Category Archives: Islam

Pakistanis are basically Hindus, Pakistani lady scholar admits

A brave Pakistani lady scholar boldly states what many Indians won’t.

In a landmark confession of truth, an enlightened Muslim intellectual, Fauzia Syed, declared during a discussion on a television channel that all Pakistani and Bangladeshi Muslims are essentially Hindus, and that in rare cases, they might be Buddhists.

The lady activist lamented that a lot of Muslims, mainly Pakistani and Bangladeshi, have a hard time accepting the fact that their ancestors were Hindus who were converted by force of sword to Islam. The gutsy lady said this in a live television show while responding to the argument of radical Pakistani Muslim preacher Zaid Hamid.

Syed’s bold assertion of the truth is a clarion call to Hindus to wake up from slumber and re-educate and enlighten the Muslims of the sub-continent about their ancestry and massacres of their forefathers. Unfortunately till now, no Hindu has responded to her wakeup call.

Explaining her viewpoint lucidly, Fauzia said that most Pakistani Muslims believe they are the offspring of the Muslim invaders who came attacking the sub-continent from Muslim lands. But this is an unalloyed falsehood. Any person having a hint of common sense would know that the ancestors of more than 99 percent Pakistanis were Hindus. Unfortunately, Pakistan does not want to admit the bitter truth, nor are the Pakistanis prepared to hear it, she averred.

One simply marvels at the extensively propagated falsehood that Pakistani Muslims are progeny of Arab or Turk invaders. Equally dumb is the assertion that the forefathers of today’s Muslims in Pakistan and India were converted by Sufi saints. Anyone who reads the history of the sub-continent objectively would know that lakhs of Hindus were killed and forcibly converted by Muslim invaders on pain of death. The deep blood relationship between the Muslims and Hindus of the sub-continent is further reinforced by the fact that many surnames like Cheema, Bajwa, Ghakhar, Sethi and also Sehgal (or Saigols) are common to both communities.

Among other things, Fauzia pointed out that it is not wrong to call Pakistan a terrorist state because it has been sheltering terrorists for a long time. The truth was exposed when Osama bin Laden was killed in Pakistan by American
commandos.

It is indeed a sign of the dumbness of Hindu society that this bold Pakistani human rights activist has not been invited to speak in India and interact with the intellectuals, media analysts and common citizens about her incontrovertible true statement on a Pakistani television channel. In any case, the matter deserves the focused attention of the Hindu intelligentsia.

It is not late even now to invite Fauzia Syed to India for a meaningful ‘samvad’ at the India International Centre, New Delhi and then to make her address the Indians in various parts of the country. The opportunity should not be missed and Fauzia Syed must be invited to India for sharing her views with Hindus and Muslims of India. The failure of Hindu society in ignoring the bold and truthful assertion by Fauzia Syed confirms that we continue to be somnolent.

An honest reappraisal of the common heritage of India and Pakistan will totally support Fauzia Syed’s assertion. For centuries, geographically as well as politically, Bharat, i.e., India, included the entire landmass from Bactria (known as Vaahlik Pradesh), the entire Afghanistan, the present day Pakistan, today’s Bharat (i.e., India) and the whole of Bangladesh.

The indescribable savagery of the Muslim invaders unleashed against Hindus of the sub-continent was highlighted by the well known historian, Will Durant, in his book, The Story of Civilization, in the following words:

“The Mohammadan conquest of India is probably the bloodiest story in history. It is a discouraging tale, for its evident moral is that civilization is a precarious thing, whose delicate complex of order and liberty, culture and peace may at any time be overthrown by barbarians invading from without or multiplying within.”

Thus, the bold assertion of Fauzia Syed that the Hindus of Pakistan, nay of the entire sub-continent, were forcibly converted to Islam by sword is absolutely correct. It is time that the gory narrative of the slaughter of Hindu forbears of today’s Pakistani Muslims is brought out of closet and debated publicly by inviting the braveheart Pakistani lady scholar to India.

article is taken from the link below:

http://indiatomorrow.co/nation/3892-pakistanis-are-basically-hindus-pakistani-lady-scholar-admits

Leaving Islam…..Aditya Nandiwardhana

‘No matter how many good things you have done before you kick the bucket, if you are not a Muslim, then bad news for you. Even back then, I had a problem accepting that part of the religious teaching’

“In the afterlife, only Muslims get to enter paradise.”

That was what my Quran tutor told me when I was in fourth grade. The moment she told me that, I was really, really, surprised.

I was raised as a Muslim, and like any other Muslim kid in Indonesia, I had to learn how to recite the Quran. My father hired a Quran tutor for me and I spent a couple of hours 3 days a week with her. I did not only learn how to recite the Quran from her, I also learned about Islam in general, about what Islam (well, at least her version of Islam) teaches us.

One of the things that I learned from her was that entering paradise is a Muslim privilege. No matter how many good things you have done before you kick the bucket, if you are not a Muslim, then bad news for you.

Even back then, I had a problem accepting that part of the religious teaching.

Here is the thing, I was born into the Muslim tradition because my father is a Muslim man. However, that was not the only tradition that I was born into.

My mother is a Catholic woman, a devout one in my opinion. When I was very little, I spent a lot of time with my grandparents from my mother’s side. They had to babysit me a lot because both my parents were working back then.

They had a lot of Catholic ornaments in their house – crucifixes on the walls, a statue of Virgin Mary, pictures of various saints, and many others. They would tell me stories about Jesus when they were babysitting me and I liked those stories.

When I was not being babysat by them, my father usually told me to perform shalat prayers with him. I did not know how to actually perform the prayers, of course, but I would just follow the movements from him.

That was my early childhood. I was always aware of the fact that my parents had different religious backgrounds. I did not have any problem accepting that fact – it all just made sense to me. I also knew that there were other people with other religious beliefs out there and thought that all of those different beliefs were as valid as mine. I had already identified as a Muslim at the time. If anyone asked me what my religion was, I would answer: Islam.

I never thought that my religion was superior to others, though. Until my Quran tutor taught me otherwise.

Becoming agnostic

I guess that was the starting point of the journey that led me to become an agnostic-atheist.

