Category Archives: Islam

HADEES : A MOSAIC PRACTICE REVIVED

A MOSAIC PRACTICE REVIVED

The punishment of stoning to death (rajm) is Mosaic.  The Old Testament prescribes it for adultery and fornication (Deuteronomy 22:19-23), and also for those who �serve other gods� (Deuteronomy 13:10).  Muhammad retained it for adultery but prescribed death by other means for crimes like apostasy.

Among the Jews themselves, by the time of Muhammad, stoning had fallen into disuse.  According to one tradition, a Jew and a Jewess who had committed adultery were brought to Muhammad.  He asked the Jews what their Torah prescribed for such offenses.  The Jews replied: �We darken their [the culprits�] faces and make them ride on a donkey with their faces turned to the opposite direction.� Muhammad said: �Bring the Torah.� The prescribed punishment was found to be stoning to death.  So �Allah�s Messenger pronounced judgment about both of them and they were stoned,� says �Abdullah, the son of �Umar.  �I was one of those who stoned them, and I saw him [the Jew] protecting her [the Jewess] with his body,� he adds (4211).

Another hadIs gives more details about the same incident.  The Jews sent the two accused to Muhammad, telling their chiefs: �Go to Muhammad; if he commands you to blacken the face and award flogging as punishment, then accept it; but if he gives verdict for stoning, then avoid it.� Muhammad was grieved at this softening of the Scriptures.  But Allah comforted him: �O Messenger, the behaviour of those who vie with one another in denying the truth should not grieve you� (QurAn 5:41).  Allah also told him that �they who do not judge in accordance with what Allah has revealed-they are indeed wrongdoers, they are the iniquitous� (5:45, 47).  The man and woman were stoned to death at Muhammad�s order, and he was happy and thanked Allah: �O Allah, I am the first to revive thy command when they had made it dead� (4214).

author : ram swarup

हदीस : मुसलमान और मृत्युदंड

मुसलमान और मृत्युदंड

एक मुसलमान को जो ”यह गवाही दे कि अल्लाह के सिवा अन्य आराध्य नहीं, और मैं (मुहम्मद) उस का रसूल हूँ“ सिर्फ़ तभी मृत्यु-दंड दिया जा सकता है, जब वह शादीशुदा होते हुए परस्त्री-गामी हो, अथवा जब उसने किसी को मार डाला हो (अनेक इस्लामी न्यायविदों के अनुसार किसी मुसलमान को मार डाला हो) अथवा यदि उसने इस्लाम का त्याग किया हो (4152-4155) अनुवादक हमें बतलाते हैं कि इस्लाम के न्यायविदों में इस बात पर लगभग सहमति है कि इस्लाम त्यागने की सजा मौत है। जो लोग ऐसी सजा को बर्बर मानते हैं, उन्हें इसके बारे में अनुवादक की मार्जना और युक्ति पढ़नी चाहिए (टि0 2132)।

author : ram swarup

HADEES : MODEL PERSECUTION

MODEL PERSECUTION

These cases provide a model for all future persecutions.  When a woman is to be stoned, a chest-deep hole is dug for her, just as was done in the case of GhamdIya (the woman of GhAmid), so that her nakedness is not exposed and the modesty of the watching multitude is not offended.  No such hole need be dug for a man, as no such hole was dug for MA�iz, the self-confessed adulterer whose case we have just narrated.

The stoning is begun by the witnesses, followed by the imAm or qAzI, and then by the participating believers.  But in the case of a self-confessed criminal, the first stone is cast by the imAm or qAzI, following the example of the Prophet in the case of GhamdIya.  And then the multitudes follow.  The QurAn and the Sunnah, in fact, enjoin the believers to both watch and actively participate in the execution.  �Do not let pity for them take hold of you in Allah�s religion. . . . and let a party of the believers witness their torment,� the QurAn urges while prescribing punishment for the fornicators.

हदीस : क़िसास

क़िसास

क़िसास का शाब्दिक अर्थ है ”दुश्मन के पदचिन्हों का पीछा करना।“ लेकिन क़ानून में उसका पारिभाषिक अर्थ है, बदले की सज़ा। आंख के बदले में आंखें, यह मूसा के क़ानून का लेक्स टेलीआॅनिस अर्थात् बदला लेने का नियम है।

 

किसी यहूदी ने एक अंसार लड़की का सिर फोड़ दिया और वह मर गयी। मुहम्मद ने हुक्म दिया कि उस यहूदी के सिर को दो पत्थरों के बीच में दबाकर कुचल डाला जाये (4138)। पर एक दूसरे मामले में रक्तपात-शोध की व्यवस्था दी गयी। मुहम्मद के साथियों में से एक की बहन इस मामले में दोषी थी। उसने किसी के दांत तोड़ डाले थे। मामला मुहम्मद के पास पहुंचा। वे उस लड़की से बोले-”अल्लाह की किताब में इसकी सज़ा क़िसास है।“ उसने बहुत मिन्नत की और तब पीड़ित व्यक्ति के नज़दीकी रिश्तेदारों को हर्जाने की रक़म दे देने के बाद लड़की को छोड़ दिया गया (4151)।

author : ram swarup

HADEES: FORNICATION AND ADULTERY JOINED

FORNICATION AND ADULTERY JOINED

In a case of zinA in which one party is married and the other party unmarried, the former is punished for adultery and the latter for fornication.  AbU Huraira narrates one such case involving a man and woman belonging to desert tribes.  A young bachelor found employment as a servant in a certain household and committed zinA with the master�s wife.  His father gave one hundred goats and a slave-girl in ransom, but when the case was brought before Muhammad, he judged it �according to the Book of Allah.� He ordered the slave-girl and the goats to be returned and punished the young man for fornication �with one hundred lashes and exile for one year.� The woman was punished for adultery.  �Allah�s Messenger made pronouncement about her and she was stoned to death� (4029).

