सच्ची रामायण का खंडन- १०

*सच्ची रामायण की पोल खोल-१० अर्थात् पेरियार द्वारा रामायण पर किये आक्षेपों का मुंहतोड़ जवाब* -लेखक कार्तिक अय्यर । *प्रश्न १० आगे लिखा है-लक्ष्मण,भरत,शत्रुघ्न आदि राजा दशरथ से पैदै न होकर कथित पुरोहितों द्वारा पैदा हुये तथापि आर्यधर्म के अनुसार कोई पाप नहीं था।उन पुरोहितों के नाम होता,अर्ध्वयु,उद्गाता लिखा है।महाभारत का संदर्भ लेकर नियोग संबंधी आरोप लगाये हैं।व्यास जी का उल्लेख करके कहा है कि धृतराष्ट्र और पांडु इसी कोटि की संतान थीं।* *क्या श्रीरामादि नियोग से उत्पन्न हुये थे अथवा महाराज दशरथ की औरस संतान थे?* *नोट*-यह लेख लंबा है क्योंकि आरोप गंभीर है। हममे इस लेख में सिद्ध करने का प्रयासकिया है कि श्रीरामादि महाराज दशरथ की औरस संतान थे।कृपया पाठकगण लेख को आद्योपांत पढे़ें एवं सत्य को … Continue reading सच्ची रामायण का खंडन- १०

हदीस : उपवास का पुण्य

उपवास का पुण्य उपवास रखने के अनेक पुण्य हैं। मुहम्मद बतलाते हैं-”उपवासकत्र्ता की सांस अल्लाह को कस्तूरी की सुगन्ध से ज्यादा प्रिय है। कयामत के रोज, जन्नत में रय्यान नाम का दरवाजा होगा। सिर्फ रोजे रखने वालों को ही उसमें प्रवेश पाने दिया जाएगा। और जब उनमें से आखिरी आदमी भीतर जा चुका होगा तो वह बन्द कर दिया जायेगा और कोई फिर भीतर नहीं जा पायेगा“ (2569)।   जो व्यक्ति उपवास के साथ-साथ जिहाद कर रहा हो, उसका प्रतिदान बहुत है। ”अल्लाह का हर सेवक, जो अल्लाह के रास्ते में एक दिन का रोज़ा रखेगा, अल्लाह उस एक दिन की वजह से उसका चेहरा जहन्नुम की आग से सत्तर साल की दूरी तक हटा देगा“ (2570)। author : ram … Continue reading हदीस : उपवास का पुण्य

एक आपबीती

एक आपबीती मैं स्कूल का अध्यापक था। मेरे लेखों के कारण तथा सामाजिक गतिविधियों के कारण आर्यजगत् के बहुत लोग मुझे जानते थे। हिन्दी सत्याग्रह के पश्चात् मैं स्कूल छोड़कर दयानन्द कॉलेज हिसार की एम0ए0 कक्षा में प्रविष्ट हो गया। कॉलेज के प्राचार्य थे प्रिं0 ज्ञानचन्द्रजी (स्वामी मुनीश्वरानन्दजी) हिसारवाले। वे यदा-कदा मुझे व्याज़्यान तथा प्रचार के लिए भी, कभी कहीं जाने को कह देते। कॉलेज में प्रविष्ट हुए एक-दो सप्ताह ही बीते कि उन्होंने आर्यसमाज, माडल टाउन के साप्ताहिक सत्संग में मेरा व्याज़्यान रख दिया। वे स्वयं माडल टाऊन में ही रहते थे। व्याज़्यान से वे प्रभावित हुए। सत्संग के पश्चात् मुझे अपने घर पर भोजन के लिए कहा। मैं उनके साथ चला गया। वे स्वयं मुझे भोजन करवाने लगे। … Continue reading एक आपबीती

HADEES : KA�BA CLOSED TO NON-MUSLIMS

KA�BA CLOSED TO NON-MUSLIMS The Ka�ba, which had been open to all in pre-Islamic times, whether they were worshippers of Al-LAh or Al-LAt, was closed to all except Muslims after Muhammad conquered Mecca.  �After this year no polytheist may perform the Pilgrimage,� it was declared on his behalf (3125).  This was Allah�s own command.  The QurAn says: �O you who believe! those who ascribe partners to God are impure, and so they shall not approach the sacred House of worship from this year onward� (9:28). Most religions build houses or temples for their gods out of their own labor, but Islam conquered one for its god, Allah, from others.  The difference is striking.  A worthy habitation for any worthwhile god is … Continue reading HADEES : KA�BA CLOSED TO NON-MUSLIMS