I had a problem accepting the doctrine of the superiority of Islam over other religious beliefs, that only Muslims can enter paradise after the apocalypse. I loved my grandparents and I thought that it was not fair that they were going to hell just because they believed in God in a different way than I did. As I grew up, I started having other questions regarding other aspects of Islam such as the role of women in the traditional views of Islam and LGBT rights, but I was also afraid to question those views further because I did not want to go to hell for doubting my faith.

It wasn’t until my second year of university that I finally stopped practicing Islam. I stopped performing shalat, I stopped going to the masjid (mosque) every Friday, and I stopped performing shawm (fasting) during Ramadan. I did not identify as a Muslim anymore. I was not an atheist yet at the time. I was kind of a deist, still believing in a “higher power” of some sort. But I had finally become a murtadin (apostate).

I was not open about my epiphany to my parents. I lived in a kost (a boarding house for university students) in Yogyakarta when I first stopped identifying as a Muslim, while my parents lived in Jakarta, so that made it easier for me. But every time I went back to my parents’ house in Jakarta, I would pretend that I was still a Muslim.

I would try to get out of the house every time it was near prayer time, because I did not want to pray with my father. Of course I could not always get out of the house during prayer time, so I had to pretend to pray with my father during those occasions.

“The main crisis that humanity faces now is not religion, as many atheists would suggest. it is the oppressive power structures that oppress lgbt people, religious minorities (including but not limited to atheists), women, the working class and other oppressed groups.”

Ramadan was the hardest challenge for me. I had to pretend that I was fasting and think of how to sneak food into my room without getting caught. Every time I went back to Jakarta during university break, I could not wait to go home to my kost in Yogyakarta.

Exploring Buddhism

I began to have curiosity about Buddhism during my first years of apostasy. I read a lot about Buddhism and also went to the local Buddhist temple near my kost to learn more about it. I used to meditate regularly, and I am still trying to now.

This artilcle was taken from the following web portal

 

http://www.rappler.com/world/regions/asia-pacific/indonesia/bahasa/englishedition/106964-atheist-islam

Sex Jihad and Western Disbelief : Yash Arya

http://www.raymondibrahim.com/from-the-arab-world/sex-jihad-and-western-disbelief/

The sex jihad is back in the news.  Last Thursday, September 19, during an address to the National Constituent Assembly, Tunisian Interior Minister Lotfi Bin Jeddo announced that Tunisian girls who had traveled to Syria to perform “sex jihad” had returned after being sexually “swapped between 20, 30, and 100 rebels and they come back bearing the fruit of sexual contacts [from pregnancies to diseases] in the name of sexual jihad and we are silent doing nothing and standing idle.”

[Sixteen-year-old Rahma: Her parents appeared in tears on TV bemoaning how she was “brainwashed” to join the sex jihad.]

Several video interviews with Tunisian females who went to the sex jihad further testify to the veracity of this phenomenon.  For example, 19-year-old Lamia, upon returning, confessed how she was made to have sex with countless men—including Pakistanis, Afghanis, Libyans, Tunisians, Iraqis, Saudis, Somalis, and a Yemeni, all in the context of the “sex jihad,” and that she and many other women were abused, beaten, and forced to do things “that contradict all sense of human worth.”  Now back in Tunisia, Lamia has been to a doctor finding that she is five months pregnant. Both she and her unborn are carrying the aids virus (read her whole story).

Other interviewed women have told of how they were “fooled,” or how their husbands (they being one of four wives) divorced and sent them to Syria for the sex jihad, with assurances that they would be guaranteed paradise in the afterlife.  One 16-year-old explained how her father ordered her to have sex with several jihadi “liberators.”

Due to the severity of this matter, since March, 6,000 Tunisians were banned from travelling to Syria; 86 individuals suspected of forming “cells” to send Tunisian youth to Syria have been arrested.

Back in April, Sheikh Othman Battikh, former Mufti of Tunisia, said before reporters that, “For Jihad in Syria, they are now pushing girls to go there. Thirteen young girls have been sent for sexual jihad. What is this? This is called prostitution. It is moral educational corruption.”

He was dismissed from his position as Mufti of Tunisia days later.

However, as I wrote back in June when reporting on the sex jihad phenomenon:

Muslim women prostituting themselves in this case is being considered a legitimate jihad because such women are making sacrifices—their chastity, their dignity—in order to help apparently sexually-frustrated jihadis better focus on the war to empower Islam in Syria.

And it is prostitution—for they are promised payment, albeit in the afterlife. The Koran declares that “Allah has purchased of the believers their persons [their bodies] and their goods; for theirs (in return) is the garden (of Paradise): they fight in His cause, and slay and are slain (Yusuf Ali trans. 9:111).

At any rate, while news that Muslim girls in hijabs are prostituting themselves in the name of Islam may be instinctively dismissed as a “hoax,” the fact is, Islamic clerics regularly issue fatwas permitting forbidden, if not bizarre, things.

The fundamental criterion is that they help the jihad to empower Islam.

For instance, not only did the original “underwear bomber” Abdullah Hassan al-Asiri hide explosives in his rectum to assassinate Saudi Prince Muhammad bin Nayef—they met in 2009 after the 22-year-old Asiri “feigned repentance for his jihadi views”—but, according to Shi‘ite talk-show host Abdullah Al-Khallaf, he had fellow jihadis sodomize him to “widen” his anus to fit more explosives.

Al-Khallaf read the fatwa that purportedly justified such actions during a 2012 Fadak TV episode.  After praising Allah and declaring that sodomy is forbidden in Islam, the fatwa asserted:

However, jihad comes first, for it is the pinnacle of Islam, and if the pinnacle of Islam can only be achieved through sodomy, then there is no wrong in it. For the overarching rule of [Islamic] jurisprudence asserts that “necessity makes permissible the prohibited.” And if obligatory matters can only be achieved by performing the prohibited, then it becomes obligatory to perform the prohibited, and there is no greater duty than jihad. After he sodomizes you, you must ask Allah for forgiveness and praise him all the more. And know that Allah will reward the jihadis on the Day of Resurrection, according to their intentions—and your intention, Allah willing, is for the victory of Islam, and we ask that Allah accept it of you.

Two important points emerge here: first, jihad is the “pinnacle” of Islam—for it makes Islam supreme; and second, the idea that “necessity makes permissible the prohibited.” Thus, because making Islam supreme through jihad is the greatest priority, anything and everything that is otherwise banned becomes permissible. All that comes to matter is one’s intention, or niyya (see Sheikh Yusuf al-Qaradawi’s discussion along these lines).

