………..“तुम्हारी बीबियाँ तुम्हारी खेती हैं जाओ जहाँ से चाहो उनके पास”

  देखिये लखनऊ का छपा कुराने मजीद, शाह अब्दुल कादरी का तजुर्मा

                                                       (कुरान पारा २ सुरह बकर रुकू २८ आयत २२३)