author : ram swarup

हदीस : मत-त्याग और विद्रोह के लिए मृत्युदंड

मत-त्याग और विद्रोह के लिए मृत्युदंड

कोई भी व्यक्ति इस्लाम कबूल करने के लिए पूरी तरह आजाद है। लेकिन उसे इस्लाम को छोड़ने की आजादी नहीं है। मत-त्याग-इस्लाम को छोड़ने-की सज़ा मौत है। छूट केवल इतनी है कि सज़ा में उसे जला कर मारने का विधान नहीं है। “एक बार लोगों के एक दल ने इस्लाम को त्याग दिया। अली ने उन्हें जला कर मार डाला। जब इब्न अब्बास ने इसके बारे में सुना तो वह बोला-“अगर मैं होता तो मैंने उन्हें तलवार से मारा होता, क्योंकि मैंने रसूल-अल्लाह को यह कहते सुना है कि इस्लाम का त्याग करने वाले को मार डालो, पर उसे जला कर मत मारो; क्योंकि पापियों को सज़ा देने के लिए आग अल्लाह का साधन है“ (तिरमिज़ी, जिल्द एक, 1357)।1

 

उक्ल कबीले के आठ लोग मुसलमान बन गये, और वे मदीना में आ बसे। मदीना की आबोहवा उन्हें मुवाफ़िक़ नहीं आयी। मुहम्मद ने उन्हें इज़ाज़त दी कि ”सदके के ऊंटों के पास जाओ और उनका दूध और पेशाब पीओ“ (पेशाब को औषधि समझा जाता था)2 पैगम्बर के नियन्त्रण से बाहर होते ही उन लोगों ने ऊंटों के रखवालों को मार डाला, ऊंट छीन लिए और इस्लाम त्याग दिया। पैगम्बर ने एक टोह लेने वाले विशेषज्ञ के साथ बीस अंसार (मदीनावासी) उनके पीछे भेजे। विशेषज्ञ का काम उनके पदचिन्हों का पीछा करना था। मत त्यागने वाले वापस लाये गये। ”उन्होंने (पाक पैगम्बर ने) उन लोगों के हाथ और पांव कटवा दिए, उनकी आंखें निकलवा ली और उन्हें पथरीली ज़मीन पर फिंकवा दिया, जहां वे दम तोड़ते तक पड़े रहे“ (4130)। एक दूसरी हदीस बतलाती हैं कि जब वे लोग तोड़ते पथरीली ज़मीन पर तड़प रहे थे “तब वे पानी मांग रहे थे, लेकिन उन्हें पानी नहीं दिया गया“ (4132)।

 

अनुवादक कुरान की उस आयत का हवाला देते हैं, जिसके मुताबिक यह सज़ा दी गयी-”जो लोग अल्लाह और उसके रसूल से लड़ाई करें और मुल्क में फ़िसाद करने की कोशिश करें, उनकी उचित सजा यही है कि उन सबको कत्ल कर दिया जाये अथवा उन्हें सूली पर चढ़ा दिया जाये अथवा उनके एक तरफ के हाथ और दूसरी तरफ से पांव काट डाले जायें अथवा उन्हें मुल्क से निकाल दिया जाये“ (कुरान 5/36)।

 

  1. अबू हुरैरा बतलाते हैं-”रसूल-अल्लाह ने हमें एक हमले पर भेजा। उन्होंने हमें आदेश दिया कि कुरैशों से मुठभेड़ हो तो हम दो कुरैशों को जला डालें। उन्होंने हमें उन दोनों के नाम बता दिये। लेकिन फिर जब हम रुख़सत के लिए उनके पास पहुंचे, तब वे बोले उन्हें तलवार से मार डालना, क्योंकि आग से सजा देना अल्लाह का एकाधिकार है।“ (सही बुखारी शरीफ, सही 1219)।

 

  1. सदक़े में मुहम्मद को जो ऊंट मिलते थे, उनको मदीना के बाहर कुछ दूरी पर चरने के लिए भेजा जाता था।

author : ram swarup

HADEES : SELF-CONFESSED ADULTERY

SELF-CONFESSED ADULTERY

There are some gruesome cases.  A fellow named MA�iz came to Muhammad and told him that he had committed adultery.  He repeated his confession four times.  Confessing four times stands for the four witnesses who are required to testify in case of adultery.  Upon finding that the man was married and also not mad, Muhammad ordered him to be stoned to death.  �I was one of those who stoned him,� says JAbir b. �Abdullah, the narrator of this hadIs (4196).

After this incident Muhammad harangued his followers: �Behold, as we set out for JihAd in the cause of Allah, one of you lagged behind and shrieked like the bleating of a male goat, and gave a small quantity of milk.  By Allah, in case I get hold of him, I shall certainly punish him� (4198).  The translator explains that by the metaphor of goat and milk, the Prophet means sexual lust and semen.

Similarly, a woman of GhAmid, a branch of Azd, came to Muhammad and told him that she had become pregnant as a result of fornication.  She was spared till she had given birth to her child.  An ansAr took the responsibility of suckling the infant and �she was then stoned to death� (4025).  Another hadIs tells us how it was done.  �She was put in a ditch up to her chest and he [Muhammad] commanded people and they stoned her� (4206).  Other traditions tell us that the Prophet himself cast the first stone.

author : ram swarup