Hence the many seeming contradictions in Islam: Muslim women must chastely be covered head-to-toe—yet, in the service of jihad, they are allowed to prostitute their bodies. Sodomy is forbidden—but permissible if rationalized as a way to kill infidels and/or apostates.  Lying is forbidden—but permissible to empower Islam. Suicide is forbidden—but permissible during the jihad—when it is called “martyrdom.”  Intentionally killing women and children is forbidden—but permissible during an Islamic jihad raid, as happened last weekend in both Peshawar and Nairobi.

One may therefore expect anything from would-be jihadis, regardless of how un-Islamic their actions may otherwise seem.

And yet, here in the West, many still refuse to believe the existence of such fatwas,habitually dismissing them as “hoaxes”—despite all the evidence otherwise: from a top Tunisian government official openly bemoaning the effects of the sex jihad on Tunisian girls, to several Arabic-language videos and reports of women discussing their experiences in the sex jihad.

Few things are more demonstrative of the arrogant mindset that proliferates amongst Western “progressives” than this inability to believe.

And it’s quite ironic:  for while supposedly “closed-minded” and “bigoted” conservatives tend to take the words, teachings, and deeds of Muslim clerics and jihadis at face value—and thus respect them as autonomous individuals—liberals, who always claim to “respect other cultures,” often reject as “hoaxes” any news that contradicts their culturally-induced worldviews—since apparently everyone in the world shares in their standards.

If that’s not an ethnocentric position—an especially dangerous one at that—what is?

 

author can be reached at :

https://yasharya.wordpress.com/

हिन्दुस्तान किस तरह मुसलमान हुआ ?

मौलवी जकाउल्ला प्रोफेसर फरमाते है । यह असली मुसलमान कुल मुसलमानों से जो इस मुल्क में आबाद है आधे होंगे। वाकी आधे ऐसे ही मुसलमान है जो हिन्दुओं से मुसलमान हुए है । सरकारी मर्दुमशुमारी से मालूम होता है कि हिन्दुस्तान में ४ करोड़ १० लाख मुसलमान रहते हैं । उनमें से जियादह मुसलमान जो हिन्दुओं से मुसलमान हुए हैं । गो इस्लाम

ने उनके सिद्धान्तो को बदल दिया मगर उनके रस्म रिवाज को न बदल सका । गोकि वह आपस में मिलकर खाने पीने लगे मगर शादी व्याह में अब तक गोत्र बचाते है जैसे हिन्दू-गरज इस्लाम का असर हिन्दुओं पर ऐसा नहीं हुआ जैसाकि हिन्दुओं का असर इस्लाम पर हुआ ।
(देखो तारीख हिन्द हिस्सा अव्वल फस्ल दौम सफा 6)

अब हम बतलाते हैं कि इतने जो मुसलमान है । ये किस तरह मुसलमान हुए हैं और कब से हुए हैं और सब से पहिला मुसलमान इस मुल्क में कौन हुआ है ।

मुल्क हिन्दुस्तान में सबसे अव्वल मुसलमान वापा राजपूत चित्तोड़ के मालिक ने सन् 812 ई० में खमात्त के हाकिस सलीम की लड़की से शादी कर सी और मुसलमान हुआ मगर मुसलमान हॉकर लज्जित हॉकर खुरासान चला गया … फिर न आया उसका हिन्दू बेट गद्दी पर
बैठा । (देखो आईन तारीख नुमा सफा सन् 1881 ई० ।)

सन् 812 ई॰ से खलीफा मामू रसीद ने बडी फोज के साथ हिन्दुस्तान पर चढाई की । वापा का पोता उस वक्त चितौड़ का हाकिम था … नाम उसका राजा कहमान था । उससे ओर मामूं से जो बीस लडाहयां हुई लेकिन आखिरकार मामूं शिकिस्त खाकर हिन्दूस्तान से भाग गया । (सफा 6 आईना तारीख नुमा सन् 1881 ई० और देखो मिफ्ताहुद तवारीख सफा
(7 सन् 1883 त्तवये सालिस हिस्सा अव्वल)

हिन्दुस्तान का दूसरा मुसलमान राजा सुखपाल नाम महमूद के हाथ राज्य के लालच में मुसलमान हुआ । मगर लिखा है जब महमूद बलख की तरफ़ गया तो उसने फिर हिन्दू बनकर उसकी तावेदारी की । महमूद ने सन् 1006 ई॰ में उसे पकड़कर जन्म भर के लिये कैद कर दिया (सफा 16 आईने त्तारीख नुमा सन् 1881 ई० और मुखताहुद तवारीख सफा 9 सन्
1883 ई० हिस्सा अव्वल)

अरब किस तरह मुसलमान हुआ ?

खुद हजरत मुहम्मद के जमाने में अरब वालो से मुफ्फसिल जैल मशहूर लडाई हुई है । जिनमें हजारों लाखों आदमी तलवार से क़त्ल हुए। सैंकडों स्त्रियाँ लौंडिया बनाई गई। और हजारों ऊंट बकरी लूटे गये । हजारों के घर तबाह हुए और जब लूट से काफी पूंजी जमा हो गई तो फिर इनाम इकराम मिलने लगे । माल मुफ्त दिले बे रहम पर अमल दरामद किया गया – जो साथ शरीक होजाता वह गरीब चरबाहों के हक में गोया भेडिया होजाता था । हम इस मौके पर मुफ्फसिल हालात लिख़ने से पहिले अरब के एक मशहूर और मारूफ़ आदमी अबूसुफियान के मुसलमान होने का हाल दर्ज करते हैं ।