सच्ची रामायण की पोल खोल-९

*सच्ची रामायण की पोल खोल-९ अर्थात् पेरियार द्वारा रामायण पर किये आक्षेपों का मुंहतोड़ जवाब* -लेखक कार्तिक अय्यर । *प्रश्न-९आगे रामायण को धर्मसंगत न होना तथा चेतन प्राणियों के लिये अनुपयोगी होना लिखा है।राक्षसों का यज्ञ में विघ्न,ब्रह्मा जी की विष्णु जी से प्रार्थना, विष्णु के अवतार का उल्लेख किया है विष्णु द्वारा जालंधर की पत्नी का शीलहरण करके आक्षेप किया है।आपने कहा है “इसका वर्णन आर्यों के पवित्र पुराण करते हैं!”* *समीक्षा*-प्रथम,रामायण धर्मसंगत,अनुकरणीय है वा नहीं ये आगे सिद्ध किया जायेगा। दूसकी बात,श्रीराम ईश्वरावतार नहीं थे,अपितु महामानव,आप्तपुरुष, राष्ट्रपुरुष आर्य राजा थे।इसका स्पष्टीकरण ‘श्रीराम’के प्रकरणमें करेंगे। यहां आपने रामायण से छलाँग मारी और पुराणों पर पहुंच गये।पेरियार साहब! भागवत,मार्कंडेय,शिवपुराणादि ग्रंथों का नाम पुराण नहीं है। *वेद के व्याख्यानग्रंथ ऐतरेय,साम,गोपथ और … Continue reading सच्ची रामायण की पोल खोल-९

Mohammad Shami trolled on Twitter for sharing ‘Un-Islamic’ picture of daughter’s birthday

The attack happened two days after Irfan Pathan was trolled on social media India pacer Mohammad Shami has once again become a victim of social media trolling after he posted pictures of his wife during their daughter’s second birthday celebrations. The cricketer was trolled as many felt that his wife Hasin Jahan committed a “sin” by not wearing a hijab during the birthday celebrations. View image on Twitter  Follow Mohammed Shami  ✔@MdShami11 My princess Aairah’s 2nd birthday celebration  1:37 PM – 18 Jul 2017  211211 Retweets  3,0393,039 likes Twitter Ads info and privacy “Sad to see your wife without hijab. my dear shami sir do not look at the smallness of the sin, rather look at the one whom you … Continue reading Mohammad Shami trolled on Twitter for sharing ‘Un-Islamic’ picture of daughter’s birthday

Irfan Pathan’s ‘un-Islamic’ post: Muslim cleric Maulana Sajid Rashidi hits out at all-rounder’s ‘shameful act’ Maulana Sajid Rashidi said that people on social media are merely telling him that doing this is wrong and asked why does Irfan Pathan needs to post pictures of his wife.

Irfan Pathan’s ‘un-Islamic’ post: Muslim cleric Maulana Sajid Rashidi hits out at all-rounder’s ‘shameful act’ Maulana Sajid Rashidi said that people on social media are merely telling him that doing this is wrong and asked why does Irfan Pathan needs to post pictures of his wife. Image Courtesy: ANI/Twitter New Delhi: Indian speedster Irfan Pathan was at the receiving end on social media after he posted a photograph with wife Safa Baig. (Sara Baig – All you need to know about Irfan Pathan’s wife) The all-rounder faced severe backlash with people from different religious communities calling the post ‘un-Islamic’. Calling it ‘un-Islamic’, Maulana Sajid Rashidi said that Irfan Pathan’s background is very religious as his father was a muezzin, and so posting his wife’s picture on social media is a shameful act. … Continue reading Irfan Pathan’s ‘un-Islamic’ post: Muslim cleric Maulana Sajid Rashidi hits out at all-rounder’s ‘shameful act’ Maulana Sajid Rashidi said that people on social media are merely telling him that doing this is wrong and asked why does Irfan Pathan needs to post pictures of his wife.

आर्य मंतव्य (कृण्वन्तो विश्वम आर्यम)