जब मुहम्मद ने मक्के की फतह करने पर फौजे तय्यार की तो अव्वाल और अबूसुफियान जो निष्पक्ष थे घूमते हुए आपस से मिले । अब्बास ने अबूसुफियान से कहा कि अब क्या मारे जाओगे उसने मारे जाने के बचने का उपाय पूछा । अव्वाल उसको इस्लाम से लाने के बहाने निर्भय कर देने का वादा करके मुहम्मद के पास लेगया । हजरत उमर मारने के वास्ते दौड़े । रात को उसको हवालात में रखा सुबह को हाजिर लाया । मुहम्मद साहब ने कहा कि अबतक वह समय नहीं आया कि तू कहे कि खुदा एक है और उसका कोई साक्षी नहीं और उसके सिवाय कोई पूजित नहीं । और मैं सच्चा नबी (पैगम्बर) हूँ अबूसुफियान ने कहा कि मेरे माँ बाप आप के भक्त हैं । सब बडाई और बुजुर्गी आपही की है । उन गुस्ताखियों और बेअदबियों के बदले जो मुझसे हुई आप की यह कृपा मुझ पर है । वास्तव में एक खुदा के सिवाय कोई पूजित नहीं। परन्तु पैगम्बर की सत्यता पर मौन धारण किया अब्बास ने कहा की पैगम्बर की सत्यता पर भाषण कर नहीं तो खैर नहीं। अबूसुफ़ियान ने मजबूर होकर पैगम्बर की सच्चाई मानी और इस्लाम ग्रहण किया। तब अब्बास ने नबी की सेवा में अर्ज किया की हे अल्लाह के पैगम्बर अबूसुफ़ियान पद और मान को अच्छा समझता है। उसको कोई पदाधिकार दीजिये ताकि उसका मान हो। मुहम्मद ने उसको इस आज्ञा से से मान दिया की जो कोई अबूसुफ़ियान के घर में दाखिल हो उसकी जान बख्शी जावे। निदान वह छुट्टी लेकर मक्के को गया – अब्बास उचित अवसर पाकर पैगम्बर की सम्मति से अबूसुफियसान के पीछे गया, वह डरा अब्बासने कहा डरमत । सारांश यह कि अब्बास ने अबूसुफियान को रास्ते के किनारे पर खड़ा किया ताकि सब लश्कर इसलाम को देखले और उस पर रोब होजावे ताकि वह फिर इस्लाम से न फिरे । जब कि इस्लाम की फौज अबूसुफियान के सामने से निकल गई लोगों ने कहा जल्द जा और कुरैश को डर दिलाकर ओर समझाकर इस्लाम को घेरे में ला ताकि जीवन मोत से निर्भय होजावे अबूसुफियान जल्द उनकी जान मारे जाने से बचा सके, (देखो तारीख अम्बिया सफा ३५४ व ३५५ सन् १२८१ हिजरी और ऐसा ही जिक्र किताब सीरतुल रुस्ल व त्तफसींर हुसैनी जिल्द १ सूरे तोबा सफा ३६० में है)

जिस कदर खूंरेजी और लूटमार से अरब के लोग मुसलमान हुए है अगर उनकी मुफ्फसिल फिहरिस्त लिखी जावे तो एक दफ्तर बनजावे । हालत पर लक्ष करते हुए संक्षेप से वर्णन करते हैं ।

(1) गज़वा (लडाई) वदां।

(2) गजबये बवात ।

(3) गजवतुल अशरह

(4) गजबये बदर ऊला ।

(5) जंगे बदर ।

(6) गजब तुल कदर

(7) गजय तुल अन्सार

(8) गज़वा वाजान

(9) गज़वा सौवक

(10) गज़वा अहद

(11) गज़वा हमराउल असद

(12) गजबा जातुर्रिका

(13) गज़वा बदरुल मुअद

(14) गज़वा दौमतुल जन्दल

(15) गज़्वावनी मुस्तलिक

(16) गज़वा बनी नजीर

(17) गज़वा खन्दक

(18) गज़वा बनू तिबियान

(19) गजबाजूकुरह

(20) गज़वा फतह मक्का

(21) गज़वा हबाजन

(22) गज़वा औतास

(23) गज़वा ताइफ़

(24) गज़वा बनीकीका

(25) गज़वा बनिनुफैर

(26) गज़वा वनी करैता

(27) ग़ज़वे तलूक ।

इन ले 27 मशहूर ग़ज़वाता (लड़ाइयों) के सिवाय और बहुत से हमले और जंग हुए हैं जिनकी कुल तादाद 81 के करीब पहुंचती है इस किस्म के सैकडों मुकाबिले और लड़ाइयो के बाद जान के लाले पड़ जाने के डरसे डरपोक देहाती मुसलमान बन गये और जोर वाले बहादुर शेर दिल देहाती जैसे अब्दुल हुकम ईश्वरीय कृपापात्र वगेरह शहीद डोगये । हिसारे की कोम सकी जंग में लिखा है कि हजरत अली ने मुहम्मद से पूछा कि कब तक कत्ल से हाथ न उठाऊं मुहम्मद ने कहा जब तक यह न कहे कि अल्लाह एक है और मुहम्मद उसका पैगम्बर है तकतक क़त्ल कर (देखो तारीख अम्बिया सफा ३४६ सतर १५ या १६ सन् १८८१ हिजरी)

गजबा वनी कुरेता की बाबत लिखा है कि साद विन मआज ने पैगम्बर को कहा कि इस बदजात कोम यहूदी का किस्सा तमाम करो गर्ज कि लड़ने लायक आदमी मारे गये और बाकी कैद गये चुनांचे कई सौ आदमी कुरैती मदीने से लाकर क़त्ल किये गये । (देखो मौलवी नूरुद्दीन साहब की फसलुल खिताब सफा १५९)

सुलह फुदक की बावत लिखा है कि नुहेफा विन मसऊद खुदा की हिदायत के बमूजिब सुलह फुदक तशरीफ ले गये और उस कौम को इस्लाम फेंलाने का पैगाम देकर जहाद का पैगाम दिया – मगर उन्होंने न सुलह का पैगाम दिया और न लड़ने को बाहर मैदान में निकले । (देखो तारीख अम्बिया सफा ३४७ सन् १२८१ हिजरी)

मुहम्मद साहब के मरने के बाद जो बहस हजरत अबू बकर की खिलाफत से पहिले सादविन उवादा बडे आदमियों में से था) सैंकडों मुसलमानों के सामने की है। उससे सारा हाल अरब के इस्लाम में लाने का जाहिर होता है । जैसा कि लिखा है सादबिन उबादा ने क्रोधातुर होकर कहा कि है अन्सार का गरोह तुम सब कपटी हो कि तुमको इस्लाम के सब गरोहों पर मान है। क्योंकि मुहम्मदी अपनी कौम बाद दश वर्ष के जियादा रहा । और सबसे मदद चाहीं और दीन को जाहिर करता रहा – मगर सिवाय चन्द आदमियों के किसी ने ध्यान नहीं दिया और कोई उस मुसीबत के समय साथी न हुआ – मगर थोडे दिन मदीने से रहने से और हमारे कष्ट उठाने से खुदा को यह कृपा हुई कि दीन इस्लाम को वह तरवकी हुई जो तुम देखते हो ।

पस खुलासा बात यह है कि तुम्हारे कष्ट से सिवाय इस के और क्या नतीजा होगा कि अब बड़े-बड़े रईस इस्लाम मुहम्मद में दाखिल हैं । खिलाफत के काम ओर रियासत तुम्हारे कब्जे में रहनी चाहिये । सब अंसार ने कहा कि हे साद सच है जो तुमने कहा तेरे सिवाय अंसार में कोई बडा नहीं । हमने तुझको अपना सर्दार बनाया और तुमसे बरैयत (प्रतिक्षा) करते है तुझसे जियादा अच्छा खिलाफ़त का काम बजाने वाना कोई नहीं है अगर मुहाजिर (पुजारी) इस बारे से कुछ विरोध करेंगे तो हम उनसे कहैगे कि अच्छा अमीरी तुम्हारे ही खान्दान में सही और हमारे खान्दान में भी सही । (देखो तारीख अम्बिया सका ३७४ सन् १२९१ हिजरी)

मुहम्मद साहब ने लोगों से वादा किया था कि कैंसर और किसरा के खजाने बजरिये गनीमत तुम्हारे हिस्से में आवेंगे मुसलमान होजाओ । पस लोग इसी नियत से मुसलमान हुए थे जैसा कि अक्सर मर्तवा उस समय के मुसलमान इन्कार करते और परेशान होते रहे (देखो मुफ्फसिल तारीख अम्बिया सफा ३२४ सन् १२८१ हिजरी ।)

गजवये बदर कुब्रा में साद वगेरह मुसलमानों ने मुहम्मद साहिब को यह रायह दी कि तेरे लिये एक सुरक्षित तख्त की जगह अलग मुकर्रर कर ओर जरूरी असबाब उसमें रखदे ओर फिर काम में लगें । अगर हम जीते तो पहिली सूरत में अपनी जगह सवार होकर मदीने में जावें । हजरतने साद की राय पसंद की और भलाई की दुआ दी और नकबख्त आदमियों की राय के मुताबिक त्ततींबवार अमन करने में लग गये और आनन फानन में त्ततींब की नींव डाली (देखो तारीख अम्बिया सफा ३०५ सन् १२८१ हिजरी देहली)

गनीमत के माल बांटते पर हमेशा झगड़ेही रहते थे ओर इसी लूट के माल की खातिर पहिले लोग मुसलमान हुए थे और इसी की तर्गीब से मुतलिफ वक्तो से मुसलमान होते रहे । (देखो सफा ३१० तारीख अम्बिया ।)

हिजरी की दोम साल में निरपराधो यहूदियों का माल व असबाब लूटा और उनको मदीने से निकाल दिया । चुनाँचि लिखा है कि तमाम माल व असबाब बुरे काम करने बालों का मुसलमानो के हाथ जाया और पांचवा हिस्सा कायदे के बमूजिब निकाल कर बाकि बट गया (देखो सका ३१२ तारीख अम्बिया ।)

साल सोयम हिजरी से कावबिन अशरफ सब उत्तम शायर को सिर्फ कुरेश का शायर होने के कारण हजरत मुहम्मद साहब ने एक हीला सोचकर अयुवनामला मुसल्लिमा वगेरह के हाथों से क़त्ल करवा दिया और पैगम्बर पर जान न्योछावर करने बालों ने अयवूराफे विन अविल हकीक को बेगुनाह क़त्ल कर डाला । देखो सफा २१३ तारीख अम्बिया सन् १२८१ हिजरी ।)

जंग अहद के जिक्र में लिखा है कि जनाब पैगम्बर की निगाह व हिफाजत में महाजिर (पुजारी) इन्सार ने बडी कोशिश की इस लडाई में कुरैशियों ने इत्तिफाक किया था इसमें अक्सर पैगम्बर के साथी व चार महाजिर (पुजारी) और ६६ अंसार लडाई के मैदान से मारे गये मुहम्मद साहिब गड्रढे में गिर पड़े । पांव से चोट आयी – कम्प जारी हो गया – बडी कठिनता से तलहाने गड्रढे से नीचे उतर कर कंधे पर चढाया और अली ने आहिस्ता आहिस्ता हाथ पकड़ कर बाहर को खींचा और जिस बक्त मुहम्मद बाहर निकले तो दुखित देखा । दांत टूटे हुए पाये जख्मो से खून जारी था आम खबर फ़ैल गई थी कि मुहम्मद साहब मारे गये … अमीर हमजा वगेरह मारे गये कुरैश की औरतों ने उनके नाक कान काट लिये – सफा ३१६ व ३१७ तारीख अम्बिया सन् १२८१ हिजरी में

अगर खुदा करता कि यह जरासीं और हिम्मत कर जाती तो मुहम्मदी इस्लाम का नाम व निशान न रहता। मगर अफ़सोस कि सुस्ती की-बुद्धिमानों ने सच कहा है “कार इमरोज़ व फर्द मफगन” (आज का काम कल पर मत छोडो)। हजरत के मरने पर बडा विरोध और ईर्ष्या व झगडा सब अरब में फ़ैल गया हर एक गिरोह रियासत चाहता था और दूसरे का विरोधी (देखो तारीख अम्बिया सफा ३७१ से ३७४ तक)

रिसाले मुअजजात में लिखा है कि हज़रन के मरने के बाद अरब के बहुत से कबीले फिर गये ।

सूरे मायदा :- ‘ ‘या अय्योहल्लजीना आमनूं मई यरतद्दा मिन्कम अन्दोनही फसोफा यातिल्लाहो बिकौमिन युहिब्बहुम बयोहिब्बूनहू अजिल्लतुम अलल मोमिना अइज्जतुन अलल काफिरीना व उजाहिदूना की सवी लिल्लाह !”

अर्थ :- हे मुसलमानों जो तुम अपने दीन से फिर गये एक कोम अल्लाह की तरफ से क़रीब आवेगी कि तुम उनको दोस्त रक्खोगे ओर बह काफिरों पर जहाद करेंगे अल्लाह के लिये ।

ओर अबूउबैदा सही किताबों में लिखता है कि जिस वक़्त मोहम्मद के मौत की खबर मक्के में पहुंची अक्सर मक्का के लोगों ने चाहा कि मुहम्मदी इस्लाम से अलग होजावें चुनाँचि मक्का के अमलाबाले कई दिनों तक डर के मारे घर से बाहर नहीं निकले – मुहम्मद के मरने पर जो लोग इस्लाम से फिर गये वह भी तलवार से जीते गये। अन्त से फिसाद बढ़ते बढ़ते यहाँ तक नौबत पहुंची कि अली खलीफा के वक़्त में तल्लाह ओर जुबैर और आयशा मुहम्मद साहिब की बीबी और माविया का शाम के मुल्क की तरफ हजरत अली और दूसरे मुसलमानों के साथ लडाई हुई बीबी आइशा ने तलहा के बढावे की सलाह ओर मुहब्बत से लडाई की । शाम के सब मुसलमान अली के मारने पर तय्यार थे जिसमें हजरत अली मय एक लाख साठ हजार फ़ौज के और हजरत माबिया वगैरह भी मय बहुत सी फौज के फरात नदी के किनारे पर लडाई लड़ने आये ६ माह लडाई होती रही ७००० आदमी अली के तरफ़ के और १२००० माबिया की तरफ़ से मुसलमान हताहत हुए। माबिया ने सुलह (सन्धि) का पैगाम भेजा – अलीने अस्वीकार किया लडाई हुई इसमें ३६००० और भी मारे गये अन्त में २२६००० मुसलमानों के मारे जाने के बाद सुलह हुई । इब्न मुलहम मिश्र के रहने वाले मोमिन (ईमानबाले) ने बड़े प्रेम से एक औरत के निकाह के बदले अली को मारडाला । उस कुतामा नाम ईमानदार औरत ने अपने मिहर में अली का क़त्ल लिखवाया था । इस तरह अरब में इस्लाम बढ़ा और घट गया (देखो तारीख अम्बिया सफा ४४५ व ४४६ सन् १८८१ हिज्र देहली।)

यह माविया अली के जंग की अग्नि बहुत काल तक प्रज्वलित रही और इसी का अन्तिम परिणाम यह था कि अली के लड़कों हसैन व हुसेन का यजीद माविया के लड़के के साथ इमाम होने का झगडा हुआ और असंख्य मुसलमान दोनों तरफ के क़त्ल हुए (देखो जांगनामा हामिद।)

जो लोग मुस्लमान होते थे उनको माल व संतान वापस मिलता था। क़त्ल से बच जाते थे इस वास्ते अक्सर कबीला अरब जब लड़ते लड़ते और खून की नदिया बहाते बहाते तंग आ गए मजबूरन मुस्लमान हो गए चुनाँचि गज़वा तायफ़ में लिखा है बाद फतह के एक गिरोह हवाज़न (हवा उड़ाने वालो) ने इस्लाम क़बूल किया और आपने उनकी जायदाद और संतान को वापिस दिया फिर मालिक विन अताफ जो हुनैन के काफिरो की फ़ौज का सरदार था विवश होकर मुस्लमान हुआ और इसका माल व संतान वापिस दी गयी। (देखो तारिख अम्बिया सफा ३६० सन १२८१ हिजरी)

नवी साल के जिक्र में लिखा है की गिरोह गिरोह अरब के कबीले शौकत व इस्लाम की तरक्की देखकर मुस्लमान हो गए यहाँ तक की नाम इस साल का “सनतुल वफूद” वफ़ादारी का साल कहते हैं (देखो सफा ३६१ तारिख अम्बिया १२८१ हिजरी)

फिर लिखा है कि मुसलमानो को जीत पर जीत होने से आस पास के मुशरिक लोग दिक्कते व परेशानी उठाने के बाद इस्लाम की शरणागत हुए और काफिरपन भूल गए। (तारिख अम्बिया सफा ३८९ व ३६०)

अरब में गुलामी का आम दस्तूर अब तक मौजूद है। और वह हज़रत के वक़्त से जारी है। लौंडी और गुलाम जिस तरह मक्का में भेजे जाते हैं और ख्वाजा सराय बनाये जाते हैं और मक्का मौज़मा और मदीना मनव्वर बल्कि रोज़ह मुतहरह पर ख्वाजा सरायो का यकीन है। निहायत अफ़सोस के काबिल है और फिर कहा जाता है की दीन इस्लाम में जबर करना जायज़ नहीं।

एक योग्य और प्रतिष्ठित इतिहास लेखक लिखता है की अरब वाले नूह की संतान नहीं है बल्कि कृष्ण लड़के शाम की संतान में से हैं और इसी वास्ते वह शामी कहलाते हैं द्वारिका से ख़ारिज हो जाने के बाद शाम जी अरब मय (साथ) अपने सम्बन्धियों व सेवको के आ गए और उसी रोज़ से अरब आबाद हुआ वर्ना इससे पहिले वहाँ आबादी नहीं थी और अरब शब्द संस्कृत का है (यानि आर्यावः) यानी आर्यो का रास्ता मुल्क मिश्र को आर्यो की यात्रा का रास्ता और अरब का अंग्रेजी नाम अरेबिया को देखने से यह बात समझ में आजाती है। पस दरहक़ीक़त अरब के लोग शाम जी कृष्ण के बेटे की संतान में हैं।

साभार –

गौरव गिरी पंडित लेखराम जी की अमर रचनाओ में से एक पुस्तक

जिहाद – कुरआन व इस्लामी ख़ूँख़ारी

बिलकुल जिस प्रकार लेखराम जी लिख कर गए हैं उसी प्रकार लिखा गया ताकि समस्त मानव जाती इस्लाम का सच जान सके –

लिखने में यदि कही कोई त्रुटि या कुछ भूल चूक हो तो क्षमा करे –

नमस्ते —

रोम किस तरह मुसलमान हुआ ।

जिस तरह हमने अरब का वर्णन विश्वासनीय इतिहास की साक्षी से सिद्ध किया है कि वह किस जोर जुल्म से मजबूर होकर मुसलमान हुआ और किस कदर लूट घसूट से दीन मुहम्मदी किस ग़रज़ से फैलाया गया । वहीं हाल रूम व शाम का है। चुनाचि इसका खुलासा हाल फतूह शाम में दर्ज है और दरहकीकत वह देखने के लायक और दीन इस्लाम की कदर

जानने के लिए उम्दाह किताब है ।

मुआज़विनज़वल ने जो उवेदह की तरफ से दूत बनकर आया था वतारका हाकिम रूम से कहा कि या तो ईमान लाओ कुरान पर मुहम्मद पर या हमें जिजिया दो नहीं तो इस झगडे का फैसला तलवार करेगी होशियार रहो (देखो तारीख अम्बिया सका ४१३ सन् १२८१ हिजरी)

अबु उवैदाने जो अर्जी मोमिनों के अमीर उमर को लिखी उसमें लिखा था कि इसलाम की फौज हर तरफ को भेज दी गई है कि जाओ जो जो इस्लाम कबूल करे उनको अमन दो ओर जो इस्लाम कबूल न करे उन्हें तलवार से क़त्ल कर दो। (सफा ४०१ तारीख अम्बिया सन् १२८१ हिजरी) ।

हज़रत अबू बक्र ने उसामा को सिपहसलार मुकर्रर करके लश्कर को जहाद के वास्ते शाम के देश से भेजा । उसने वहां जाकर उन के खण्ड मण्ड कर दिये और तमाम काफिरों की नाक में दम कर दी जो घबराकर अपने देश को छोड़कर भाग गये । ओर मारता
डाटता वहाँ तक जा पहुचा हवाली के लोगों से बदला लिया और फिर बहुत सा माल लेकर दबलीफा रसूल की खिदमत में हाजिर हुआ । उस बक्त लड़ने बालों की कमर टूट गयी क्योंकि उन नादानों का गुमान था कि अब इस्लाम में बन्दोबस्त न रहेगा। और इस कदर ताकत न होगी कि जहाद कर सकें । (देखो तारीख अम्बिया सका ३७६ व ३७७ सन् १२८१ हिजरी)

शाम की जीत के लिये जो पत्र हजरत अवू वक्र सद्दीक ने जहाद की हिजरत (तीर्थयात्रा) के बास्ते मुअज्जम (बड़े) मक्का के लोगों के लिये उसमें लिखा है कि कर्बला और शाम के दुश्मनों ( देखो सफा १३ जिल्द १ फतूह शाम मतवूआ नवलकिशोर सन् १२८६ हिजरी)

फिर बही इतिहास वेत्ता लूट का माल हाथों हाथ आने का वर्णन करके लिखता है कि यजीद लड़का सूफियाना का और रुवैया अमिर का लड़का जो इस लश्कर के सर्दार थे कहा कि मुनासिब है की सब माल जो रुमियों से हाथ लगा है हजरत सद्दीक के हुजूर में भेजा जावे ताकि मुसलमान उस को देखकर रुमियों के जहाद का इरादा करें । (फतूह शाम जिल्द १३
सन् १२८६ हिजरी)

हज़रत बक्र सदीक शाम के जाने के बक्त यह वसीयत उमेर आस के लड़के को करते थे कि डरते खुदा से और उसकी राह में लडो और काफिरो को क़त्ल करों । (जिल्द अव्वल फतूह शाम सका १९)

शाम की एक लडाई से ६१० कैदी पकडे आये। उमरबिन आस न उन पर इस्लाम का दीन पेश किया पस कोई उनमें का मुसलमान न हुआ फिर हुक्म हुआ कि उनकी गर्दनें मार दी जावें (जिल्द अव्वल फतूह शाम सफा २५ नवलकिशोर)

दमिश्क के मुहासिरे की लडाई में लिखा है। फिर खालिदविन बलीद ने कलूजिस ओर इजराईल को अपने सामने बुलाकर उन पर इस्लाम होने को कहा मगर उन्होंने इंकार किया पस बमूजिब हुक्म वलीद के बेटे खालिद और अजूर के लड़के जरार ने इजराईल को ओर राथा बिन अमरताई ने कलूजिस को कत्ल किया (देखो फ़तूह शाम जिल्द अव्वल सफ़ा
५३ नवलकिशोर)

किताब फाजमाना तुक हिस्सा अव्वल जो देहली से छपा उसमें लिखा है कि तीन सौ साल तक मुसलमान रूम के हुक्म से हर साल १००० ईसाइयो के बच्चो को क़त्ल करने वाली फ़ौज में जबरन भर्ती करके मुसलमान किया जाता था और उनको ईसाइयो के कत्ल और जंग पर आमादह किया जाता था सिर्फ यहाँ तक ही संतोष नहीं किया जाता था बल्कि
ईसाइयों के निहायत खूबसूरत हजारों बच्चे हर साल गिलमाँ बनाये जाते और उनसे रूमी मुसलमान दीन वाले प्रकृति के विरूद्ध (इगलाम-लौंडेबाजी) काम के दोषी होते थे। और जवान होकर उन्हीं गाज़ियो के गिरोह में शामिल किये जाते थे कि बहिश्त के वारिस हों। अलमुख्तसिर मुफस्सिल देखो असल किताब ।)

जिस तरह खलीफों के वक़्त में जबरन गिरजे गिराये जाते ब बर्बाद जिये जाते थे इसी तरह शाम रूम ने भी जुल्म सितम से गिरजाओं को मसजिद बना दिया ।

साभार –
गौरव गिरी पंडित लेखराम जी की अमर रचनाओ में से एक पुस्तक
जिहाद – कुरआन व इस्लामी ख़ूँख़ारी

इस्लाम और ईसाइयत का इतिहास एक नज़र में

क्या हजरत आदम और उनकी बेगम हव्वा – कभी थे भी ?????

ये सवाल इसलिए बहुत महत्वपूर्ण है – क्योंकि – ये जानना बहुत जरुरी है इसलिए नहीं कि कोई मनगढंत बात है या सवाल है –

क्या कोई वैज्ञानिक प्रमाण मिला है आज तक जो इनके प्रेम प्रतीक –
अथवा त्याग और बलिदान की मिसाल पेश करे ??

अब कुछ लोग (ईसाई और मुस्लमान) अपने अपने धारणा के हिसाब से बेबुनियाद बात करते हुए कहेंगे की –

ये जो मानव जाती है – ये इन्ही आदम और हव्वा से चली है – जो की “स्वघोषित” अल्लाह मियां अथवा तथाकथित परमेश्वर “यहोवा” ने बनाई थी –

जब बात आती है – भगवान श्री राम और योगेश्वर श्रीकृष्ण आदि की तो इन्हे (ईसाई और मुस्लमान) को ठोस प्रमाण चाहिए –

जबकि – रामसेतु इतना बड़ा प्रमाण – श्री लंका – खुद में एक अकाट्य प्रमाण – फिर भी नहीं मानते –

महाभारत के इतने अवशेष मिले – आज भी कुरुक्षेत्र जाकर आप स्वयं देख सकते हैं – दिल्ली (इंद्रप्रस्थ) पांडवकालीन किला आज भी मौजूद है जिसे पुराना किला के नाम से जाना जाता है।

इतना कुछ है – फिर भी कुछ समूह (ईसाई और मुस्लमान) मूर्खो जैसे वही उवाच करते हैं – प्रमाण लाओ –

आज हम इस समूह (ईसाई और मुस्लमान) से कुछ जवाब मांगते हैं –

1. हज़रत आदम और हव्वा यदि मानवो के प्रथम पूर्वज हैं तो – क्यों औरत आदमी से पैदा नहीं होती ???? ऐसा इसलिए क्योंकि प्रथम औरत (हव्वा) आदम की दाई पसली से निर्मित की गयी – क्या किसी शैतान ने बाइबिल और क़ुरान के तथाकथित अल्लाह का निज़ाम उलट दिया ?? या कोई और शक्ति ने ये चमत्कार कर दिया ??? जिसे आज तक अल्लाह या यहोवा ठीक नहीं कर पाया – यानि की एक पुरुष संतान को उत्पन्न करे न की औरत ???

2. यदि बाइबिल और क़ुरान की ये बात सही है कि यहोवा या अल्लाह ने हव्वा को आदम की पसली से बनाया तो आदम यानि की सभी पुरुषो की एक पसली क्यों नहीं होती ???????? और जो हव्वा को एक पसली से ही पूरा शरीर निर्मित किया तो हव्वा को भी एक ही पसली होनी चाहिए – या यहाँ भी कोई शैतान – यहोवा या अल्लाह पर भारी पड़ गया और यहोवा और अल्लाह की बनाई संरचना में – बड़ा उलटफेर कर दिया जिसे आजतक यहोवा या अल्लाह ने कटाई छटाई का हुक्म देकर अपना बड़प्पन साबित करने की नाकाम कोशिश की ???????

3. यहोवा या अल्लाह ने आदम और हव्वा की संरचना कहा पर की ?? क्या वो स्थान किसी वैज्ञानिक अथवा researcher द्वारा खोज गया ????

4. हज़रत आदम और हव्वा ने ऐसा क्या काम किया जिसकी वजह से उन दोनों को स्वर्ग (अदन का बाग़) से बाहर निकल दिया गया ?? क्या अपने को नंगा जान लेना और जो कुछ बन पाये उससे शरीर को ढांप लेना – क्या गुनाह है ????? क्या जीवन के पेड़ से बुद्धि को जागरूक करने वाला फैला खाना पाप था ????? ये पेड़ किसके लिए स्वर्ग (अदन का बाग़) में बोया गया और किसने बोया ???? क्या खुद यहोवा या अल्लाह को ऐसे पेड़ या फल की आवश्यकता थी या है ??? अगर नहीं तो फिर आदम और हव्वा को खाने से क्यों खुद यहोवा या अल्लाह ने मना किया ??? क्या यहोवा या अल्लाह – हज़रत आदम और हव्वा को नग्न अवस्था में ही रखना चाहते थे ???? या फिर यहोवा या अल्लाह नहीं चाहता था की वो क्या है इस बात को हज़रात आदम या हव्वा जान जाये ????

5. यहोवा या अल्लाह द्वारा बनाया गया – अदन का बाग़ – जहा हजरत आदम और हव्वा रहते थे – जहा से शैतान ने इन दोनों को सच बोलने और यहोवा या अल्लाह के झूठे कथन के कारण बाहर यानि पृथ्वी पर फिकवा मारा – बेचारा यहोवा या अल्लाह – इस शैतान का फिर से कुछ न बिगाड़ पाया – खैर बिगाड़ा या नहीं हमें क्या करना – हम तो जानना चाहते हैं – ये अदन का बाग़ मिला क्या ??????

6. यहोवा या अल्लाह द्वारा – आदम और हव्वा को उनके सच बोलने की सजा देते हुए और अपने लिए उगाये अदन के बाग़ और उस बाग़ की रक्षा करने वाली खडग (तलवार) से आदम और हव्वा को दूर रखने के लिए पृथ्वी पर भेज दिया गया। मेरा सवाल है – किस प्रकार भेजा गया ??? क्या कोई विशेष विमान का प्रबंध किया गया था ???? ये सवाल इसलिए अहम है क्योंकि बाइबिल के अनुसार यहोवा उड़ सकता है – तो क्या उसकी बनाई संरचना – आदम और हव्वा को उस समय “पर” लगाकर धरती की और भेज दिया गया – या कोई अन्य विकल्प था ???

ये कुछ सवाल उठे हैं – जो भी कुछ लोग (ईसाई और मुस्लमान) श्री राम और कृष्ण के अस्तित्व पर सवाल उठाते हैं – अब कुछ ठोस और इतिहास की नज़र में ऐसे अकाट्य प्रमाण लाओ जिससे हज़रत आदम और हव्वा का अस्तित्व साबित हो सके – नहीं तो फ़र्ज़ी आधार पर की गयी मनगढंत कल्पनाओ को खुद ही मानो – और ढोल पीटो – झूठ के पैर नहीं होते – और सत्य कभी हारता नहीं – ध्यान रखना –

वो जरा इन सवालो के तर्कपूर्ण और वैज्ञानिक आधार पर जवाब दे – नहीं तो अपना मुह बंद रखा करे।

नोट : कृपया दिमाग खोलकर और शांतिपूर्ण तरीके से तार्किक चर्चा करे – आपका स्वागत है – गाली गलौच अथवा असभ्य बर्ताव करने पर आप हारे हुए और जानवर घोषित किये जायेंगे।

सहयोग के लिए –

धन्यवाद –